Rajgarh news: राजगढ़। जिले में खाद संकट खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है। प्रशासन का दावा है कि जिले में पर्याप्त खाद है। खाद की कहीं कोई कमी नहीं है, लेकिन वहीं दूसरी और जिले में खाद के लिए किसानों को हर दिन कतारों में लगना पड रहा है।इतना ही नहीं विरोध स्वरूप एक बार फिर जीरापुर में खाद संकट के चलते किसानों ने इंदौर-कोटा हाइवे पर किया एक घंटा च-ाजाम कर दिया था। करीब एक घंटे चले जाम को पुलिसकर्मियों द्वारा खुलवाया गया।

किसानों को हो रही भारी परेशानी

उल्लेखनीय है कि रबी की फसल के रूप में गेहूं, चना, धनिया, सरसों व मसूर की बोवनी को जैसे-जैसे समय बीत ताजा रहा है, उसी के साथ यूरिया खाद की मांग लगातार तेज होती जा रही है। किसानों का मानना है कि बोवनी के बाद ही यूरिया की जरूरत जब सबसे अधिक लगती है, लेकिन ऐसे ही समय में किसानों को खाद के लिए कतारबद्घ होना पड़ रहा है। कहीं न कहीं किसानों को खाद बांटा जा रहा है तो वह कुछ ही समय में खत्म हो रहा है और किसानों को टोकन लेकर संतोष करना प;ड रहा है। इसी के तहत सोमवार को किसानों ने जीरापुर में खाद नही मिलने के कारण च-जाम कर दिया। यहां बड़ी संख्या में किसान सड़क पर जाम लगाए रहे। किसानों का कहना था की जरूरत के मुताबिक खाद नही मिल रहा। किसानों का कहना है कि जब पर्याप्त खाद है तो टोकन देकर हमें इंतजार क्यों करवाया जा रहा है। समय पर खाद उपलब्ध करवाया जाना चाहिए।

ब्लैक में अधिक दाम पर बिकता है खाद

जाम लगाने के दौरान किसानो ने आरोप लगाए हैँ की शाम 7 बजे बाद कई लोग ब्लैक में मनमाने दामों पर खाद का विक्रय करते है। रात के समय 500-600 रूपये प्रति बोरी के हिसाब से खाद का विक्रय किया जाता है। ब्लैक हो रहे खाद के विक्रय को रोकने के लिए प्रशासन का कहीं कोई ध्यान नही है।

किसानों की परेशानी का हाल

केस 01ः खाद लेने की लिए शनिवार 26 नवंबर को सेंकड़ो किसान राजगढ़ पुराना बस स्टेण्ड केंद्र पहुंचे थे। यहां किसानों को पूरे समय खाद के लिए लाइनों में लगना पढ़ा। नवीन बस स्टेण्ड खरीदी केंद्र पर भी किसान खाद के लिए परेशान होते रहे।

केस 02ः खाद लेने के लिए शुक्रवार 26 नवंबर को किसान कहि खीमाखेड़ी केंद्र पहुंचे थे। यहां किसानों को खाद दिया गया, लेकिन शाम होने के पहले ही खाद खत्म हो गया। ऐसे में यहां किसानों को टोकन बाँटने पड़े।

केस 03ः 24 नवंबर को किसान खाद लेने की लिए खींमाखेड़ी केंद्र पर पहुंचे थे। यहां दिनभर से किसान खाद लेने का इंतजार करते रहे। जब किसानों को खाद नहीं मिला तो जयपुर-जबलपुर हाइवे पर च-जाम कर दिया था। जिसे एसडीएम जूही गर्ग ने पहुंचकर खुलवाया। फिर भी किसानों को खाद नहीं मिला, बल्कि एसडीएम ने टोकन बंटवाये, टोकन लेकर किसानों को लौटना पढ़ा।

केस-04ः खाद लेने के लिए 21 नवंबर को हजारों किसान जीरापुर इस्थिति आवास कालोनी के समीप खाद वितरण केंद्र पर पहुंचे। यहां हजारों किसानों की भीड़ जमा हो गई थी। अंततः खाद खत्म हो गया। ऐसे में करीब 2 हजार किसानों को खाली हाथ बिना खाद के ही लौटना पढ़ा।

केस-05ः ब्यावरा मंडी रोड पर निजी विक्रेता के यहां सेंकड़ो किसान 17 नवंबर को खाद लेने पहुंचे थे। खाद नहीं मिलने के कारण किसानों ने ब्यावरा-सुठालिया हाइवे पर च-जाम कर दिया था। अव्यवस्था पर एक पटवारी को निलंबित किया गया।

केस-06ः जिले में व्याप्त खाद संकट को लेकर कांग्रेस पार्टी ने ब्यावरा में धरना देकर विरोध प्रदर्शन किया। शासन से किसानों को पर्याप्त खाद देने की मांग की।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close