बॉटम खबर...

- लॉकडाउन के चलते श्री हनुमान जयंती पर नहीं होगा कोई आयोजन

फोटोः07आरएसएन 10

बरेली (नवदुनिया न्यूज)। सन 1965 से लेकर बीते साल तक श्री हनुमान जयंती पर छींद दरबार में लगने वाला भक्तों का मेला इस बार नहीं लगेगा। कोरोना संक्रमण में मद्देनजर पूरे देश मे लागू लॉक डाउन के चलते आज मन्दिर पर कोई आयोजन नहीं होगा और न ही कि सी को प्रवेश मिलेगा। बीते 55 साल में ऐसा पहली बार होगा जब छींद वाले दादाजी के दरबार में श्री हनुमान जयंती पर कोई आयोजन न हो।

उल्लेखनीय है कि कलियुग में भगवान के दर्शन और अपने पाप कटने की प्रत्याशा में प्रति मंगलवार हजारों की संख्या में भक्त जिले के प्रसिद्ध छींद धाम पहुंचते हैं। मान्यता है कि यहां पर जो भी भक्त 5 मंगलवार या शनिवार को नियम से आता है और अलसुबह चार बजे की आरती में शामिल होता है उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। छींद धाम के इस मंदिर की विशेषता है यह है हनुमान जी कि दक्षिण मुखी मूर्ति यहां विराजमान है जिसे शस्त्रों के अनुसार सिद्ध माना गया है। भक्त बताते हैं कि 500 साल से भी पुराने पीपल के पेड़ के नीचे विराजे हनुमन्त लला के दर्शन मात्र से ही पाप कट जाते हैं।

मंदिर से जुड़ा यह है इतिहास

बताते है कि छींद गांव में वर्षों पुराना यह पीपल का पेड़ है, जिसके नीचे हनुमान जी की प्रतिमा विराजमान है। ऐसा कहा जाता है कि श्री हनुमान के एक उपासक ने इसे बाहर निकालकर स्थापित करवाया। अब उसी वृक्ष के नीचे यह विशाल मंदिर बन गया है। देखी गई। यहां पर चना, गुड़ नारियल और मिठाई का प्रसाद चढ़ाया जाता है। इस स्थान पर मूर्ति की स्थापना 1965 में हुई थी, बताते हैं तब मूर्ति मात्र एक फिट की थी लेकि न चमत्कारों का सिलसिला बढ़ता रहा लोगों की आस्था बढ़ती रही और मूर्ति भी बढ़ती गई जो अब लगभग पांच फिट ऊंची है। यहां प्रतिमा की स्थापना स्वर्गीय धन्नुलाल रघुवंशी ने की थी।

बॉक्स....

आज नहीं निकलेगा चल समारोह, घर में होगा पूजा-पाठ

सुल्तानपुर। श्रीराम जानकी मंदिर के तत्वाधान में श्री हनुमान जन्मोत्सव पर होने वाले कार्यक्रम, जिसमें विशाल चल समारोह ध्वज यात्रा भगवा पगड़ी में चलती युवाओं की सेना इन सबको कोरो न महामारी के चलते स्थगित करने का श्रीहनुमान जन्मोत्सव समिति ने निर्णय लिया है। यह विशाल कार्यक्रम अब सूक्ष्म रुप में श्रीराम जानकी मंदिर में पुरोहित रवि शंकर शर्मा की मौजूदगी में भगवान महावीर को चोलाए वस्त्र पहनाकर भगवान का श्रृंगार कर भोग लगा कर प्रसादी वितरण की जाएगी। इस दौरान सोशल डिस्ट्रेसिंग का पालन करते हुए श्री हनुमान जन्मोत्सव मनाया जाएगा और ईश्वर से इस महामारी की मुक्ति की प्रार्थना की जाएगी।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना