रायसेन। जिले में पिछले 48 घंटों से हो रही वर्षा के चलते निचले इलाकों में जलभराव होने से रहवासी परेशान हैं। मंगलवार को दोपहर बेतवा व कौड़ी नदी की बाढ़ का पानी खेतों में भर जाने के कारण ग्राम बारला के छह किसान फंस गए थे। जिन्हें प्रशासन के बचाव दल ने सुरक्षित निकाला है। बताया जाता है कि बेतवा नदी और कौड़ी नदी उफान पर हैं। जिला मुख्यालय से आठ किमी दूर सांची मार्ग पर ग्राम बारला के किसान जगदीश सिंह, किशनलाल, बबलू, शिवम, हल्कीबाई और हल्केराम खेतों में पाइप निकालने के लिए गए थे। तभी आसपास तेजी से बाढ़ का पानी भर गया। इस कारण यह किसान चारों ओर से बाढ़ के पानी में घिर गए। तभी ग्रामीणों ने इनके खेतों में बाढ़ के पानी से घिरे होने की सूचना प्रशासन को दी। तहसीलदार एपी सिंह ने तत्काल बचाव दल को रवाना किया। नाव की मदद से बचाव दल ने खेतों में फंसे सभी छह किसानों को सुरक्षित निकाल कर गांव पहुंचा दिया। इसके अलावा नर्मदा किनारे के ग्रामों में भी बाढ़ के पानी से दहशत का माहौल रहा। नर्मदा किनारे देवरी, बोरास, भारकच्छ, कैलकच्छ सहितों दर्जन गांवों में लोगों को सतर्क किया गया है।

तालाब मोहल्ला व नरापुरा में पानी भरा

जहां एक ओर बेतवा व कौड़ी नदी के किनारे के करीब एक दर्जन गांवों के लोगों को बाढ़ की आशंका के चलते सुरक्षित स्थानों पर पहुंचने के लिए कहा गया था। वहीं दूसरी ओर सोमवार-मंगलवार की रात में जिला मुख्यालय के तालाब मोहल्ला व नरापुरा इलाके के दर्जनों घरों में वर्षा का पानी घुस गया। लोगों ने रात भर वर्षा का पानी घर से बाहर निकालने में बिताई। महामाया चौक, गंजबार में दुकानों में पानी भरने से सामान खराब हो गया। जिला अस्पताल में भी वर्षा का पानी भरने से कर्मचारी परेशान हुए। नवाबपुर मंदिर कालोनी निवासी अवधेश सिंह ने बताया कि सभी घरों में वर्षा का पानी भर गया था। मऊपतरई मार्ग में सलीम, मुन्नो खां सहित कई लोगों के घरों में पानी भरा। वार्ड नौ तालाब मोहल्ला में विशाल सिंह ठाकुर व अन्य रहवासियों ने जलभराव होने से पलंग पर बैठकर रात बिताई। रामनगर कालोनी में सीमा मिश्रा व अन्य लोगों के घरों में वर्षा का पानी भर गया था। दरगाह मार्ग पर रीछन नदी की बाढ़ का पानी आसपास के मकानों व पेट्रोल पंप परिसर में भर गया। मंगलवार को सुबह वर्षा धीमी होने के कारण निचले इलाकों में जलभराव कम हो गया।

चौबीस घंटे में 128.4 मिलीमीटर वर्षा हुई

जिले में एक जून से 16 अगस्त तक 1027.4 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की गई है जो कि गत वर्ष इसी अवधि में हुई औसत वर्षा से 317.9 मिलीमीटर अधिक है। जिले की वर्षा ऋतु में सामान्य औसत वर्षा 1197.1 मिलीमीटर है। अधीक्षक भू-अभिलेख से प्राप्त जानकारी के अनुसार एक जून से 16 अगस्त तक जिले के वर्षामापी केन्द्र रायसेन में 1121.8 मिलीमीटर, गैरतगंज में 977.2 बेगमगंज में 1014, सिलवानी में 934.2, गौहरगंज में 1028.2, बरेली में 1109.6, उदयपुरा में 1114.2, बाड़ी में 1177.5, सुल्तानपुर में 1093.3 तथा वर्षामापी केन्द्र देवरी में 704 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई है। जिले में बीते 24 घंटे में 16 अगस्त को प्रातः 8 बजे तक 128.4 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की गई। इस दौरान वर्षामापी केन्द्र रायसेन में 168, गैरतगंज में 168.4, बेगमगंज में 160, सिलवानी में 88.4, गौहरगंज में 120, बरेली में 127.4, उदयपुरा में 115.2, बाड़ी में 133.5, सुल्तानपुर में 101.3 व देवरी में 102 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई।

बीना नदी सहित आसपास के नाले उफान पर, दर्जनों ग्रामों का टूटा संपर्क

गैरतगंज। सोमवार को शाम से देर रात तक बीना नदी अपने रौद्र रूप में आ गई तथा नदी नदी में बड़े पैमाने पर उफान आ गया। जिससे सटे इलाकों में पानी ही पानी दिखा। बीना नदी के उफान एवं भराव ने बीते 20 वर्षों का रिकार्ड तोड़ दिया है। जिसे चलते बीना नदी से सटे इलाको में बसी बस्तियों में पानी भर गया। नगर के वार्ड 5 मुक्तिधाम इलाके की बस्ती, वार्ड 7, वार्ड 3 टेकापार कालोनी, वार्ड 14 गेंहूरास रोड गीधन नाले के पास रहने वाले लोगो के घरों में पानी भर गया। इसके अलावा टेकापार कालोनी के रहने वाले बाबू खा का मकान वर्षा के चलते गिर गया। मुख्यालय स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का लेबोरेटरी रूम वर्षा का पानी भर जाने के कारण जलमग्न हो गया। जिससे वहां कर्मचारियों को काम करने में कर्मचारियों को परेशानियों का सामना करना पड़ा। तहसील क्षेत्र के रम्पुरा कलां प्रधानमंत्री सड़क, सिमरिया गुन्नाौठा सड़क, हरदोट सहित दर्जनों ग्रामो का संपर्क मुख्यालय से टूट गया। नगरीय क्षेत्र में हुए नुकसान की जानकारी मिलने पर प्रशासन की ओर से एसडीएम रवीश श्रीवास्तवख् सीएमओ रितु मेहरा मौके पर पहुंचे और नुकसान का जायजा लिया।

दर्जन भर ग्रामों का मुख्य मार्ग से संपर्क कटा

दीवानगंज। सांची ब्लाक के अंतर्गत आने वाली ग्राम अंबाड़ी में 36 घंटों से हो रही रिमझिम वर्षा के कारण अयोध्या धाम मंदिर के पास का नाला चढ़ गया। जिससे ग्रामीणों को आने-जाने में परेशानी हो रही है। अंबाड़ी के अयोध्या धाम के पास से नाले का पानी बहता है इस नाले में अंबाड़ी और दीवानगंज के पहाड़ का पानी होकर गुजरता है। जब ज्यादा बारिश होती है तो नाले का पानी पुलिया से ऊपर होते हुए गुजरने लगता है। जिस कारण अंबाड़ी, सेमरा, मुस्काबाद, मुनारा, पिपराई, काली टोर यदि गांव का संपर्क भोपाल- विदिशा मुख्य मार्ग से संपर्क टूट जाता है। 15 अगस्त को गाय का बछड़ा नाले में बह गया। ग्रामीणों ने बड़ी मशक्कत के बाद नाले से गाय के बछड़े को बाहर निकाल।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close