Raisen news: रायसेन(नवदुनिया प्रतिनिधि)। गैरतगंज के सरकारी कालेज में पीजी की कक्षाएं शुरू कराने की मांग को लेकर अभाविप द्वारा किए जा रहे आंदोलन ने सोमवार को उग्र रूप धारण कर लिया। मांग को लेकर अभाविप के छात्र-छात्राओं ने रैली निकालने के बाद किए भोपाल सागर मुख्य सड़क मार्ग पर चक्का जाम किया। इसमें प्रशासन व पुलिस की सख्ती के बाद छात्र-छात्राएं भड़क गए और छह घंटे जाम जारी रहा। छात्र-छात्राएं कलेक्टर को मौके पर बुलाने की मांग पर अड़े रहे। लगातार छह घंटों तक जाम की स्थिति बनी रही। बाद में कलेक्टर के आश्वासन पर जाम समाप्त हुआ।

एक महीने से कर रहे हैं मांग

गैरतगंज के सरकारी कालेज में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के नेतृत्व में छात्र-छात्राएं लगभग एक महिने से पीजी कक्षाएं शुरू कराने की मांग को लेकर चरणबद्घ आंदोलन कर रहे हैं। बीते कुछ समय से प्रशासन की बेरुखी से छात्र-छात्राएं आक्रोशित हैं। सोमवार को आंदोलन की कड़ी के रूप में अभाविप के संयोजक अंकित पटेल के नेतृत्व में दर्जनों छात्र छात्राओं ने नगर में प्रशासन की शवयात्रा रैली की शक्ल में निकालकर दहन किया तथा सड़क मार्ग पर जाम के लिए बैठ गए। मौके पर मौजूद एसडीएम संघमित्रा बौद्घ, एसडीओपी सुनील वरकड़े सहित प्रशासन व पुलिस के तमाम अधिकारी प्रदर्शनकारियों के आगे बेबस दिखाई दिए।

जाम से यात्रियों को भारी परेशानी

आंदोलन का नेतृत्व कर रहे अभाविप के संयोजक अंकित पटेल ने कहा कि हमारी मांग है कि पीजी कक्षाओं की तत्काल स्वीकृति हो साथ ही प्रदर्शन के दौरान अभद्रता करने वाले दोषी प्रशासन व पुलिस के अधिकारी कर्मचारी निलंबित हों, तहसीलदार को हटाया जाएं। उग्र हुए छात्र छात्राओं ने सड़क पर ढोलक लेकर भजन कीर्तन शुरू कर दिया। अभाविप द्वारा किये गए भोपाल सागर मुख्य सड़क मार्ग पर जाम के बाद सड़क के दोनों तरफ लंबा जाम लग गया। जाम में इसमें सड़क पर चलने वाली यात्री बसें, निजी वाहन, मालवाहक वाहन समेत बड़ी संख्या में वाहन फंस गए और यात्रियों को काफी परेशानी हुई।

पुलिस की झड़प में छात्र घायल

अभाविप द्वारा किये जा रहे च-ाजाम के बीच जब प्रदर्शनकारियों ओर प्रशासन के बीच बात नहीं बनी तो पुलिस प्रशासन ने सख्ती दिखाई। सख्ती में एक छात्र ओर एक छात्रा घायल हो गई। गंभीर हालात में छात्रा को गैरतगंज अस्पातल इलाज के लिए ले जाया गया।

इन मांगों पर अड़े है छात्र

अभाविप द्वारा किये जा रहे इस प्रदर्शन की प्रमुख मांगे पीजी पाठ्यक्रम चालू करने के साथ अभद्रता करने वाले प्रशासनिक अधिकारियों पर कार्रवाई की मांग प्रमुख है। यही नही प्रदर्शन के समय पुलिसकर्मियों द्वारा छात्र छात्राओं के साथ की गई अभद्रता के खिलाफ भी त्वरित कार्रवाई की मांग की। प्रदर्शन कर रहे छात्रों की मांगों एवं उन्हें संतुष्ट करने में स्थानीय प्रशासन के नाकाम होने के बावजूद 6 घंटे के बाद भी जिला प्रशासन मौके पर नही पहुंचा। और हालात लगातार बिगड़ते गए।

प्रशासन बना मूकदर्शक

मुख्य सड़क मार्ग पर लगे च-ाजाम में प्रशासनिक अधिकारियों की नाकामी साफ तौर पर देखी गई। सबसे पहले तो छात्र नेताओं से प्रशासन मध्यस्थता करने में नाकाम रहा। वही पुलिस प्रशासन की आवश्यक सख्ती ने प्रदर्शन की आग में तेल डालने का काम किया। पहले तो प्रशासन जे छात्रों को समझाइश दी पर थोड़ी देर बाद सख्ती दिखाने लगे। बाद में प्रदर्शन बढ़ता देख तथा अभविप के उग्र होने के चलते प्रशासन मूकदर्शक बनकर रह गया।

मंडी में धान बेचने आए किसान की मौत

रायसेन। सांची ब्लाक की ग्राम पंचायत जमुनिया से किसान केसर सिंहसोमवार को धान बेचने के लिए आए थे। तभी उनकी अचानक तबीयत बिग़ड़ गई। जिन्हें तुरंत अस्पताल ले जाया गया जहां उनकी मृत्यु हो गई। मंडी सचिव आरपी शर्मा ने बताया कि किसान की मौत कैसे हुई यह जानकारी नहीं है पर तुरंत उन्हें अस्पताल ले जाया गया था जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close