सिंगोली (नईदुनिया न्यूज)। श्री 1008 आदिनाथ दिगंबर जिन मंदिर श्रीकुन्दकुन्द कहान धार्मिक एवं परमार्थिक ट्रस्ट व दिगंबर जैन मुमुक्षु मंडल द्वारा आध्यात्मिक सत्पुरूष कानजी स्वामी की मंगल प्रभावना योग से नगर में पंच कल्याणक प्रतिष्ठा महोत्सव में शनिवार को दूसरे दिन भगवान का गर्भ कल्याणक महोत्सव बड़े धूमधाम से मनाया। इस दौरान इन्द्र दरबार सजा ओर राजसभा बुला कर महाराजा समुद्र विजय ने भगवान की माता को आये सोलह सपनों का मतलब सभी को समझाया। भगवान के जन्म लेने की बात बताई। इस पर शोरीपुर नगरी में खुशी का वातावरण निर्मित हो गया। भक्तगणों ने गर्भ कल्याणक पूजन कर भगवान के गर्भ कल्याणक महोत्सव के अवसर पर दोपहर तीन बजे हाथी, घोड़े, रथों के साथ भव्य शोभायात्रा निकाली जो आयोजन स्थल शोरीपुर नगरी से नव निर्मित जिन मंदिर तक पहुंची। जहां पर श्रीवेदी का शुद्धीकरण तथा नवीन जिन मंदिर में सौधर्म इन्द्र इन्द्राणियों द्वारा पूजन पूर्वक श्री जिनवाणी मंदिर में 37 ग्रन्थ एवं आचार्य चरण स्थापना के साथ प्रतिष्ठा सम्बधित विभिन कार्यक्रम किए गए। कार्यक्रम की जानकारी देते हुए आयोजन समिति के अध्यक्ष प्रेमचंद बजाज कोटा, कार्याध्यक्ष विजय बडजात्या इन्दौर एवं महामंत्री नवीन धनोत्या ने बताया की पंचकल्याणक प्रतिष्ठा महोत्सव को लेकर समाजजनों सहित नगर वासियों में उत्साह है। धानोत्या ने बताया कि आज भगवान का गर्भ कल्याणक महोत्सव विधि विधान के साथ बड़े हर्ष के साथ मनाया गया। जिसमें भव्य शोभायात्रा निकली तथा रात्रि में जिनेंद्र भक्ती, शास्त्र वाचन, स्वाध्याय के साथ आध्यात्मिक सांस्कृतिक कार्यक्रम होगा। पंचकल्याणक महोत्सव में सभी कार्यक्रम निर्देशक रजनीश भाई दोषी हिम्मतनगर एवं सह निर्देशक अशोक लुहाडिया मंगलायतन व पंडित देवेंद्र जैन बिजौलिया के निर्देशन में वरिष्ठ प्रतिष्ठाचार्य बाल ब्रह्मचारी पंडित जतिशचंद्र शास्त्री के सान्निध्य में सम्पन्ना हो रहे है। गर्भ कल्याणक महोत्सव में दिल्ली, मुम्बई, बैंगलोर, इन्दौर, उदयपुर, कोटा, भीलवाड़ा, बिजौलिया, बेंगू, रावतभाटा सहित अनेक स्थानों के श्रावक-श्राविकाओ ने भाग लिया।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local