पचोर/सारंगपुर(नवदुनिया न्यूज)। एक देश में 2 प्रधान, 2 विधान और 2 निशान नहीं चलेंगे का नारा देकर कश्मीर बचाने वाले जनसंघ के संस्थापक एवं भाजपा के पितृ पुरुष कहे जाने वाले स्वतंत्रता संग्राम सेनानी श्यामाप्रसाद मुखर्जी की जयंती पचोर भाजपा भूल गयी। दोपहर 3 बजे भूल का अहसास होने पर कुछ कार्यकर्ताओं ने वर्तमान एवं पूर्व मंडल अध्यक्ष को फोन लगाकर बुलाया तब कहीं मुखर्जी चौक में माल्यार्पण किया गया। जबकि सारंगपुर में तो किसी भी नेता को यह याद तक नहीं आया कि आज पार्टी के पितृ पुरुष की जयंती भी है, इसलिए जयंती मनाने तक की जहमत नहीं उठाई।

वर्तमान में नगरीय निकाय चुनाव चल रहे है। पचोर शहर में इस संबंध में बुधवार को भाजपा मुख्य चुनाव कार्यालय में सभी 15 ही वार्डों के उम्मीदवार सहित सभी वरिष्ठ कनिष्ठ नेता कार्यकर्त्ता समेत लगभग 70, 80 लोग उपस्थित थे। चुनाव में ऐसे व्यस्त हुए की 6 जुलाई को मनाई जाने वाली श्यामाप्रसाद मुखर्जी जयंती को भूल गए। आम तौर पर पचोर भाजपा के कार्यकर्ता सुबह 9 बजे से 10 बजे के बीच विभिन्ना जयंती आयोजन संपन्ना कर लेते हैं। बुधवार को मुखर्जी जयंती भूलवश छूट गयी। हालांकि बाद में दोपहर तीन बजे भाजपा बद्रीलाल भंडारी, भाजपा नेता कमल सक्सेना को जयंती याद आने पर अन्य नेताओं को एकत्रित किया गया तब कहीं मुखर्जी चौक पर स्थित प्रतिमा पर माल्यार्पण किया गया। माल्यार्पण के अवसर पर रामभरोसे यादव, बद्रीलाल भंडारी, कमल सक्सेना, संदेश राजोरे सहित मंडल अध्यक्ष विकास दीक्षित, मनीष यादव दिलीप कुशवाह उपस्थित रहे।

सारंगपुर में नहीं बनाई गई जयंती

सारंगपुर की बात करे तो यह भाजपायियों के द्वारा श्री मुखर्जी की जयंती नहीं मनाई गई। पार्टी के कई पदाधिकारी अपने-अपने वार्डो में चुनाव की तैयारी एवं प्रचार में जुटे रहे और भाजपा राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के आगमन की खबर के बाद उसकी तैयारी करने में जुटे तथा बाद में उनका दौरा स्थगित होने पर उनके स्थान पर गुरुवार को सारंगपुर आ रही केबिनेट मंत्री ऊषा ठाकुर के आगमन की तैयारी की लेकिन श्याम प्रसाद मुखर्जी की जयंती समाचार लिखे जाने तक भाजपा द्वारा नहीं मनाई जाने की सूचना थी।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close