Rail Museum of Sanchi: रायसेन, सांची (नवदुनिया प्रतिनिधि)। मध्य प्रदेश का पहला रेलवे संग्रहालय सांची स्टेशन पर शनिवार को शुरू किया गया है। भोपाल मंडल रेल प्रबंधक उदय बोरवणकर ने महिला कर्मचारी के हाथों से फीता कटवाकर संग्रहालय में प्रवेश किया। डीआरएम बोरवणकर ने बताया कि मध्य प्रदेश में रेलवे की प्राचीन स्मृतियों को याद करने के उद्देश्य से यह संग्रहालय खोला गया है। इसमें वर्ष 1893 से लेकर आजादी से पूर्व तक की रेलवे के विकास की यादें समाहित करने का प्रयास किया गया है।

देश के विभिन्ना प्रांतों में रेलवे के संग्रहालय हैं, लेकिन सांची स्टेशन पर आरंभ किया गया मध्य प्रदेश का यह पहला रेल संग्रहालय है। सांची विश्व प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है। देश-विदेश के पर्यटक यहां आते हैं। सांची स्टेशन पर रेल संग्रहालय को देखने पर्यटक भी पहुंचेंगे। इस संग्रहालय के माध्यम से दुनिया के लोगों को पता चलेगा कि भारत में रेलवे ने 1893 से किस प्रकार कार्य किया और निरंतर विकास करते हुए आज आधुनिक तकनीक से काम हो रहा है। भाप का इंजन भी तेज गति से चलता था, लेकिन उसमें मेहनत बहुत लगती थी। मेंटेनेंस भी ज्यादा था। अब आधुनिक तकनीक व एसी वाले इंजन बन गए हैं। यहां रेल संग्रहालय में भाप का इंजन, पुरानी टेनिस, स्टोप पंप की लाइट, पुराने औजार, टेलीफोन इत्यादि रखे हुए हैं।

हालात सामान्य होने पर सभी ट्रेनें चलेंगी

रेल मंडल प्रबंधक बोरवणकर ने संग्रहालय का अवलोकन करने के बाद मीडिया से बातचीत में कहा कि जैसे-जैसे कोरोना संक्रमण से राहत मिल रही है उसी अनुसार सरकार ट्रेनें चलाने का काम कर रही है। इस सप्ताह कई ट्रेनों को चालू किया गया है। हालात सामान्य होने पर सभी ट्रेनें चलने लगेंगी। सरकार ने जिन रेल के जिन डिब्बों को क्वारंटाइन सेंटर के रूप में उपयोग किया था, वे भी अब खाली हो गए हैं। सरकार जब भी यह निर्देशित करेगी कि क्वारंटाइन सेंटर बनाई गई बोगियों की अब आवश्यकता नहीं है तो उनकी साफ-सफाई, सैनिटाइज कराने के बाद ट्रेनों में उपयोग किया जाने लगेगा।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local