पड़ाना(नवदुनिया न्यूज)। पड़ाना आवास कॉलोनी की महिलाओं को समूह के रूप में सूर्योदय माइक्रो लिमिटेड कंपनी के माध्यम से लोन दिए जाने के नाम पर महिलाओं से हजारों रुपये की ठगी एक व्यक्ति के द्वारा की गई थी। जिसकी सुनवाई पुलिस-प्रशासन द्वारा नहीं की जा रही थी। गरीब महिलाओं के मुद्दें को उठाते हुए नवदुनिया ने 28 नंवबर शनिवार को प्रमुखता से समाचार प्रकाशित किया। समाचार प्रकाशित होने के बाद कलेक्टर नीरज कुमार सिंह ने स्थानीय प्रशासन को निर्देशित किया की मामले की जांच की जाए। कलेक्टर के निर्देश पर शनिवार को ठगी का शिकार हुई महिलाओं के समक्ष सारंगपुर तहसीलदार भूपेंद्र केलासिया अपनी टीम के राजस्व निरीक्षक केएल चौहान, हल्का पटवारी शहजाद खां मंसूरी एवं सचिव शिवराजसिंह राठौड़ के साथ पड़ााना आवास कॉलोनी पहुंचे और वारदात की बारिकी से पूछताछ की। तहसीलदार भूपेंद्र कैलासिया के द्वारा महिलाओं से चर्चा कर विस्तृत जानकारी ली और महिलाओं के बयान दर्ज किए तथा ठग व्यक्ति के बारे में पूरी जानकारी ली गई। श्री कैलासिया ने महिलाओं को आश्वस्त करते हुए कहा कि आपकों आपकी मेहनत की रकम वापस दिलाएंगें और जो भी ठग है उसके जल्द से जल्द पहचान कर गिरफ्तार किया जाएगा। उन्होंने कहा कि कलेक्टर साहब को सारे मामले से अवगत करा कर आगे की कार्रवाई की जाएगी।

पीड़िताओं ने की ठग पर कठोर कार्रवाई की मांग

महिलाओं ने कहा कि व्यक्ति ने अपना नाम राकेश मोबाइल नंबर 87200 664 91 तथा अपना आधार कार्ड बताते हुए अपना ऑफिस सारंगपुर कॉलेज के पास बजाज शोरूम के पीछे एक नवीन मकान में बताया गया था। उसके द्वारा 20 नवंबर को आवास कॉलोनी पड़ाना में समूह में महिलाओं को लोन देने के नाम पर मीटिंग भी आयोजित की जा रही थी तथा ट्रेनिंग के दौरान उक्ति व्यक्ति के द्वारा प्रत्येक महिलाओं से 1700 रुपये की राशि जमा कर 45000 रुपये का लोन तुरंत पास कर देने का आश्वासन दिया था। महिलाएं ठग के बहकावे में आकर ठगी का शिकार हुई। महिला में उर्मिला बाई माली, सोरम बाई वर्मा, रीना बाई वर्मा, संगीता बाई वर्मा, वल्लभबाई वर्मा, कृष्णा बाई वर्मा, कविता बाई, ममता बाई, सुनीता बाई, कृष्णा बाई यादव, शकुंतला बाई, ममता बाई ने बताया कि महिलाओं के द्वारा एक समूह में 13 तथा दूसरे समूह में 8 महिलाओं के द्वारा ग्रुप तैयार किया गया था। जिसमें से 13 महिलाओं के द्वारा सत्रह सौ रुपए तथा दूसरे ग्रुप की 8 में से 5 महिलाओं द्वारा सत्रह सौ रुपए की राशि सहित आधार कार्ड परिचय पत्र पति पत्नी के फोटो एवं बैंक पासबुक की फोटो कॉपी उक्त व्यक्ति के पास जमा करा दी गई थी तथा राशि जमा करने के बाद 24 नवंबर को सारंगपुर ऑफिस में पहुंचे तो उक्त व्यक्ति हमें नहीं मिला तो हमारे होश उड़ गए तथा हमारे द्वारा सारंगपुर पुलिस थाने में शिकायत की गई तो सुनवाई नहीं की गई।

आज हम ठगी का शिकार महिलाओं से ठगी के पुरे मामले और ठग के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए पड़ाना पहुंचे थे और उन्हें आश्वस्त किया है कि उन्हें राशि दिलवाई जाएगी। ठग को पकड़ा जाएगा।

भूपेंद्र कैलसिया, तहसीलदार, सारंगपुर।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस