गैरतगंज (नवदुनिया न्यूज)। तहसील के कस्बा गढ़ी में बनी श्रीकामधेनु गोशाला में क्षमता से गोवंश हैं। जिससे गोशाला में अव्यवस्था फैल रही है तथा प्रबंधन परेशान है। दो भागों में बनी इस गोशाला की क्षमता 500 की है, परंतु वर्तमान में यहां 800 गोवंश मौजूद है। उस पर लोग अभी भी लगातार यहां मवेशी लेकर आ रहे हैं। तहसील में एक अतिरिक्त गोशाला की दरकार है तथा खाली पड़ा जेल भवन इसके लिए उपयुक्त विकल्प है।

जानकारी के अनुसार गढ़ी में स्थापित गोशाला गढ़ी अहमदपुर मार्ग पर बनी है। जिसकी क्षमता 500 गौवंश है। दो भागों में इस गौशाला का एक हिस्सा शासकीय है जिसमें 300 गायों को रखने की क्षमता है। वहीं एक गोशाला जनभागीदारी से चलती है जिसमें 200 गोवंश रखने की क्षमता है। इसके बावजूद अभी 800 गोवंश यहां मौजूद है। उस पर रोज क्षेत्र भर के लोग अपने अनुपयोगी पशुओं को लेकर बड़ी संख्या में गढ़ी की गोशाला में लाकर छोड़ रहे हैं जो क्षेत्र की मुख्य सड़क पर विचरण कर रहे हैं तथा दुर्घटना का कारण बन रहे हैं। गोशाला में आलम यह है कि अंदर एवं बाहर पशुओं का भारी जमावड़ा है। लोग बिना प्रबंधन से पूछे अपने पशुओं को यहां ला रहे हैं जिससे प्रबंधन समिति परेशान आ गई है। वर्षा के मौसम में पशुओं की संख्या गोशाला में बढ़ने से अव्यवस्था फैल रही है। कीचड़ और गंदगी फैलने लगी है। उधर प्रशासन द्वारा इस इसको लेकर कोई कदम नहीं उठाए जा रहे हैं। गोशाला प्रबंधन समिति के अध्यक्ष इंद्रेश कुमार दीक्षित का कहना है गोशाला में गोवंश रखने की क्षमता समाप्त हो चुकी है। तथा अब तहसील क्षेत्र में एक अतिरिक्त गोशाला बनाई जाना चाहिए। दीक्षित ने कलेक्टर, एसडीएम सहित अन्य अधिकारियों को इस विषय में ध्यान देकर समस्या हल की मांग की है।

पुराना खाली पड़ा जेल भवन उपयुक्त विकल्प

गोवंश की संख्या बढ़ने से क्षेत्र में एक अतिरिक्त गोशाला की दरकार है। इसके लिए चांदोनी गंज स्थित पुराना खाली पड़ा जेल भवन उपयुक्त विकल्प हो सकता है। जेल भवन को गोशाला बनाए जाने के संबंध में तत्कालीन कलेक्टर उमाशंकर भार्गव ने प्रारंभिक कार्रवाई भी की थी, परंतु उसे अमलीजामा नहीं पहनाया जा सका है। जल्द ही इसे कार्यरूप देना आवश्यक है।

पशुओं का जमावड़ा बढ़ा

गैरतगंज तहसील के अधिकांश क्षेत्रों के लोग बड़ी संख्या में इन दिनों अनुपयोगी पशुओं को लेकर गोशाला की तरफ जा रहे हैं। जिससे इस इलाके में सड़क मार्ग पर भी बड़ी तादाद में गोवंश दिखाई दे रहा है। गढ़ी गोशाला में तो मुसीबत बढ़ ही रही है, सड़क मार्ग पर भी दुर्घटनाओं का अंदेशा बढ़ गया है। प्रशासन को इस ओर जल्द ध्यान देना चाहिए।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close