नीमच। Neemuch Jailbreak मध्य प्रदेश् के नीमच में जेल ब्रेक के मास्टर माइंड विनोद डांगी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। शुरुआती पूछताछ में जेल ब्रेक की साजिश में उसने कई लोगों के शामिल होने की बात कबूली है। इनमें फरार कै दियों के परिजन भी शामिल हैं।

पुलिस अब तक मास्टर माइंड के साथियों और जेल से भागे कै दियों की तलाश में दबिश दे रही है। इसके अलावा जिला जेल कनावटी के प्रहरी विजेंद्र सिंह (32) पुत्र रामजीलाल धाकड़, ईश्वर सिंह (26) पुत्र परसुराम निवासी कनावटी और दो कैदियों पवन धाकड़ व रामप्रसाद को भी गिरफ्तार किया है। विनोद से पूछताछ के आधार पर सात आरोपितों के खिलाफ प्रकरण दर्ज कि या है।

बता दें कि शहर से करीब चार कि मी दूर जिला जेल कनावटी से रविवार तड़के तीन से चार बजे के बीच चार कै दी भाग निकले थे। इनकी पहचान नाहर सिंह बंजारा (20), दुबेलाल धुर्वे (19), पंकज मोगिया (21) और लेखराम बावरी (29) के रूप में हुई है। कैदियों ने बैरक नंबर 11 के दो सरिये काटे और बाहर से फेंकी गई रस्सी की मदद से दीवार फांदी थी।

इस मामले में लापरवाही के चलते जेल अधीक्षक आरपी वसूनिया, उप जेल अधीक्षक रंभा चौहान और चार संतरियों को निलंबित कर दिया गया था। जांच में सामने आए तथ्यों के आधार पर पुलिस ने सुआखेड़ा के विनोद पुत्र धारा सिंह डांगी को गिरफ्तार कि या। विनोद जेल ब्रेक का मास्टर माइंड है और उसने साजिश रचने के साथ बाहर से इंतजाम जुटाए थे। चारों कै दियों को भागने में मदद करने वालों में विनोद के साथ दो कै दियों के परिजन और 4-5 अन्य युवक शामिल थे।

पहले भी रची थी साजिश

मास्टर माइंड विनोद डांगी और कै दियों ने पहले भी जेल तोड़ने की साजिश रची थी। विनोद मादक पदार्थ तस्करी के आरोप में साढ़े तीन माह जिला जेल में इन कै दियों के साथ बंद था, लेकिन जमानत की आस में घटना को अंजाम नहीं दिया। 11 जून को विनोद जमानत के बाद जेल से बाहर आया और इस साजिश को अंजाम दिया।

कैदियों की तलाश में छह टीमें रवाना

जेल ब्रेक मामले में मास्टर माइंड विनोद डांगी को गिरफ्तार कि या है। उसने जेल ब्रेक में मददगार साथियों के नाम कबूले हैं। उनकी तलाश की जा रही है। वहीं, फरार कैदियों की तलाश में छह टीमें राजस्थान रवाना की गई हैं। जांच में जेल के कर्मचारियों की भूमिका संदिग्ध पाई जाती है तो उन्हें भी प्रकरण में आरोपित बनाया जाएगा।

- राकेश कु मार सगर, पुलिस अधीक्षक, नीमच

मंत्री वर्मा बोले- जो जेल से भागे हैं, उनका एनकाउंटर हो

उज्जैन। मप्र के लोक निर्माण और जिले के प्रभारी मंत्री सज्जनसिंह वर्मा ने कहा कि जो लोग जेल से भागे हैं, उनका एनकाउंटर होना चाहिए, ताकि दूसरों में भी डर पैदा हो। जेल प्रशासन को चुस्त और साधन संपन्न् बनाना होगा। भोपाल जेल से जब कैदी भागे थे, तब भी एनकाउंटर हुए थे।

Posted By: Prashant Pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस