लीमाचौहान क्षेत्र में कृषि विभाग के दल ने किया निरीक्षण

सचित्र एसआरपी 8 निरीक्षण करते अधिकारी। फोटोःनवदुनिया।

9- यह इल्लियां कर रहीं नुकसान। फोटोःनवदुनिया।

लीमाचौहान। नवदुनिया न्यूज

इन दिनों किसानों को रातरानी इल्ली ने फसलों को तबाह कर दिया है। यह रातरानी इल्ली जमीन के अंदर रहती है जो दिन में दिखाई नहीं देती और रात में मसूर की फसल को नष्ट कर देती हैं। इस महामारी से किसान चिंतित एवं परेशान हैं।

दो दिन पहले रातरानी इल्ली को इकट्ठा कर किसान दुलीचंद राठौर ने सोशल मीडिया पर पोस्ट डाली थी इसे गंभीरता से लेते हुए कृषि विभाग अधिकारियों ने संज्ञान लिया और किसान दुलीचंद राठौर के खेतों का निरीक्षण किया। काली इल्ली से हो रहे फसलों में नुकसान की देखभाल के लिए उपयोगी व लाभकारी सलाह दी।

इस अवसर पर ग्रामीण कृषि विभाग अधिकारी एसएन चौहान, ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी किसान के खेतों का निरीक्षण करने पहुंचे। उनके साथ किसान दुलीचंद राठौर गोकुल पालीवाल, सिद्घनाथ भिलाला, सोनू शर्मा, आत्माराम गुर्जर, बद्रीलाल तोमर, सेवाराम भिलाला, गोपाल प्रसाद राठौर मौजूद थे। वही संडावता में पदस्थ कृषि विभाग के आरबी मर्सकोले ने बताया कि गेहूं की फसल अगर पीली हो रही हो और सुख रही हो तो इमिडाक्लोप्रिड 100 ग्राम प्रति एकड 150 से 200 लीटर पानी में घोलकर स्प्रे करें या थायो मिथक जाम रोकथाम के लिए डालने की सलाह किसानों को दी जा रही है।

Posted By: Nai Dunia News Network