राजगढ़। स्वरोजगार संस्थान आरसेटी में 35 बेरोजगारों का प्रशिक्षण संपन्ना हुआ। इस अवसर पर प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र का वितरण कर उज्जवल भविष्य हेतु मार्गदर्शन प्रदान किया गया। इस दौरान प्रशिक्षकों ने प्रतिभागियों को सचेत किया कि बैंक से मिले लोन का उपयोग सिर्फ व्यवसाय में करना है। अगर आप किसी और मद में इस राशि खर्च किया तो बैंक का लोन नहीं चुका पाएंगे। जिससे डिफॉल्टर होने पर आपके परिजनों और अगली पीढ़ी को भी बैंक आगे सहायता करने का जोखिम नहीं उठाएगी। समापन कार्यक्रम में एनआरएलएम के जिला परियोजना अधिकारी संजय सक्सेना, उज्जैन आरसेटी डायरेक्टर एसी वर्मा उपस्थित रहे।

आरसेटी निदेशक राजेंद्र कुमार ने बताया कि यह प्रशिक्षण 13 से 18 जनवरी तक चला। जिसमें नगर पालिका क्षेत्र राजगढ़ सहित जिले के अन्य ग्रामीण क्षेत्रों से आये 35 युवक, युवतियों ने उद्यम में सफलता के सीखे। इन प्रतिभागियों को प्रभावी संवादकला, सकारात्मक सोच, समय प्रबंधन, जरूरी शासकीय योजनाएं, कुशल उद्यमी के गुण, बाजार प्रबंधन के अलावा मार्किट सर्वे और प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार करना सिखाया गया। जबकि इसी दौरान आयोजित विधिक सेवा कैंप के दौरान जेएमएफसी फर्स्ट व किशोर न्याय बोर्ड की प्रिंसिपल जज अपूर्वा ताम्रकार ने महिलाओं के उत्पीड़न और किशोरों से जुड़े अपराध के मामलों में जरूरी प्रावधानों की जानकारी दी। जबकि जिला विधिक सहायता अधिकारी फारुख अहमद सिद्दीकी ने कोर्ट की तरफ से जरूरतमंदों को उपलब्ध कराई जाने वाली विधिक सहायता की जानकारी भी दी।

फोटो 1801 आरएजे 00 राजगढ़। कार्यक्रम का आयोजन किया गया

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket