12 बीआरओ 6ः घायलों को अस्पताल में भर्ती करते परिजन।

12 बीआरओ 7ः घायलों का उपचार करते चिकित्सक।

भाटनी गांव से राजस्थान स्थित कामखेड़ा बालाजी के दर्शन करने जा रहे थे श्रद्धालु

सुठालिया ब्यावरा रोड पर लोधीपुरा जोड़ के समीप हुआ हादसा, घायलों में अधिकतर महिलाएं, बच्चे शामिल

ब्यावरा। नवदुनिया न्यूज

सुठालिया-ब्यावरा मार्ग पर मंगलवार दोपहर में ग्राम लोधीपुरा जोड़ के समीप श्रद्धालुओं से भरी ट्रैक्ट्रर-ट्रॉली अनियंत्रित होकर अचानक पलट गई। हादसे में ट्रैक्टर-ट्रॉली में सवार 35 लोग घायल हो गए। घायलों में अधिकांश महिला एंव बच्चे शामिल हैं। ट्रैक्टर-ट्रॉली सवार सभी लोग बेैरसिया जिला भोपाल के भाटनी गांव व आसपास के गांव रहने वाले हैं, जो कामखेड़ा बालाजी के दर्शन करने जा रहे थे। प्रत्यक्ष दर्शियों के अनुसार ट्रैक्टर के सामने एक वाहन आने से चालक ने तेजी से स्टेरिंग घुमाया, जिससे ट्रॉली पलट गई। हादसे के बाद चालक घटनास्थल से फरार हो गया। सिटी थाना पुलिस ने मामले की जांच-पड़ताल की।

घायलों को 108 और निजी वाहन से पहुंचाया अस्पताल

राजस्थान के मनोहर थाना क्षेत्र में स्थित कामखेड़ा बालाजी मंदिर में विशेष दर्शन व पूजन के लिए दूर-दूर से लोग यहां आकर मन्नत मांगने तथा पूरी होने पर पूजन करने पहुंचते हैं। मंगलवार सुबह भाटनी गांव के ग्रामीण भी बालाजी के दर्शन के लिए मंगलवार सुबह ट्रैक्टर-ट्रॉली में सवार होकर निकले थे। ग्रामीण जन दो ट्रेक्टर ट्रॉलियों में सवार होकर दर्शन करने जा रहे थे, एक में महिलाएं व बच्चे सवार थे और दूसरी ट्रॉली में पुरुष सवार थे। लोधीपुरा जोड़ के समीप दोपहर करीब 2 बजे ट्रैक्टर-ट्रॉली अनियंत्रित होकर सड़क की साइड में पलट गई। दुर्घटना के बाद मौके पर चीख-पुकार मच गई। हादसे में दो दर्जन से अधिक श्रद्धालु घायल हो गए। ट्रैक्टर-ट्रॉली पर करीब 40 से अधिक श्रद्धालु सवार थे। घटना की सूचना मिलते ही पुलिस और प्रशासनिक टीम राहत और बचाव कार्य में जुट गई। घायलों को तुरंत पुलिस वाहन, 108 एम्बुलेंस, डायल 100 व निजी वाहन से सिविल अस्पताल ब्यावरा पहुंचाया गया, जहां उनका उपचार जारी है। घटना में गंभीर घायल नौ महिलाओं को रेफर किया गया है। सूचना पर विधायक गोवर्धन दांगी, एसडीएम रमेश चंद्र पांडे, तहसीलदार आरएस चिरामन सहित अन्य अधिकारी अस्पताल पहुंचे और घायलों को उचित उपचार के निर्देश दिए।

ये हुए घायल

हादसे में दुर्गेश पिता पहलवानसिंह (14), ज्योति पिता पहलवानसिंह (10), शीला पिता कृपालसिंह (10), लक्ष्मी पिता कृपालसिंह (12), निकिता पिता मोहब्बतसिंह (16), कोमल पत्नी कमलसिंह (45), नौरंग पत्नी मोहब्बत सिंह (40), संतोषबाई पत्नी रामप्रसाद (26), रेश्मबाई पत्नी बनेसिंह (45), मेघराज पिता विनयसिंह (11), संतोषबाई पत्नी गंगाधर (40), भूरियाबाई पत्नी विनयसिंह (42), रेश्मबाई पत्नी अर्जुनसिंह (60), राधा पिता गंगाधर (25), लक्ष्मी पिता पहलवानसिंह (12), कमलाबाई पत्नी देवीसिंह (58), रसूमबाई पत्नी भारतसिंह (45), रेश्मबाई पत्नी कमलसिंह (50), सीमा पत्नी मालसिंह (23), सुआबाई पत्नी जामलसिंह (52), कामाबाई पत्नी बद्रीलाल(36), दरयाबबाई पत्नी रायसिंह (52), गुलाबबाई पत्नी मानसिंह(60), प्रेमबाई पत्नी गौरीलाल (62), गीताबाई पत्नी अमरसिंह(55), केसरबाई पत्नी मोहरसिंह(65), गैंदीबाई पत्नी किशनलाल(63), आरती पिता दिलीप(14), पायल पिता पहलवान(12), काशीबाई पत्नी गोवर्धन(65), लीलाबाई पत्नी किशनशलाल(50), किरण पिता आजादसिंह(7), सूआबाई पत्नी दिलीपसिंह(50), केसरबाई पत्नी ऊंकारलाल(55) आदि शामिल हैं। इसके अलावा 6 घायलों को भोपाल व तीन को राजगढ़ रेफर किया गया, जिनमें नौरंगबाई पत्नी मोहब्बतसिंह, रेश्मबाई पत्नी बनेसिंह, रेश्मबाई पत्नी अर्जुनसिंह, कामाबाई पत्नी बद्रीलाल, सूआबाई पत्नी दिलीपसिंह, केसरसिंह पत्नी ऊंकारलाल, लीलाबाई पत्नी किशनलाल, रेश्मबाई पत्नी प्रभूलाल आदि शामिल हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network