राजगढ़। मुझे अच्छी तरह से याद है कैबिनेट ककी बैठक में हमने राजगढ़ जिले के लिए मेडिकल कालेज को स्वीकृति दी थी। राजगढ़ में मेडिकल कालेज के लिए हमने 325 करोड़ रूपये स्वीकृत किए थे. मेडिकल कालेज बनने से लोगों को इलाज की बेहतर सुविधा मिलेगी. हर साल 150 बच्चे मेडिकल कालेज के माध्यम से एमबीबीएस शिक्षा प्राप्त कर डाक्टर बनेंगे। यह बात मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने राजगढ़ में मेडिकल कालेज के भूमिपूजन कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कही।

उन्होंने आगे कहा की निश्चित समय सीमा में हम गुणवत्ता के साथ मेडिकल कालेज बनाकर हम तैयार करेंगे। अंग्रेज चले गए, लेकिन अंग्रेजी छोड़ गए। सुनियोजित व षड्यंत्र के तहत अंग्रेजी में ही मेडिकल व इंजिनियरिंग की पढ़ाई मप्र में अंग्रेजी में होती आ रहीं थी, ताकि गरीब के बच्चे अंग्रेजी के चलते मेडिकल व इंजिनियरिंग की पढ़ाई न कर सके, लेकिन हम ऐसा नहीं होने देंगे। अब मप्र में मेडिकल व इंजिनियरिंग की पढ़ाई भी हिंदी में कराई जाएगी। मेधावी विधार्थियों के लिए शुल्क हमारी सरकार भरेग। फीस के अभाव में मेधावी विधार्थियों को पढ़ाई से वँचित नहीं रहने दिया जाएगा। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने जिले के 10 हजार हितग्राहियों को प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत गृहप्रवेश करवाया। कार्यक्रम में मंत्री विश्वास सारंग, प्रभारी मंत्री डा. मोहन यादव, सांसद रोडमल नागर, विधायक प्रियव्रतसिंह, बापूसिंह तंवर, रामचंद्र दांगी, जिपं अध्यक्ष चंदरसिंह सौंधिया, जिलाध्यक्ष दिलवर यादव, पूर्व विधायक रघुनंदन शर्मा, नारायणसिंह पंवार, मोहन शर्मा, अमरसिंह यादव, हजारीलाल दांगी, प्रताप मंडलोई, पूरसिंह पंवार, नपाध्यक्ष विनोद साहू, कलेक्टर हर्ष दीक्षित, एसपी अवधेश कुमार गोस्वामी, एडीएम कमलंचद्र नागर, एसडीएम जूही गर्ग मौजूद थी। आयोजन में भाजपा नेता जगदीश पंवार, ओपी शर्मा, मनोज हाड़ा, जसवंत गुर्जर, अमित शर्मा, रामनारायण दांगी, राजू यादव, शैलेष गुप्ता, अखिलेश जोशी, राजेश खरे सहित जिलेभर के नेता उपिस्थत थे।

राजगढ़ की धरती पंजाब-हरियाणा को पीछे छोड़ देगी

कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा की एक समय था ब राजगढ़ में पेयजल का संकट था। पीने के पानी की एक एक बून्द के लिए जिले के नागरिक परेशान रहते थे, लेकिन हमने मोहनपुरा, कुंडालिया, रेसई, पार्वती जैसी सिंचाई परियोजना बनाकर तैयार की है। पूरे जिले में हमने पानी के साथ सड़कों का जाल बिछाया है। यह वही राजगढ़ जिला है जहां की धरती कभी सूखी कहलाटती थी, लेकिन पांच साल बाद राजगढ़ जिले की जमीन पंजाब-हरियाणा को पीछे छोड़ देगी। मुख्यमंत्री ने आगे कहा की अभी तक हमारे राजगढ़ जिले की जमीन कीटनाशक रसायनिक खादो व दवाओं के प्रयोग व प्रभाव से मुक्त रही है। हम अपने खेतो पर यथासम्भव प्राकृतिक खेती करें, ताकि हमारी जमीन जहरीली होने से बच सके।

21 हजार एकड़ जमीन मुक्त कराई है हमने

सभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा की किसी को यदि राशन नहीं मिलता हो तो आवेदन दे नाम जोड़ दिया जाएगा। प्रदेश में बदमाशों के खिलाफ ब जरूरत पढ़ी तो मामा का बुलडोजर चला है. हमने प्रदेश में 21 हजार एकड़ जमीन बदमाशों के कब्जो से मुक्त कराई है। अब उस जमीन पर गरीबो के लिए आवास बनाये जा रहे। एक मात्र प्रदेश है जहां हमने क़ानून बनाया की प्रदेश की धरती पर यदि कोई हमारी बेटियों के साथ दुराचार करेगा तो सीधी फांसी दी जाएगी।

