राजगढ़/ब्यावरा (नवदुनिया प्रतिनिधि)। जिले में पिछले तीन से हो रही लगातार वर्षा के कारण पूरा जिला एक बार फिर से पानी-पानी हो गया है। जिले की नदियां-नाले एक बार फिर से उफान पर आ गए। लगातार वर्षा के कारण मोहनपुरा-कुंडालिया के 14 गेट खोले गए हैं। उधर तेज वर्षा के कारण ब्यावरा के निचले इलाकों में पानी भरा गया है। अजनार नदी के उफान पर आने के कारण ब्यावरा के 30 फीसद हिस्से में एक बार फिर पानी भरा गया। जिसके कारण एक बार फिर से रहवासियों को परेशान होना पड़ा। बीते 24 घंटे में 72.8 मिमी वर्षा दर्ज की गई है।

जिले में पिछले माह ही अगस्त में 20 अगस्त के आसपास जोरदार वर्षा हुई थी। जिसके कारण जिले की सभी नदियां, नाले उफान पर आ गए थे। साथ ही जिले के सभी बांध भी लबालब हो गए थे। उसके बाद अब एक बार फिर से जिले में जोरदार वर्षा होने के कारण जिले की नदियां फिर से उफान पर आ गई थी। हालात यह रहे कि ब्यावरा की अजनार नदी ने फिर अपना रोद्र रूप दिखाना शुरू कर दिया है। शहर की निचली बस्तियों में पानी भरा गया। शहर के इंदौर नाका, अहिंसा द्वार, हाथीखाना, मुल्तानपुरा, अंजनीलाल रोड, मुल्तानपुरा, भंवरगंज के निचले हिस्से, रामलीला मार्ग में पानी भरा गया था। जिसके कारण मकानों में भी भरा गया। कई मकानों में पानी भराने के कारण घरों का सामान भी खराब हो गया। यहां पर इंदौर नाका का पुल, अस्पताल रोड, राजगढ़ रोड के पुल डूब गए थे।

पानी की निकासी नहीं होने के कारण भराया पानी

लगातार वर्षा के कारण ब्यावरा शहर में पानी भराने के पीछे मुख्य कारण जलनिकासी का न होना रहा है। यहां पर निचली बस्तियों से होकर पानी गुजरने के कोई इंतजाम नहीं है। शहर में ड्रैनेज सिस्टम पूरी तरह से फेल है। साथ ही नदी के किनारे बसाहट होने के कारण पानी के बहाव को निकलने में अड़चन रहती है। यही कारण है कि पानी बाहर निकलने की बजाए रहवासी इलाकों में भरा गया। बार-बार वही हालात बनने के बावजूद जिम्मेदार अधिकारी व विभाग इसका उचित इंतजाम नहीं कर सके।

मोहनपुरा-कुंडालिया के गेट खोलकर बहाया 3800 क्यूमेक पानी

जिले में लगातार वर्षा होने के कारण मोहनपुरा-कुंडालिया बांध एक बार फिर से लबालब हो गए हैं। ऐसे में मोहनपुरा व कुंडालिया के गेटों को खोला गया है। मोहनपुरा बांध के 9 गेटों को खोला गया है। इस बांध में से 7 गेट दो-दो मीटर खोले गए हैं। साथ ही शेष दो गेट 1-1 मीटर तक खोले गए हैं। इन 9 गेटों को खोलकर 2 हजार क्यूमेक प्रति सैकंड पानी बहाया जा रहा है। इसके अलावा कुंडालिया बांध के 5 गेट खोलकर 1800 क्येमेक पानी बहाया गया है। 5 गेटों को 3-3 मीटर तक खोलते हुए 1875 क्यूमेक पानी बहाया गया है।

छोटा पुल डूबने से कालीपीठ क्षेत्र के आधा सैकड़ा गांव प्रभावित

जानकारीके मुताबिक मोहनपुरा बांध के गेट खोलने के कारण नेवज नदी का छोटा पुल डूब गया। पुल डूबने के कारण कालीपीठ मार्ग पूरी तरह से बंद हो गया। पुल पर पानी आने के कारण कालीपीठ क्षेत्र के करीब आधा सैकड़ा गांवों का राजगढ़ से सढ़क संपर्क कट गया था। इस क्षेत्र के नागरिकों को हाईवे से होकर राजगढ के लिए आना-जाना पढ़ा है। यहां के नागरिक पूरे समय परेशान होते रहे।

बीते 24 घंटे में 72.8 मिमी वर्षा दर्ज

वर्षा ऋतु में जिले में 01 जून, 2022 से आज दिनांक 16 सितंबर तक जिले में 1668.4 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई है। जिले में बीते 24 घंटे में आज प्रातः 08ः00 बजे तक 72.8 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की है। जिले में गत वर्ष इसी अवधि में 1073.6 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की गई थी। जिले की वर्षा ऋतु में सामान्य औसत वर्षा 1100 मी.मी. है। अधीक्षक भू-अभिलेख द्वारा जिले के विभिन्ना वर्षामापी केन्द्रवार दर्ज बीते चौबीस घंटे में वर्षा की दी गई जानकारी अनुसार वर्षामापी केन्द्र तहसील जीरापुर में 98.2 मिलीमीटर, खिलचीपुर में 35.0, राजगढ़ में 41.1, ब्यावरा में 178.0, नरसिंहगढ़ में 65.0, सारंगपुर में 41.2 तथा तहसील पचोर में 51.0 मिली मीटर वर्षा दर्ज की गई है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close