लीडः-

-कृषि उपज मंडी में बढ़ी धान की आवक, ट्रैक्टर-ट्रॉलियों को खड़ा करने के लिए कम पड़ने लगी जगह

फोटोः10आरएसएन 04

रायसेन। कृषि उपज मंडी बढ़ी धान की आवक।

रायसेन। नवदुनिया प्रतिनिधि

लगातार बारिश से धान की फसल प्रभावित हुई है। बारिश का पानी लगने और रोगों के कारण धान की गुणवत्ता पर असर पड़ा है। इतना ही नहीं धान में अभी नमी बनी हुई है। इन कारणों से कि सानों को धान के रेट उनके मुताबिक नहीं मिल पा रहा है। ऐसी स्थिति में उन्हें कम रेट पर धान बेचने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है। इस बार रेट 1800 से 2300 रुपए के बीच ही कि सानों को मिल पा रहे हैं, जबकि पिछले साल कि सानों को धान के भाव 2500 से 3000 रुपए तक मिले थे। इस बार धान के रेट कम होने से कि सानों की मुश्किलें बढ़ गई हैं। कृषि उपज मंडी में प्रतिदिन बढ़ी संख्या में धान की ट्रॉलियों की संख्या बढ़ गई है, जिससे अब कृषि उपज मंडी में जगह कम बढ़ने लगी है, अब दशहरा मैदान में नीलामी होगी।

कृषि उपज मंडी में धान की अधिक आवक होने लगी है। इतनी अधिक आवक होने से मंडी परिसर ट्रैक्टर-ट्रालियों से भर गया। तुलाई होने के बाद जब खाली ट्रालियां मंडी परिसर से बाहर निकलीं, तब भरी हुई ट्रालियों को प्रवेश मिल पा रहा है। मंडी में धान लेकर आए ग्राम झिरनियां के कि सान गोविंद कु शवाह ने बताया कि लगातार बारिश से धान का उत्पादन पिछले साल की तुलना में 60 से 70 फीसदी ही रह गया है। इसके बाद भी मंडी में कि सानों को अच्छे रेट नहीं मिल पा रहे हैं। मुश्किल से धान 1900 से 2300 रुपए के बीच ही बिक रही है। इससे लागत निकलना भी मुश्किल है।

-तीन कंपनियां ही कर रही हैं धान की खरीदी

कृषि उपज मंडी में सागर कंपनी, मजेस्ट्रिक कंपनी और टीएसएस कंपनी द्वारा ही धान की खरीदी शुरु की गई है। जबकि पिछले साल दवात सहित कई बड़ी कंपनियों द्वारा रायसेन मंडी में धान की खरीदी की थी। इस बार बड़ी कंपनियों के नहीं आने के कारण भी कि सानों को धान के अच्छे रेट नहीं मिल पा रहे है। हालांकि स्थानीय व्यापारियों की माने तो धान में नमी की मात्रा ज्यादा है और क्वालिटी भी अभी ठीक नहीं आ रही है। इस कारण धान के कम रेट चल रहे है। यदि अच्छी क्वालिटी का माला आता है तो कि सानों को धान के अच्छे रेट भी मिलेंगे। कु छ दिनों बार राईस कंपनी भी धान की खरीदी करेंगी।

-पिछले साल मिला था सवा आठ करोड़ का राजस्व

रायसेन मंडी में पिछले साल 8 करोड़ 23 लाख 50 हजार 571 रुपए का राजस्व धान खरीदी के से प्राप्त हुआ था। इस बार भी इतना ही राजस्व मिलने की उम्मीद है, क्योंकि धान की अच्छी पैदावार होने की बात कही जा रही है।

इनका कहना ----

आवक बढ़ने पर दशहरा मैदान में होगी नीलामी

धान की आवक मंडी में बढ़ रही है।

करुणेश तिवारी, मंडी सचिव रायसेन

Posted By: Nai Dunia News Network