पन्ना, नईदुनिया प्रतिनिधि। प्रदेश के डेढ़ दर्जन जिलों में बर्ड फ्लू की पुष्टि होने के बीच अन्य जिलों से भी पक्षियों के मरने की खबरें आ रही हैं। पन्ना शहर में भी सोमवार को बड़ी संख्या में कबूतरों के मरने की जानकारी मिली है। पन्ना शहर के मध्य में स्थित प्राचीन जगन्नाथ स्वामी मंदिर की छत में दो दर्जन से अधिक कबूतर मृत पाए गए हैं। इतनी बड़ी संख्या में कबूतरों के मरने की खबर से शहर में हड़कंप मचा हुआ है। पशु चिकित्सा विभाग की टीम ने आज सुबह 10:30 बजे मंदिर की छत से 26 मृत कबूतर एकत्र कर जांच हेतु सैंपल भोपाल भेजा है। जांच रिपोर्ट आने पर ही स्थिति स्पष्ट हो सकेगी।

उप संचालक पशु चिकित्सा विभाग डॉ वीके त्रिपाठी ने जानकारी देते हुए बताया कि सोमवार की सुबह उन्हें सूचना मिली थी कि जगन्नाथ स्वामी मंदिर में कई कबूतर मृत पड़े हैं। सूचना मिलते ही डॉक्टर नरेंद्र सिंह बुंदेला के साथ एक टीम तुरंत भेजी गई, जहां 26 मृत कबूतर पाये गये हैं। डॉक्टर त्रिपाठी ने बताया कि कबूतर कई दिनों से मर रहे हैं, क्योंकि मृत पाये गये कबूतरों में कई सड़ चुके हैं।

पशु चिकित्सक डॉक्टर नरेंद्र सिंह बुंदेला ने बताया कि मंदिर में कबूतरों के मरने की जानकारी नगर पालिका प्रशासन पन्ना को दे दी गई है तथा मंदिर को सैनिटाइज करने के लिए कहा गया है। कबूतरों की मौत कैसे हुई, यह पूछे जाने पर डॉ. बुंदेला ने कहा कि अभी इस संबंध में कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी। जांच रिपोर्ट आने पर ही स्थिति स्पष्ट हो सकेगी कि कबूतरों की मौत वर्ल्ड फ्लू के संक्रमण से हुई या इसके पीछे अन्य कोई वजह है। आपने बताया कि पन्ना शहर के अलावा जिले के अजयगढ़ व पवई में मुर्गी मरने तथा ककरहटी में एक कौवा के मरने की सूचना मिली है। इन सभी के भी सैंपल जांच के लिए भेजे गये हैं।

लक्षण दिखने पर लें डॉक्टर की सलाह

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एल.के. तिवारी ने बर्डफ्लू के संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि बर्डफ्लू की बीमारी पूर्व में भी प्रदेश में पक्षियों में फैल चुकी है। मानव में यह बीमारी बहुत कम ही फैलती है। बर्डफ्लू की बीमारी का इलाज उपलब्ध है। जिला चिकित्सालय में भी इस बीमारी की दवाएं उपलब्ध हैं। इस बीमारी में भी मरीज को सर्दी, जुखाम, बुखार होता है। लापरवाही बरतने पर इसका असर फेफडों में हो जाने पर रोगी गंभीर अवस्था में पहुंच जाता है। किसी भी व्यक्ति को सर्दी, जुखाम, बुखार होने पर तुरंत डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए। कलेक्टर संजय कुमार मिश्र के निर्देशानुसार बर्ड फ्लू बीमारी की जानकारियों के आदान-प्रदान के लिए जिला स्तरीय नियंत्रण कक्ष स्थापित किया गया है। यह नियंत्रण कक्ष 24 घंटे कार्य करेंगा। जिससे कहीं भी बर्डफ्लू की बीमारी संबंधी कार्यवाही के लिए प्रभारी अधिकारी डॉ. प्रियंका सिंह को बनाया गया है।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस