बेगमगंज। नवदुनिया न्यूज

बीना नदी के माला घाट पुल पर बनाई सड़क का एक हिस्सा तीन फीट नीचे धसकने गया था। मामला उजागर करने के बाद जिला, शहर, संभाग स्तर के अधिकारियों ने डेरा डाल दिया था। पानी अधिक होने के कारण वह उस स्थान पर नहीं पहुंच पा रहे थे। जहां पर पुल क्षतिग्रस्त हुआ था। वर्षा थमते ही अधिकारियों ने मौका मुआयना के बाद अस्थाई रूप से धसे हुए हिस्से को अलग करके वहां पर बड़ी मात्रा में गिट्टी डालकर मार्ग का आवागमन चालू करा दिया है। करीब 2ः30 करोड़ की लागत से बना पुल बेगमगंज से 12 गांव को जोड़ता है। पहली वर्षा में ही पुल का पहला हिस्सा तीन फीट नीचे धसक गया था। जिसके बाद प्रशासन को यह मार्ग बंद करना पड़ा था। मीडिया ने इस मामले को गंभीरता से उठाया तो लोक निर्माण विभाग के ब्रिज कारपोरेशन के अधिकारी मौके पर पहुंचे और उन्होंने ठेकेदार आदित्य कंस्ट्रक्शन को निर्देश देकर फौरी तौर पर पुल से क्षत्रिग्रस्त मलवा हटवा कर वहां गिट्टी डलवा कर मार्ग को चालू करवा दिया हैं। हालांकि देखना होगा कि भ्रष्टाचार की नींव पर बन रहे ऐसे पुलों के जिम्मेदारों के खिलाफ सरकार कब सख्त होगी और उन पर कब कोई कार्यवाई सुनिश्चित की जाएगी। जिले में इस वर्ष मंडीदीप और बेगमगंज से दो बड़े पुलों की सड़कों के टूटने की खबर सामने आई है। जिसे करोड़ों की लागत से बनाया गया था। संबंधित विभागों ने मरम्मत का काम तो शुरू करवा दिया हैं, लेकिन ठेकेदार या निर्माण एजेंसी के खिलाफ कोई कड़ी कार्रवाई अब तक सामने नहीं आई हैं।

सरस्वती शिशु मंदिर में जन्माष्टमी कार्यक्रम मनाया

बेगमगंज। नगर के सरस्वती विद्या मंदिर विवेकानंदपुरम में शुक्रवार को श्रीकृष्ण जन्माष्टमी महोत्सव धूमधाम से मनाया गया। विद्यालय में श्रीकृष्ण स्वरूप राधा रानी तैयार हुई। मनमोहन छवि देखने को मिली। तत्पश्चात छोटी छोटी बहनों ने राधिका गौरी से भजन पर मनमोहक प्रस्तुति दी। जिसके बाद कमलेश शास्त्री ने कहा कि श्रीकृष्ण भगवान की बाल लीलाएं, स्वरूप आदि देखने को मिली। पूर्व छात्र भैया शुभ दुबे ने कहा कि श्रीकृष्ण का फूलों का श्रृंगार तो कुछ स्थानों पर रासलीलाओं का आयोजन भी होता है। इस दिन भक्त भजनों से भगवान कृष्ण का गुणगान करते हैं और उनकी पूजा-अर्चना करते हैं। कहते हैं इस दिन पूजा अर्चना से जीवन में सुख शांति व समृद्धि आती है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन ये उत्सव मनाने से घर में समृद्धि और शांति आती है। भगवान के जन्म से लेकर पूरे जीवन का वृत्तांत बताया। इसके साथ ही कृष्ण भगवान की महाआरती की गई। कार्यक्रम में श्रीकृष्ण के 121 स्वरूप तैयार किए गए। विद्यालय के प्राचार्य प्रकाश शर्मा ने सभी भैया- बहनों व अभिभावकों को जन्म अष्टमी की शुभ कामनाएं दीं।

19आरएसएन6 सरस्वती विद्या मंदिर में विद्यार्थियों ने मनाया श्रीकृष्ण जन्मदिवस।

बच्चों ने राधा-कृष्ण की पोषाक पहन कर पर्व मनाया

सांचेत। कस्बा सांचेत में श्री कृष्ण जन्माष्टमी बड़े ही धूम धाम के साथ मनाई गई। शुक्रवार को सुबह से ही छोटे बच्चों ने राधा कृष्ण की की पोशाक पहन कर खुशियां मनाई। कृष्ण भगवान की पूजा श्री रामजानकी मंदिर पर प्रति वर्ष अनुसार रात बारह बजे हुई। श्री कृष्ण पूजन में सभी कस्बा के लोगों ने पहुंचे और हाथी घोड़ा पालकी जय कन्हैया लाल की के जयकारे लगाए। छोटे बच्चों ने कृष्ण बनकर प्रस्तुतियां दी। इस अवसर पर पंडित अरुण कुमार शास्त्री ने कहा कि भगवान कृष्ण हम सभी को खुशी, शांति और सद्भाव का आशीर्वाद प्रदान करते हैं।

श्रद्धा व भक्ति के साथ मनाया श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर्व

रायसेन। सर्व यादव समाज समिति रायसेन के बैनर तले श्री राधा किशन मन्दिर यादव समाज रामलीला मैदान के समीप वासुदेव भगवान श्री कृष्ण का जन्माष्टमी पर्व मनाया गया। शुक्रवार को कान्हा के प्रगटोत्सव के उपलक्ष्‌य में हवन पूजन महाआरती की गई। मन्दिर के पुजारी पंडित आनंद गौतम, भैरों सिंह, राजेन्द्र यादव, पार्षद रवि यादव, कैलाश यादव, पूर्व नपाध्यक्ष राजकुमार यादव, शिवलाल यादव ने बताया कि श्री राधा किशन मन्दिर की मनमोहक सजावट लाल गुलाब गेंदा, सेवंती के डेढ़ किवंटल फूलों के वन्दनवारों, आम्रपत्रों के वन्दनवारों की झालरों बिजली सर्किट की रंगबिरंगी रोशनी से की गई। श्री राधा कृष्ण की प्रतिमाओं लड्डू गोपाल को वृन्दावन से लाई आकर्षक पोशाक पहनाई गई।दिन में हवन पूजन आरती और खीर महाप्रसादी वितरित की गई। शाम आठ बजे भजन संध्या का रंगारंग आयोजन माखन मटकी फोड़ स्पर्धा का भी आयोजन किया गया। रात 12 बजे भगवान कान्हा का प्रगटोत्सव मनाया गया। जिसमें यादव समाज के लोगों ने परिवार सहित हिस्सा लिया। भक्ति वंदना के माहौल में श्रीराधा किशन मन्दिर में सुबह से ही यादव परिवार सहित अन्य समाजों के श्रद्धालु पूजन आरती दर्शन करने पहुंचे। भगवान श्री कृष्ण के जन्मोत्सव के उपलक्ष्‌य में शाम के समय घर- घर सनातन हिन्दू धर्म के लोगों ने चित्रपट लगाए और कृष्ण कन्हाई को मावे के पेड़े एकैला ककड़ी चरनामृत सेवफल का भोग लगाकर जन्मोत्सव मनाया गया। साथ ही परिवार घर में खुशहाली रहे सुख समृद्धि बनी रहने की कामना लड्डू गोपाल से की है। बाजार में इस पर्व के लिए खरीदारी करने के लिए लोगों की काफी भीड़ रही।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close