-संकरे मार्ग से बडे वाहनों के निकलने से लोग परेशान

फोटोः04आरएसएन 04

सिलवानी। सकरी सड़कों के कारण बनती है जाम की स्थिति।

सिलवानी। नवदुनिया न्यूज

नगर में कोई स्थायी व्यवस्थित सब्जी एवं हाट बाजार न होने से आम नागरिकों को खासी परेशानियों क सामना करना पड़ता है। यहां-वहां लगी बेतरतीब दुकानों, हाथ ठेला एवं फल-सब्जी की दुकानों से नगर का यातायात प्रभावित होता है। मुख्य मार्ग के दोनों ओर लगने वाली दुकानों से वाहनों का निकलना मुश्किल होता है। नगर का ह्दय स्थल कहे जाने वाले गांधी चौराह, पुराना बस स्टैंड की ओर जाने वाला मार्ग पहले ही काफी संकरे हैं। जिस पर से यहां के स्थायी दुकानदारों द्वारा अपनी दुकानों का सामान सड़क पर रख लेने से मार्ग और भी सकरा हो जाते हैं। इसी पर फल और सब्जी के ठेले खड़े होते है, जिससे पैदल चलने वालों को भी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। नगर का ह्‌दय स्थल कहे जाने वाले गांधी चौराहा, पुराना बस स्टैंड पर अधिक परेशानी होती हैं। यह मार्ग पहले ही संकरे है। इस पर दुकनदारों के कब्जे से इन मार्गो पर आवागमन बाधित होता हैं। दुकानों का सामान सड़कों के कि नारे रखा होने से मार्ग और भी संकरे हो जाते हैं। इस बीच निकलने वाले चार पहिया वाहनों से घंटों अव्यवस्था फै ली रहती हैं। चार पहिया वाहनों का दबाव होने से साप्ताहिक बाजार के दिन ये मार्ग पूरी तरह बंद हो जाते हैं। यहां तक की लोगों को निकलने के लिए भी जगह नहीं बचती। इस कारण अब उक्त मार्गो पर आए दिन दुर्घटनाएं होती हैं। साथ ही रोजाना लोगों के बीच विवाद होते रहते है।

नागरिकों का कहना है कि नपा सब्जी एवं हाट बाजार की एक स्थायी जगह निश्चित करें। वहां टिनशेड चबूतरे बनवा दें, तो लोगों को आवाजाही में परेशानी नहीं होगी। सब्जी विक्रेता रज्जू कु शवाहा का कहना है कि मनमर्जी से लगने वाली दुकानों को हटाकर एक निश्चित स्थान देकर सब्जी बाजार बना देना चाहिए। नगर में हाथ ठेला लेकर फे री लगाने वाले पर रोक लगानी चाहिए। स्थानीय दुकानदारों को हमेशा से यह हाल है दुकानदारों की समस्याओं को हल करने की दशा में कोई कदम उठाया जाता है। नगर में प्रति बुधवार को लगने वाले हाट बाजार के लिए भी स्थाई जगह नहीं है। नगर से निकले स्टेट हाईवे 44 पर ही हाट बाजार में दुकानें लगाई जा रही है। गांधी आश्रम लेकर बजरंग चौराहा तक हाट बाजार में सब्जी, कि राना, कपड़ा, मनिहारी, अनाज, आदि सामग्री की करीब 300 फु टकर दुकानें लगती हैं। स्टेट हाईवे पर बाजार लगने से दिन भर ही भारी वाहनों का आवागमन होता है, जिससे हमेशा ही हादसे का डर बना रहता है।

इनका कहना -----

-प्रशासन से मांगी जाएगी जगह

शासन से जगह की मांग की गई है। जगह मिलती है, तो हम सब्जी बाजार को उस स्थान पर पहुंचा देंगे।

