राजगढ़ (नवदुनिया प्रतिनिधि)। रावण दहन स्थल पर पूजन-अर्चना के समय मंच टूटकर गिरने के साथ ही अतिथियों के गिरने के चलते प्रशासन ने जिम्मेदार कर्मचारियों पर बड़ी कार्रवाई करते हुए तीन कर्मचारियों को निलंबित कर दिया है, जबकि मंच बनाने वाले ठेकेदार को तीन साल के लिए ब्लैक लिस्टेड कर दिया है। साथ ही उसका भुगतान भी रोक दिया है। यदि अन्य कोई दोषी पाया जााता है तो उसके खिलाफ भी कार्रवाई की जा सकती है।

विजयदशमी के मौके पर ब्यावरा में रावण दहन स्थल पर भगवान के विमान में मौजूद भगवान की पूजन-अर्चना के लिए तीन फिट ऊंचा मंच बनाया गया था। रावण के पुतले के दहन के पहले अतिथियों व अधिकारियोंद्वारा पूजन-अर्चना की जा रही थी। उसी दौरान तीन फीट ऊंचा मंच जमींदोज हो गया। मंच टूटने के साथ ही अतिथियों के रूपमें मौजूद जनप्रतिनिधि व अधिकारी वहीं पर गिर गए थे। इस हादसे में पूर्व विधायक नारायणसिंह पंवार व नपा के उपयंत्री एमके दीक्षित के पैर में चोटें आई थी। इस घटना के दूसरे दिन एसडीएम ने इस कार्य के लिए जिम्मेदार तीन कर्मचारियों उपयंत्री एमके दीक्षित, निर्माण शाखा प्रभारी सहायक ग्रेड-1 शिवपालसिंह भाटी एवं राजस्व निरीक्षक नगर पालिका हरीश शर्मा को एसडीएम जूही गर्ग ने निलंबित कर दिया है। दो का निलंबन यहीं से हो चुका है, जबकि श्री दीक्षित के निलंबन का प्रस्ताव कलेक्टर को भेजा है।

तीनों कर्मचारी थे इस कार्य के लिए जिम्मेदार, इसलिए की कार्रवाई

जिन तीन कर्मचारियों को एसडीएम द्वारा निलंबित किया गया है वह तीनों ही कर्मचारी इस पूरे कार्य के लिए जिम्मेदार थे। एमके दीक्षित को पूरे दशहरा पर्व के लिए नोडल अधिकारी बनाया गया था। ऐसे में सारी व्यवस्थाएं उन्हें देखना था। कहीं कोई कमी होने पर उन्हें उसेे दुरूस्त कराना था, लेकिन उनके द्वारा ऐसा नहीं किया गया। इसके अलावा शिवपालसिंह भाटी निर्माण शाखा के प्रभारी होने के साथ-साथ मंच निर्माण के भी प्रभारी थे। उनके द्वारा अपने दायित्वों का ठीक से निर्वहन नहीं किया गया। उधर राजस्व निरीक्षक हरीश शर्मा दशहरा प्रभारी होनेके साथ ही पुतला निर्माणके भी प्रभारी थे। ऐसे में इन तीनों कर्मचारियों की लापरवाही पायी जाने पर निलंबित किया गया है।

ठेकेदार तीन साल नहीं कर सकेगा साल तक काम

एसडीएम द्वारा जारी किए गए आदेश में कहा है कि 11 अक्टूबर को पीपल चौराहा व दशहरा मैदान पर मंच बनाने के लिए ठेकेेदार अब्दुल रईस को कार्यादेश दिया था।ऐसे में आपके द्वारा मंच गुणवत्ताविहीन बनाया गया।अतिथियों के बैठने पर मंच ढह गया। जिससे कि जनप्रतिनिधियों व अतिथियों को शारीरिक रूप से क्षति हुई है। उक्त घटना के कारण आम नागरिकों व जनप्रतिनिधियों के द्वारा प्रशासन व नगर पालिका की निंदा की गई है।ऐसे में उक्त कार्य में संलग्न ठेकेदार अब्दुल रईस खान, निवासी ब्यावरा को तीन साल के लिए ब्लैक लिस्टेड किया जाता है।

पूरे मामले में बिठाई जांच, ठेकेदार का 40 हजार का भुगतान रोका

उसकी गुणवत्ता में बरती गई लापवाही को लेकर एसडीएम जूही गर्ग ने पूरे मामले पर विभागीय जांच भी बैठा दी है। इसके लिए जांच अधिकारी तहसीलदार ब्यावरा महेंद्र सिंह को बनाया गया है। उन्हें एक माह के भीतर पूरे मामले में जांच करते हुए जांच प्रतिवेदन एसडीएम को सौंपने के लिए कहा गया है। साथ ही मंच निर्माण करने वाले ठेकेदार अब्दुल रईस खान का दोनों मंचों का 40 हजार रुपये का भुगतान भी रोक दियागया है। उक्त ठेकेदार को भुगतान नहीं किया जाएगा।

मंच टूटने के मामले में दो कर्मचारियों को तत्काल प्रभाव से निलंबितकर दिया है। एक के निलंबन का प्रस्ताव कलेक्टर सर को भेजा है। ठेकेदार को तीन सालकेलिए ब्लैकलिस्टेड किया है व भुगतान रोक दिया है। भुगतान नहीं किया जाएगा।

जूही गर्ग, एसडीएम व नपा प्रशासन ब्यावरा

मंच व जो सरंचनाएं की गई थी वह ठीक नहीं थी। मंच के टूटने से श्रद्धालुओं के मन में धार्मिक आयोजन व प्रशासन के प्रति ठेस पहुंची है। मंच निर्माण व आयोजन में एसडीएम व बतौर प्रशासक के निर्देशों की अधिनस्थ अमले ने अवहेलना की है। इसमें जो दोषी हो, उनकी जिम्मेदारी तय होना जरूरी है। यह बड़ा हादसा हो सकता था। भविष्य में इस तरह की पुनावृत्ति न हो इसका विशेष ख्याल रखा जाए।

नारायणसिंह पंवार, पूर्व विधायक ब्यावरा

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local