सेकंड लीड

अनदेखीः सौ बिस्तरों के सिविल अस्पताल में महिलाओं को नहीं मिल रहा उपचार

सचित्र एसआरपी 5 प्रसूताओं को आ रही परेशानी। फोटोःफाइल।

6 अस्पताल में महिला डॉक्टर का अभाव।

7 डॉ. केके श्रीवास्तव, सीएमएचओ, राजगढ़।

सारंगपुर। नवदुनिया न्यूज

सिविल अस्पताल में दो स्त्री रोग विशेषज्ञ के पद हैं। लेकिन आज अस्पताल स्त्री रोग विशेषज्ञ नहीं हैं। ऐसे में विशेषज्ञ डॉक्टर नहीं होने से अब अस्पताल में आने वाली स्त्रियों का दर्द कौन समझेगा?।

सिविल अस्पताल में पदस्थ एक मात्र स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ. रीता वशिष्ठ बीते शनिवार को सेवानिवृत्त हो गई हैं। डॉ. वशिष्ठ सारंगपुर अस्पताल में लगभग 34 साल से सेवाएं दे रही थीं। उन्होंने अपने कार्यकाल के दौरान 15 हजार नसबंदी की और औसतन प्रत्येक दिन 5 सीजर ऑपरेशन किए। लेकिन उनकी सेवानिवृत्ति के बाद अब सिविल अस्पताल में स्त्री रोग विशेषज्ञ नहीं हैं। स्त्री रोग विशेषज्ञ के अभाव में स्त्री एवं प्रसूति रोगों से ग्रसित ग्रामीण अंचल की महिलाओं सहित शहरी महिलाओं को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। वही गंभीर हालत में उन्हें इलाज के लिए कई किमी दुर शाजापुर जिला अस्पताल जाना पड़ता है। बावजूद इसके अधिकारियों द्वारा महिलाओं की परेशानी पर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। वहीं जिम्मेदार जनप्रतिनिधियों द्वारा स्त्री रोग विशेषज्ञ की कमी को दूर करने की दिशा में कोई कारगर पहल नहीं की जा रही है। यदि जिम्मेदार जनप्रतिनिधियों और प्रशासनिक अधिकारियों की नजर सिविल अस्पताल सारंगपुर मे पड़ जाए तो स्त्री एवं प्रसूति रोगों से ग्रसित महिलाओं के रोगों का समाधान हो जाएगा।

शीघ्र पूर्ति करेंगे

सिविल अस्पताल सारंगपुर में स्त्री रोग विशेषज्ञ की कमी से हमने शासन को अवगत करवा दिया है। शीघ्र ही अस्पताल में स्त्री रोग विशेषज्ञ के पद की पूर्ति की जाएगी।

- डॉ. केके श्रीवास्तव, सीएमएचओ, राजगढ़

Posted By: Nai Dunia News Network