मुके श राय, अध्यक्ष नगर पंचायत सिलवानी

000000000000000000000

मंगल भवन में आयोजित हुआ स्वास्थ्य शिविर

फोटोः04आरएसएन 05

सिलवानी। दिव्यांगों को कि या गया पुरस्कृत।

सिलवानी। नवदुनिया न्यूज

विश्व दिव्यांग दिवस के अवसर पर नगर परिषद के द्वारा मंगल भवन में संक्षिप्त कार्यक्रम का आयोजन कि या गया। जहां नगर के दिव्यांगों का सम्मान कि या गया। इसके अलावा स्वास्थ्य शिविर तथा विभिन्न प्रतियोगिताएं भी आयोजित की गई। कार्यक्रम को नगर परिषद अध्यक्ष मुके श राय ने संबोधित कि या। उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि दिव्यांग भी परिवार व समाज का एक अंग होते हैं। दिव्यांगों का कभी भी मजाक नहीं बनाया जाना चाहिए। हमेशा ही दिव्यांगों को सम्मान दिया जाए, वह सम्मान के पात्र होते हैं न कि तिरस्कार के। श्री राय ने प्रदेश व कें द्र सरकार के द्वारा दिव्यांगों के सहायता के लिए चलाई जा रही योजनाओं की विस्तार से जानकारी देते हुए बताया कि योजनाओं के लाभ से वंचित रहे दिव्यांगों को भी योजनाओं के लाभ से लाभांवित कि या जाएगा। इस दौरान खेल, रंगोली, सांस्कृतिक व समर्थ प्रदर्शन आदि प्रतियोगिता आयोजित की गईं। प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र देकर नप अध्यक्ष मुके श राय, उपाध्यक्ष संजीव जैन व पार्षदों के द्वारा पुरस्कृत भी कि या गया। रंगोली प्रतियोगिता में प्रथम स्थान रानी सेन के द्वारा प्राप्त कि या गया। जबकि द्वितीय स्थान शिल्पा पटवा तथा तृतीय स्थान चंदा मंसूरी ने हासिल कि या। सभी को प्रमाण पत्र देकर सम्मानित कि या गया। इस अवसर पर नगर परिषद उपाध्यक्ष संजीव जैन, सीएमओ अशोक कै थल, पार्षद कमलेश सोनी, सऊद मिर्जा, इमरान खान, लीलादेवी साहू, रईस अहमद आदि विशेष रूप से उपस्थित रहे।

00000000000

7 हजार 600 कि सानों के बैंक खातों में जमा की गई खुरीफ फसल की मुआवजा राशि

सिलवानी। अतिवृष्टि के चलते कि सानों की फसल नष्ट हो गई थी। कि सानों के द्वारा नष्ट हुई फसल का मुआवजा देने की लगातार मांग की जा रही थी। कि सान संगठन भी पीड़ित कि सानों को मुआवजा राशि देने मांग पत्र देकर शासन का ध्यान आकर्षित कर रहे थे। जिस पर शासन के द्वारा नष्ट हुई कि सानों की फसलों का सर्वे कराया गया था। सर्वे के आधार पर कि सानों को मुआवजा राशि स्वीकृत की गई। तहसीलदार सीजी गोस्वामी ने बताया कि अतिवृष्टि से नष्ट हुई कि सानों की फसल का सर्वे कराया गया था। तथा सर्वे के आधार पर शासन से करीब 16 करोड़ रुपए की राहत राशि की मांग की गई थी। शासन के द्वारा करीब 25 प्रतिशत राशि मुआवजा के लिए आवंटित की गई है। प्राप्त हुई राशि को अभी तक 7 हजार 600 कि सानों के बैंक खाते में 2 करोड़ 95 लाख रुपए की राशि जमा की जा चुकी है। प्राप्त हुई राशि में से शेष बची राशि भी कि सानों के बैक खातों में जमा की जा रही है। सर्वे के आधार पर कि सानों की करीब 16 करोड़ रुपए की फसल अतिवृष्टि के कारण नष्ट हुई थी। प्रारंभिक चरण में शासन के द्वारा 4 करोड़ रुपए की राशि आवंटित की गई थी, जो कि कि सानों के बैंक खातों में जमा की जा रही है।

Posted By: Nai Dunia News Network