रायसेन (नवदुनिया प्रतिनिधि)।

जिले में लगातार दूसरे दिन सोमवार को भी मानसून की वर्षा हुई। जिससे धान की बोवनी के लिए तैयार खेतों में पानी भरना शुरू हो गया है। इस वर्ष करीब तीन लाख हेक्टेयर में धान की बोवनी होने का अनुमान है। पिछले वर्ष धान की बंपर पैदावार हुई थी। इस बार भी जिले में बासमती धान की अच्छी पैदावार होने की किसानों को उम्मीद है। जिले में 1 जून से 20 जून 2022 तक 56.8 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की गई है जो कि गत वर्ष इसी अवधि में हुई औसत वर्षा से 110.4 मिलीमीटर कम है। जिले की वर्षा ऋतु में सामान्य औसत वर्षा 1197.1 मिलीमीटर है। अधीक्षक भू-अभिलेख द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार 1 जून से 20 जून तक जिले के वर्षामापी केन्द्र रायसेन में 48 मिलीमीटर, गैरतगंज में 114.4, बेगमगंज में 97, सिलवानी में 67.8, गौहरगंज में 18, बरेली में 31, उदयपुरा में 58.2, बाड़ी में 43.2, सुल्तानपुर में 31.2 तथा वर्षामापी केन्द्र देवरी में 59.1 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई है। जिले में बीते 24 घंटे में 20 जून को प्रातः 8 बजे तक 19.4 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की गई। इस दौरान वर्षामापी केन्द्र रायसेन में 18.2 गैरतगंज में 36.8, बेगमगंज में 23, सिलवानी में 22.4, बरेली में 16, उदयपुरा में 24, बाड़ी में 4, सुल्तानपुर में 1.3 तथा वर्षामापी केन्द्र देवरी में 48.1 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई।

.......

थाने के सामने गुलमोहर का पेड़ गिरा, कोई जनहानि नहीं-

सिलवानी। मौसम लगातार करवट ले रहा है। सुबह के समय आसमान पर बादल छाए रहे तो दोपहर में तेज धूप व भीषण गर्मी का सामना लोगों को करना पड़ा। शाम होते ही आसमान पर काली काली घटा छा गई तथा बूंदाबांदी प्रारंभ हो गई। तेज हवा चलने से पुलिस थाने के सामने मुख्य मार्ग पर लगा गुलमोहर का पेड़ धरासायी हो गया। गनीमत रही कि इस दौरान पेड़ के नीचे व आसपास कोई नहीं था। नहीं तो हादसा हो सकता था। धान की फसल लगाने की किसान तैयारी में जुट गए हैं। धान की पौधे रोपे जाने के लिए गड़े बनाने प्रारंभ कर दिए हैं। इसके अतिरिक्त धान के रौपे तैयार किए जाने के लिए बीज भी डाला जा चुका है। अनेक किसानों ने धान की रोपे तैयार किए जाने के लिए बीज भी डाला जा चुका है। अभी तक 67.8 मिलीमीटर वर्ष दर्ज हुई है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close