Radio Tagging : पन्ना (नईदुनिया प्रतिनिधि)। पन्ना टाइगर रिजर्व में गिद्धों के रहवास व प्रवास मार्ग के अध्ययन के लिए भारतीय वन्यजीव संस्थान देहरादून की मदद से फरवरी में 25 गिद्धों को रेडियो टैगिंग की गई थी। इसके बाद से गिद्धों के रहवास, प्रवास और आवागमन के संबंध में कई तथ्य सामने आए हैं। अभी तक चार हिमालयन ग्रिफिन गिद्ध हजारों किमी की दूरी तय कर चीन तक पहुंच गए हैं। जबकि एक गिद्ध पाकिस्तान पहुंच गया है। अन्य गिद्धों में कुछ की लोकेशन देश में ही है, जिनकी लोकेशन समय-समय पर देहरादून से दी जाती है।

पन्ना टाइगर रिजर्व के क्षेत्र संचालक उत्तम कुमार शर्मा ने बताया कि कुछ गिद्ध पन्नाा टाइगर रिजर्व से भ्रमण करते हुए पालपुर कूनो वन्य प्राणी अभयारण्य श्योपुर पहुंचकर वापस आए हैं। एक इंडियन वल्चर पन्ना टाइगर रिजर्व से भ्रमण करते हुए बिहार में सोन नदी तक की यात्रा कर वापस आया और उसने अचानकमार वन्य प्राणी अभयारण्य अमरकंटक का भी भ्रमण किया है। उन्होंने बताया कि कि रेड हेडेड गिद्ध ज्यादातर लैंडस्केप में ही विचरण कर रहे हैं।

यहां है लोकेशन

चार हिमालयन ग्रिफिन गिद्ध एचजी-8673, एचजी-8677, एचजी-8654 और एचजी-6987 भारतीय सीमा पार कर चुके हैं। वर्तमान में वे चीन के तिब्बती क्षेत्र काराकोरम रेंज, नेपाल और चीन के तिब्बती क्षेत्र के पास चीन के उईगर क्षेत्र में हैं। पहला हिमालयन ग्रिफिन एचजी- 8673 चीन के तिब्बत क्षेत्र में शिगात्से शहर के पास पहुंच गया है। इस गिद्ध ने 7500 किलोमीटर से अधिक की यात्रा लगभग 60 दिन में पूरी की है। इसके अलावा यूरेशियन ग्रिफिन वल्चर ईजी-8643 वर्तमान में पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के भावलपुर जिले के लाल शुहानरा नेशनल पार्क में है। वह आगे पश्चिम दिशा की ओर बढ़ रहा है।

इन्हें किया टैग : 13 इंडियन वल्चर, दो रेड हेडेड वल्चर, आठ हिमालयन ग्रिफिन व दो यूरेशियन ग्रिफिन वल्चर।

गिद्धों का स्वर्ग है धुंधुवा सेहा : पन्ना टाइगर रिजर्व का धुंधुवा सेहा गिद्धों का स्वर्ग कहा जाता है। ठंड के दिनों में इस गहरे सेहा की चट्टानों में बड़ी संख्या में गिद्ध धूप सेंकते नजर आते हैं। यहां की आवोहवा उनके अनुकूल है। यहां पर गिद्धों की सात प्रजातियां पाई जाती हैं, जिनमें चार प्रजातियां पन्नाा टाइगर रिजर्व की हैं। शेष तीन प्रजातियां प्रवासी गिद्धों की हैं। ठंड के मौसम में प्रवासी गिद्ध यहां आकर अंडे देते हैं और गर्मी आने तक अपने मूल निवास लौट जाते हैं।

प्रदेश में सबसे ज्यादा 1774 गिद्ध पाए गए : क्षेत्र संचालक उत्तम कुमार शर्मा ने बताया कि 2020-21 की गणना में पन्ना टाइगर रिजर्व में 722 गिद्ध पाए गए थे। वहीं जिले के उत्तर व दक्षिण वन मंडल को मिलाकर यहां कुल 1774 गिद्ध पाए गए थे। प्रदेश में गिद्धों की कुल संख्या 9408 थी।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close