फ्लायर------

राजगढ़। जिले में स्वास्थ्य सेवाओं की स्थिति के जानने एवं कमियों को देखने के साथ ही उन्हें दूर करने की दिशा में करने के लिए 16 नवंबर को स्वास्थ्य विभाग की एक टीम जिला अस्पताल पहुंचेगी। यहां पहुंचने के बाद अस्पताल से जुड़ी हुई स्वच्छता, मशीनरी, संसाधन सहित पूरी की पूरी व्यवस्थाआों का जायजा लेगी। साथ ही संभव हुआ तो सुधार की दिशा में आवश्यक कदम उठाए जाएंगे।

शासन द्वारा स्वास्थ्य सेवाओं को सुद्ढ करने के लिए एक कायाकल्प अभियान को शुरू किया है। जिसके तहत प्रदेश में सभी दूर अलग-अलग क्षेत्रों से डॉक्टरों टीमों का गठन किया गया है। उक्त टीमों के द्वारा तय दिनांक एवं समय पर पहुंचकर अस्पतालों का जायजा लेगी। इसी क्रम में 16 नवंबर को दो डॉक्टरों की एक टीम जिला अस्पताल पहुंचेगी। जिन डॉक्टरों का चयन किया गया है उनमें सीहोर जिले में पदस्थ डॉक्टर प्रवीण गुप्ता एवं डॉ. देवेन्द्र आर्य शामिल हैं। दोनों कार्यालय समय में जिला अस्पतालराजगढ़ पहुंचेंगे। यहां पहुंचने के बाद अस्पताल की बिल्डिंग, स्वच्छता, दवाएं, स्टॉप की उपलब्धता, सुरक्षा, संसाधन, मशीनरी के चालू अथवा बंद होने की स्थितियां सहित अस्पताल में मौजूद कमियों को बारीकी से देखा जाएगा। टीम के द्वारा यह देखा जाएगा कि आखिर यहां पर किस तरह के संसाधन एवं मरीजों की सुविधा के लिए व्यवस्थाएं हैं और किन सामग्री, संसाधन, मशीनरी व डॉक्टरों की कमी है। उक्त तथ्यों को देखने के साथ ही उनका बारीकी से अध्ययन किया जाएगा।

डॉक्टरों की कार्यक्षमता एवं कार्य व्यवहार पर नजर

जो टीम आएगी उसके द्वारा मौजूद डॉक्टरों एवं स्टॉफ नर्स सहित अन्य स्टाफ की कार्यक्षमता, काम करने का तरीका, मरीजों के प्रति उनका व्यवहार आदि देखा जाएगा। इसके अलावा अस्पताल में भर्ती होने वाले मरीजों की संख्या, ठीक होने वाले मरीजों की स्थिति एवं रेफर केस सहित ऐसे मामले देखे जाएंगे कि कहीं मरीजों को बेवजह तो यहां से नहीं भगाया जा रहा है। कुल मिलाकर प्रतिदिन अस्पताल में होने वाले कामों की एक प्रकार से मॉनीटरिंग करते हुए शासन को अवगत कराया जाएगा।

वरिष्ठ कार्यालय को देंगे रिपोर्ट

अस्पताल की शुरू से लेकर अंतिम स्थिति तक के सभी तथ्यों का निरीक्षण एवं मौका मुआयना करने के बाद उक्त टीम द्वारा पूरे तथ्यों की एक रिपोर्ट अपने वरिष्ठ कार्यालय को प्रदान की जाएगी। अस्पताल में क्या कमियां हैं एवं उन्हें कैसे दूर किया जा सकता है। किस तरह की जरूरी मशीनरी व स्ट्रैक्चर का अभाव है आदि से वरिष्ठ कार्यालय को अवगत कराया जाएगा। इसके बाद कार्यालय द्वारा यहाां की व्यवस्थाओं को दुरूस्त करने की दिशा में काम किया जाएगा।

सफाई और सुरक्षा पर फोकस

जैसे ही कायाकाल्प को लेकर समय नजदीक आता जा रहा है उसी के साथ अस्पताल में सुरक्षा एवं सफाई को लेकर विशेष रूप से ध्यान देना शुरू कर दिया गया है। माना जा रहा है कि संसाधन एवं स्टॉफ की उपलब्धता शासन स्तर का मामला है, लेकिन स्थानीय स्तर की खामी के चलते कोई ग़डबड़ी सामने न आए इसको लेकर प्रबंधन द्वारा इस और ध्यान देना शुरू कर दिया गया है।

इनका कहना है

एक बहुत बड़ा प्रारूप है, जिसके तहत कायाकल्प की टीम द्वारा अस्पताल पहुंचकर निरीक्षण किया जाएगा। इसके बाद वरिष्ठ कार्यालय को पूरे मामले की रिपोर्ट दी जाएगी। रिपोर्ट के आधार पर सुधार एवं कमियों को दूर करने के लिए भी टीम सुझाव देगी।

डॉ. केके श्रीवास्तव, सीएमएचओ राजगढ़

फोटो 1311 आरएजे 02 राजगढ़। जिला अस्पताल राजगढ़।

Posted By: Nai Dunia News Network