रतलाम। मूलरूप से मंदसौर और अब रतलाम में रहने वाले अधिवक्ता चंद्रशेखर शुक्ला व उर्मिला शुक्ला के बेटे हिमांशु शुक्ला भी उन विशेष वैज्ञानिकों की टीम में शामिल हैं, जिन्होंने चंद्रयान-2 की सफल उड़ान में अहम भूमिका निभाई है। हिमांशु छह साल से इसरो में बतौर इंजीनियर सेवाएं दे रहे हैं। वे इसरो के उन विशेष वैज्ञानिकों की टीम का हिस्सा हैं, जिन्होंने चंद्रयान-2 का बूस्टर तैयार किया है।

चंद्रयान-2 मिशन में जुटे इसरो के 300 वैज्ञानिकों की टीम में हिमांशु के शामिल होने से सोमवार को चंद्रयान की लांचिंग के दौरान शहरवासियों में भी उत्सुकता बनी रही। हिमांशु ने शासकीय इंजीनियरिंग कॉलेज उज्जैन से बीई किया है। इसके बाद वे इसरो से जुड़े। पिता चंद्रशेखर ने बताया कि हिमांशु अब राखी पर घर आएगा।

अब छुट्टी मिलेगी, राखी पर घर आऊंगा

सोमवार को लांचिंग के बाद हिमांशु ने मां से बात की और खुशी जताते हुए कहा कि अब छुट्टी मिल जाएगी। वह रक्षाबंधन पर घर आएगा।

यह भी पढ़ें : मोबाइल छीना तो किसी ने पिता पर लगाए आरोप तो कोई घर से भागा, अपने बच्चों को ऐसे बचाएं

यह भी पढ़ें : तब अंग्रेजों से कहा था- भारत छोड़ो, अब अपनों से कैसे कहूं- मुझे छोड़ दो

यह भी पढ़ें : MP के आईपीएस संजय चौधरी के खिलाफ लोकायुक्त में भ्रष्टाचार की शिकायत

यह भी पढ़ें : दो बहनों पर कुत्ते का हमला, छोटी की आंतों तक धंसे दांत, देखें VIDEO

यह भी पढ़ें : Madhya Pradesh Metro Project : आज शुरू तो 2033 में सीहोर-औबेदुल्लागंज पहुंचेगी मेट्राे

यह भी पढ़ें : रिजर्वेशन और ट्रेन स्टेटस जानने के लिए न करें इन Apps का इस्तेमाल, वर्ना होगा बड़ा नुकसान