पहले सिर्फ 5 कालेज थे, अब 24 हो गए

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा की ब शिवराजसिंह चौहान प्रदेश के मुख्यमंत्री बने थे उस समय प्रदेश में सिर्फ 5 मेडिकल कालेज थे, लेकिन अब उनकी लग्न के कारण प्रदेश में 24 हो गए हैं। आने वाले 2004-25 तक 11 और कालेज खुलेंगे व प्रदेश में 35 मेडिकल कालेज बनकर तैयार हो जायेंगे, प्रदेश में फिर डाक्टरों की कमी नहीं आएगी।

14 गए थे उनमे 7 स्वीकृत हुए

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सांसद रोडमल नागर ने कहा की प्रदेश से 14 मेडिकल कालेजों की लिस्ट केंद्र में गई थी, जिसमे सिर्फ 7 स्वीकृत होना था, लेकिन मैंने दिल्ली में मंत्री डा हर्षवर्धन व जेपी नड्डा जी से मुख्यमंत्री जी की बात कराई, तब जाकर यह कालेज स्वीकृत हो सका. रामगंजमंडी-भोपाल रेलवे प्रोजेक्ट 2013 में बंद हो गया था, 2014 में मोदीजी ने अपने फास्टेक में शामिल किया, जिसके कारण वह गतिशील है।

कहां है कलेक्टर, कितने आयुष्मान कार्ड बने

कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर बात कर रहे थे। उन्होंने जनसमुदाय से हाथ उठवाये की बताओ कितनो के आयुष्मान कार्ड बने व कितनो के नहीं। ऐसे में कई लोगो ने नहीं बनने के समर्थन में हाथ उठाये। ऐसे में मुख्यमंत्री ने मंच से कहा की कहां हे कलेक्टर, इधर आओ। माइक पर बताओ की कितने कार्ड बने हैं व कितने नहीं। इस पर कलेक्टर हर्ष दीक्षित ने माइक पर कहा की 10 लाख 90 हजार कार्ड बनना थे, अभी तक 6 लाख से ऊपर बने हैं। 31 अक्टूबर तक बना देंगे. ऐसे में कलेक्टर की बात सुनकर मुख्यमंत्री ने कहा की सुन लो सब 31 अक्टूबर तक कार्ड बनवा लेना सब इनको 31 अक्टूबर तक का समय दे रहा हूं।

विधायक को मुख्यमंत्री ने दी बोलने की अनुमति, प्रभारी मंत्री, सांसद रोकते नजर आए

कार्यक्रम के दौरान क्षेत्रिय विधायक बापूसिंह तंवर का संबोधन कार्यक्रम में शामिल नहीं था। ऐसे में विधायक बापूसिंह तंवर ने मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान से मिलकर मंच पर ही आपत्ति लेते हुए कहा कि यह तरीका गलत है। मेरे क्षेत्र में कार्यक्रम है व मुझे ही बोलने से वंचित रखा जा रहा है। विधायक की बात सुनने के बाद मुख्यमंत्री ने उन्हें बोलने की परमिशन दी। कहा कि विधायक को बोलने दिया जाए। जब विधायक मंच बोलने लगे तो प्रभारी मंत्री डा. मोहन यादव व सांसद रोडमल नागर उन्हें रोकतें नजर आए व मंच के समीप ख़डे हो गए। विधायक बापूसिंह तंवर ने आरोप लगाए कि मेरे ही क्षेत्र में मुझे प्रभारीमंत्रीवसांसद बोलने से रोक रहे थे। वहचाहते हीनहीं थे कि मैं संबोधन करूं। बहुत छोटी मानसिकता है।

नपाध्यक्ष की मांग पर दिए दो करोड़

कार्यक्रम के दौरान राजगढ़ नगर पालिका अध्यक्ष विनोद साहू ने शहर के विकास के लिए मांग पत्र सौंपा। उन्हें विभिन्ना विकास कार्यों के लिए मांग पत्र सौंपते हुए उन्हें पूरा करने की मांग की। इस पर मुख्यमंत्री ने बिना देर किए राजगढ़ के विकास के लिए दो करोड़ देने की घोषणा की॥ सीएम ने कहा कि राजगढ़ नगर में कार्यक्रम है और नपाध्यक्ष ने शहर के विकास के लिए राशि मांगी है इसलिए मैं दो करोड़ देने की घोषणा करता हूं।

खास-खास

-विधायक बापूसिंह मंच से बोले कमल नाथ जी ने मुख्यमंत्री रहते यह मेडिकल कालेज स्वीकृत किया था, अप भूमिपूजन कर रहे हैं।

-मुख्यमंत्री ने पूर्व विधायक अमरसिंह यादव को कर्मठ व लोकप्रिय नेता बताया।

-गांव-गांव से बसों में भराकर पहुंचे थे जिले के नागरिक

-राजगढ़ पहुंचने के साथ ही मंच पर जाने के पहले किया 255 करोड़ की लागत से बनने वाले मेडिकल कालेज का भूमिपूजन

-मुख्यमंत्री का स्वागत सांसद, विधायक ने किया।

-विधायक बापूसिंह तंवर ने कहा मुख्यमंत्री बहुत सहज है। मुझे उम्मीद है राजगढ में बायपास व कृषि महाविद्यालय की सौगात देंगे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close