- भाजपा जिला उपाध्यक्ष चंद्रप्रकाश ओस्तवाल ने लिखा पत्र

जावरा (नईदुनिया न्यूज)। भारतीय जनता पार्टी के जिला उपाध्यक्ष चंद्रप्रकाश ओस्तवाल ने मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान, प्रभारी मंत्री जगदीश देवड़ा, सांसद सुधीर गुप्ता, विधायक डा. राजेंद्र पाण्डेय को एक पत्र लिखा। जिसमें जावरा शहर की बहुप्रतिक्षित मांग जावरा को जिला व रतलाम को संभाग बनाने की मांग की।

पत्र में बताया कि जावरा-आलोट क्षेत्र की बहुप्रतीक्षित मांग जावरा को जिला बनाने की घोषणा लंबे समय से लंबित है। यह क्षेत्र भौगोलिक दृष्टि से आलोट, ताल, बड़ावदा, कालूखेड़ा, पिपलौदा, जावरा ग्रामीण एवं ढोढर को सम्मिलित करते हुए यहां की जनसंख्या करीब 12 लाख के करीब है। जहां पर पॉलिटेक्निक शासकीय महाविद्यालय, आईटीआई व अन्य और भी महाविद्यालय स्थापित है। व्यापार की दृष्टि से इन क्षेत्रों की मंडिया बहुत बड़ी होकर प्रदेश की टॉप 10 मंडियों में दर्ज है। यातायात की दृष्टि से फोरलेन, आठ लेन व जावरा से समस्त तहसील मुख्यालय तक जाने के लिए टू-लाइन की रोड़ बनी हुई है। रेलवे की दृष्टि से जावरा में रैक पॉइंट होकर चित्तौड़ से लेकर रतलाम तक ब्रॉड गेज रेलवे लाइन स्थापित हो चुकी है। इलेक्ट्रीशियन लाइन भी उक्त मार्ग की बनी हुई है। रेलवे लाइन का दोहरीकरण भी प्रस्तावित है। वह स्वास्थ्य सुविधाओं की दृष्टि से शासकीय चिकित्सालय को जिले स्तर की सुविधाएं प्रदान कर शासन जनप्रतिनिधियो व जनता के सहयोग से उन्नायन किया जा रहा है। राजनीतिक रूप से भी इस क्षेत्र से मुख्यमंत्री डा. कैलाशनाथ काटजू, सांसद डा. लक्ष्‌मीनारायण पाण्डेय, पूर्व गृहमंत्री भारतसिंह, कांग्रेस नेता महेंद्रसिंह कालूखेड़ा एवं वर्तमान केंद्रीय सामाजिक न्याय मंत्री थावरचंद गेहलोत, तत्कालीन सांसद मेघराज जैन की कर्मभूमि होकर दशकों तक इन नेताओं ने प्रदेश व राष्ट्रीय स्तर पर सेवा की। वहीं दिल्ली-मुंबई इंडस्ट्रियल कॉरिडोर पर हमारा शहर स्थित है। जहां पर वर्तमान में 36 हेक्टर का उद्योगी क्षेत्र प्रस्तावित है। वहीं उद्योग विभाग की लैंड बैंक में करीब 500 बीघा जमीन औद्योगिक विकास के लिए चयनित है। वहीं उपरोक्त तहसीलों में कृषि मुख्य धंधा होकर कृषि पर आधारित उद्योगों की अपार संभावना है और यहां मुंबई-दिल्ली आठ लाइन का सेंटर पॉइंट भी है। यहीं से 35 किलोमीटर की दूरी पर 1800 हेक्टर का औद्योगिक क्षेत्र प्रदेश शासन द्वारा स्वीकृत किया गया है तथा औद्योगिक विकास की इस क्षेत्र में अपार संभावना है। संभाग की दृष्टि से इस क्षेत्र के निवासियों, गरीब व्यक्तियों व किसानों को संभाग कार्यालय उज्जैन आने जाने में बहुत समस्या होती है। इसलिए जावरा को नवीन जिला बनाया जाए और रतलाम को संभाग घोषित किया जाए। ताकि लोगों को रोजगार के ज्यादा से ज्यादा अवसर उपलब्ध हो सके व शहर अपनी विकास की गति पकड़ दौड़ सके।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags