नीमच। देवकी रुंडी में लापता दो बच्चों की घर के पास ही खाली प्लाट पर भरे पानी में डूबने से मौत हो गई। बालिका का शव सोमवार रात और बालक का शव मंगलवार सुबह मिला। इस घटना से मासूमों के परिजन सदमे में हैं।

यह हादसा शहर के वार्ड क्रमांक एक में रावण रुंडी के समीप देवकी रुंडी में हुआ। देवकी रुंडी क्षेत्र से सोमवार दोपहर करीब 3 बजे से रतन पिता श्याम भील (12) और शाम करीब 5 बजे से लक्ष्मी पिता बाबू भील (5) लापता थे। उन्हें परिजन और क्षेत्रवासी तलाश कर रहे थे।

परिजनों ने नीमच सिटी थाने पर भी सूचना दी थी। परिजन और पुलिस इन बच्चों को तलाश कर रहे थे। सोमवार रात करीब 11 बजे लक्ष्मी का शव घर के नजदीक खाली प्लाटों में भरे पानी में मिला। वहीं मंगलवार सुबह करीब 6 बजे घर से करीब 50 मीटर दूर रतन का शव भी पानी में मिला। इस घटना से क्षेत्र में शोक छा गया।

हादसे की सूचना पर पहुंची नीमच सिटी पुलिस ने बच्चों के शव को पीएम के लिए जिला अस्पताल भेजा। जहां से पीएम के बाद उनके शवों को परिजनों के सुपुर्द कर दिया गया। पुलिस के अनुसार लक्ष्मी और रतन नजदीक के सरकारी स्कू ल में पढ़ते थे। लक्ष्मी कक्षा पहली और रतन कक्षा तीसरी का छात्र था। दोनों के माता-पिता मजदूरी करते हैं। मंगलवार को दोनों बच्चों का अंतिम संस्कार भी कर दिया।

गरीब परिवार पर आफत

रतन के पिता श्याम और मां देवबाई मजदूरी करते हैं। उनके दो बेटे बबलू और रोशन हैं, वहीं लक्ष्मी के पिता बाबू और मां लीलाबाई भी मजदूरी करते हैं। उनके लक्ष्मी के अलावा दो बेटे राहुल, अर्जुन और बेटी पायल भी है।

तहसीलदार और टीआई पहुंचे

घटनास्थल और जिला अस्पताल में जिला प्रशासन और पुलिस विभाग के अधिकारी पहुंचे। तहसीलदार अजय हिंगे भी जिला अस्पताल पहुंचे और उन्होंने रतन और लक्ष्मी के माता-पिता और परिजनों से संवाद कि या। उन्हें सांत्वना दी।

पूर्व में भी हादसा

शहर में पूर्व में भी बारिश के खाली प्लॉट और गड्ढों में पानी से भरने से हादसा हो चुका है। नूतन स्कू ल के समीप भी वर्ष 2018 में दो बच्चों की गड्ढे में भरे पानी में डूबने से मौत हो गई थी, लेकि न इसके बाद भी नगर पालिका और अन्य जिम्मेदार विभाग ने घटना से सबक नहीं लिया।

Posted By: Hemant Upadhyay