रतलाम। मंगलवार को एनएसयूआई के पदाधिकारी शासकीय कन्या महाविद्यालय की समस्या को लेकर ज्ञापन देने पहुंचे तो साथ में ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष विजय सिंह चौहान भी मौजूद थे। ज्ञापन देने के बाद जब प्राचार्य डॉ आरके कटारे ने ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष विजय सिंह चौहान को विजय कहकर कहा तो वह भड़क गए और कहने लगे विजय क्या होता है विजय जी बोलिए।

तब प्राचार्य ने कहा कि मैं आपको जानता हूं, आप स्टूडेंट रह चुके हैं। इसके बाद ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष ने प्राचार्य को यहां तक धमकी दे डाली कि रतलाम में रहने लायक नहीं छोडूंगा। गलतफहमी दूर कर लेना विजय सिंह चौहान नाम है मेरा।

दरअसल महाविद्यालय में भवन निर्माण कार्य चल रहा है। खुदाई के दौरान कॉलेज की दीवार सरकारी नाले में गिर गई है। नाले का मलबा तो हटा दिया, लेकिन एनएसयूआई के पदाधिकारी संबंधित ठेकेदार नहीं बाउंड्री वॉल बनाने वह भरपाई की मांग को लेकर ज्ञापन देने पहुंचे थे।

नाले में से नाले में गिरा मलवा तो हटा दिया लेकिन नगर निगम द्वारा उसकी गंदगी कॉलेज परिसर में ही डाल दी गई। ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष ने भड़कने के बाद निर्माण एजेंसी पीआईयू के प्रोजेक्ट ऑफीसर जीएस भूरिया को भी एफआईआर कराने की धमकी देते हुए देख लेने का भी कहा। इस दौरान पाचार्य समझाने की कोशिश करते रहे। पदाधिकारियों ने प्राचार्य व प्रशासन के खिलाफ भी मुर्दाबाद के नारे लगाए।

ब्लॉक कांग्रेस ने महाविद्यालय की जनभागीदारी समिति अध्यक्ष प्रेमलता दवे को भी कॉलेज की समस्या का ज्ञापन देने की बात कहकर बुलाया था लेकिन इस तरह हंगामा होने पर वह भी असहज दिखी। इस पूरे मामले में प्राचार्य ने कुछ भी कहने से इनकार कर दिया है।

Posted By: Hemant Upadhyay