राजगढ़। राजगढ़ लोकसभा सीट से भाजपा के रोडमल नागर ने कांग्रेस की मोना सुस्तानी को 4 लाख 31 हजार वोट से हराया है। रोडमल नागर को 823824 और मोना सुस्तानी को 392805 वोट मिले। साल 2014 में भी रोडमल नागर ने यहां से 2 लाख 27 हजार से अधिक मतों से जीत दर्ज की थी।

ये मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह की परंपरागत सीट है। वो यहां से सांसद रहे हैं। इस बार भी चुनाव से पहले उन्होंने राजगढ़ सीट से ही चुनाव लड़ने की इच्छा जताई थी। लेकिन कमलनाथ के कहने पर दिग्विजय सिंह भोपाल सीट से चुनाव लड़े।

राजगढ़ लोकसभा सीट पर 12 मई को 74 प्रतिशत मतदान हुआ था। यहां भाजपा की ओर से रोडमल नागर और कांग्रेस की ओर से मोना सुस्तानी के बीच मुकाबला है। शुरू से ही इस सीट पर कांग्रेस का कब्जा रहा, लेकिन बीच-बीच में भाजपा ने भी यह सीट जीतने में सफलता प्राप्त की। लेकिन पिछले करीब 34 साल से यह सीट कांग्रेस के दिग्गज नेता पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजयसिंह की सीट के रूप में जानी जाती है।

ऐसा रहा है सीट का सियासी इतिहास

1952 से लेकर 2014 तक हुए 16 लोकसभा चुनाव में जहां 9 बार कांग्रेस ने जीत दर्ज की है। वहीं भाजपा महज 4 बार ही जीतने में सफल हो सकी है। जबकि एक-एक मर्तबा निर्दलीय व लोकदल के उम्मीवार भी चुनाव जीत चुके हैं। यहां भाजपा के बसंत कुमार पंडित, प्यारेलाल खण्डेलवाल जैसे दिग्गज नेता चुनाव जीत चुके हैं तो कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह व उनके अनुज भी कई बार यहां से सांसद थे। दिग्विजयसिंह 1984, 89 में सांसद चुने गए थे। तो 1994, 96, 98 व 99 में उनके अनुज लक्ष्मणसिंह कांग्रेस से सांसद चुने गए थे। 2004 में फिर लक्ष्मणसिंह भाजपा से सांसद चुने गए थे।

Posted By: Prashant Pandey