सचित्र एसआरपी 5 लोडिंग वाहन में सवारी बैठाकर, वाहन से गुजरते है लोग।फोटोःनवदुनिया।

सारंगपुर।नवदुनिया न्यूज

ग्रामीण क्षेत्रों से शहर में आने वाले वाहनों में पहले सामान रखना और उसके बाद ज्यादा सवारी बैठाने का सिलसिला बंद ही नहीं हो पा रहा है। लोगों को वाहन के ऊपर तथा सामान पर बैठाने वाले ये वाहन चालक अपनी रफ्तार भी कम नहीं करते। इस कारण हादसों की आशंका बनी रहती है। ग्रामीण क्षेत्रों में टीन की चद्दरें व सरिए ले जाने का भी सिलसिला चल रहा है। टीन व सरिए लेकर चलने वाले ये वाहन किसी भी दिन बडी दुर्घटना का कारण बन सकते है। शहर में प्रतिदिन 100 से अधिक ट्रैक्टर ट्रॉली व लोडिंग वाहन आते हैं। गांव से ये वाहनों में बडी मात्रा में सवारियां बैठाकर लाते हैं। जाते समय पहले सरिया, सीमेंट, लोहे की चद्दर व अनाज तथा अन्य सामान भरा जाता है। इसके बाद सवारिया बिठाई जाती है। गांव से आने जाने वाले ये वाहन ओवरलोड ही चलते हैं। जब अधिकारी इन वाहन चालकों के विरुद्घ कार्रवाई करते हैं, तो ये वाहन चालक बैठी सवारियों को ढाल बना लेते है। इन वाहनों में बैठी सवारियां अधिकारियों को आने जाने का साधन न होने के कारण बताते हुए कार्रवाई न करने का निवेदन तक करने लगती है। इन लोडिंग वाहन चालकों ने आकोदिया नाका, बस स्टैंड, भल्ला कॉलोनी, पुराना बस स्टैंड, आगर नाका, इंदौर नाका के सामने अघोषित स्टैंड बना रखे हैैं। इस कारण न केवल यातायात व्यवस्था प्रभावित होती है बल्कि दुर्घटना की संभावना भी बनी रहती है।

आरटीओ की भी कार्रवाई नहीं

महीनों से वाहन चालकों पर कार्रवाई नहीं होने से भी वाहन चालकों में प्रशासनिक अमले का खौफ नहीं है। यही कारण है कि वाहन संचालकों द्वारा मनमानी पूर्वक परिवहन के नियमों को ताक में रखा जा रहा है। हर बार राजगढ़ आरटीओ एचके सिंह अपनी व्यस्तता और स्टाफ की कमी का बहाना बनाकर जल्द कार्रवाई का आश्वासन तो देते है उनके द्वारा कार्रवाई आज तक नहीं की गई है।

कार्रवाई की जाएगी

यातायात नियमों का उल्लंघन करने वाले वाहन चालकों, बिना परमिट दौड़ रहे वाहन और लोडिंग वाहनों में सवारियां बैठाने वाले वाहन संचालकों पर कार्रवाई की जाएगी।

रवींद्र चावरिया, थाना प्रभारी, सारंगपुर।

Posted By: Nai Dunia News Network