पन्ना, नईदुनिया प्रतिनिधि। जिले में शासकीय धान खरीदी में किस तरीके की अनियमितताएं चल रही हैं यह उस समय सच पाया गया जब उत्तर प्रदेश के लखनऊ से तीन ट्रक धान कटनी दमोह होते हुए पन्ना जिले की सिमरिया खरीदी केंद्र मंडी के अंदर पहुंची। जिसमें दो ट्रक धान मंडी के कर्मचारियों द्वारा खाली करा दी गई थी और ट्रक पल्लेदारों से खाली कराया जा रहा था। इसी बीच एसडीएम पवई को जानकारी मिली तो उन्होंने तत्काल कार्रवाई करने मौके पर जा पहुंचे लेकिन तब तक दो ट्रक धान को अन लोड कर कर वापस जाने में सफल हो चुके थे। तीसरा ट्रक मौके पर पकड़ा गया। साथ ही अन्य दो ट्रक खाली किया गया धान भी मौके पर एसडीएम द्वारा जब्‍त की गई। बताया गया है कि ट्रकों में लगभग 1000 क्विंटल धान लाया गया था। जब्‍त धान की कीमत लगभग पौने दो करोड़ रुपये बताई जा रही है।

एसडीएम कर रहे जांच : पवई एसडीएम कुशल सिंह गौतम द्वारा सिमरिया खरीदी केंद्र पहुंचकर ट्रक को जब्‍त करते हुए मंडी में लाए गए अन्य यूपी के ट्रकों की धान को भी जब्‍त कर उसकी जांच की जा रही है। मालूम हो कि पन्ना जिले में धान खरीदी के लिए गठित कुछ समूह समितियों द्वारा किसानों का पंजीयन कर बड़ी मात्रा में उत्तर प्रदेश से धान आयात कर मध्यप्रदेश शासन को सरेआम चूना लगाया जा रहा है।

मंडी के कर्मचारियों ने रात में खोला था गेट : ट्रक से धान की बोरियां पल्लेदारों के माध्यम से उतारी जा रही थी। यूपी से अधिक मात्रा में अवैध धान ट्रक के माध्यम से सिमरिया मंडी पहुंचती है और खरीदी केंद्रों में खाली होकर चले जाते हैं। मंगलवार को जब एसडीएम द्वारा मंडी का निरीक्षण किया गया तो मौके पर धान से भरा ट्रक खाली हो रहा था। जिस पर कार्रवाई करते हुए ट्रक को जब्‍त कर चालक से पूछताछ की गई तो उन्होंने बताया कि रात में मंडी के कर्मचारियों द्वारा गेट खोला गया तभी हम मंडी के अंदर आए थे। स्थानीय लोगों का कहना है कि सिमरिया मंडी के कर्मचारियों के ऊपर कब होगी कार्रवाई क्योंकि रात में गेट का ताला मंडी के ही कर्मचारी खोलते हैं।

Posted By: Brajesh Shukla

NaiDunia Local
NaiDunia Local