रतलाम। आदिवासी एकता परिषद, अखिल भारतीय भील समाज, आदिवासी छात्र संगठन, जय आदिवासी युवा शक्ति (जयस), वीर एकलव्य आदिवासी सामाजिक सेवा संस्था के संयुक्त तत्वावधान में जिले के ग्राम रामपुरिया में जयस महापंचायत का आयोजन हुआ। महापंचायत में आदिवासी अस्मिता, कला, आत्मसम्मान, संस्कृति, इतिहास ज्ञान, स्वावलंबन अस्तित्व, प्रकृति, पर्यावरण, आदिवासी संवैधानिक अधिकारों, पैसा कानून, जल, जंगल के संवैधानिक अधिकारों, बेरोजगारी, शिक्षा, स्वास्थ्य जैसे अनेक विषयों को लेकर गहन विचार विमर्श किया गया। साथ ही आदिवासियों की गंभीर समस्याओं के समाधान के लिए चिंतन-मनन किया गया।

प्रारंभ में आदिवासी संस्कृति से ओत-प्रोत कार्यक्रम की प्रस्तुति दी गई। नई दिल्ली के अभिभाषक कोलिन गोंजालविज, डा. पीडी मेहनत, डा. आनंद राय, भीम आर्मी के विनय रतन, भील प्रदेश राजस्थान के कांति भाई रोत, जयस आलीराजपुर के नितेश अलावा, सुमित्रा मेड़ा, कविता भगौरा, महेंद्र लोधी सहित कई वक्ताओं ने विचार रखे। इसमें प्रमुख रूप से रतलाम के पास प्रस्तावित विशेष औद्योगिक निवेश को लेकर विलेश खराड़ी ने नाराजगी व्यक्त की। ग्रामीणों में विस्थापन को लेकर रोष देखने को मिला। प्रशासन द्वारा रतलाम शहर में जयस महापंचायत को लेकर अनुमति निरस्त करने से कई पदाधिकारी प्रशासन के खिलाफ नाराजगी जाहिर की। मुख्य आयोजक डा. अभय ओहरी, राहुल डामोर, सुरेश डांगी, केशुराम निनामा, मुकेश भूरिया, चंदू मईड़ा, विक्रम चारेल, दीपक निनामा, राजकुमार डामोर थे। संचालन डा. कमल डामोर व सूरतलाल डामोर ने किया। आभार कमलेश्वर डोडियार ने माना।

टेलरिंग एवं बैंक मित्र प्रशिक्षण का शुभारंभ

रतलाम। जिला पंचायत के सहयोग से ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण केंद्र पर जिले की ग्रामीण महिलाओं के लिए टेलरिंग एवं बैंक मित्र प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ सेवानिवृत्त मुख्य प्रबंधक व पूर्व अग्रणी बैंक जिला प्रबंधक हिम्मत गेलड़ा के मुख्य आतिथ्य में हुआ। प्रारंभ में आरसेटी डायरेक्टर आरएन पोरवाल ने अतिथि का परिचय देते हुए स्वागत किया। दोनों प्रशिक्षण की उपयोगिता के बारे में विस्तार से बताया कि इस प्रशिक्षण के बाद प्रशिक्षणार्थी अपने जीवन स्तर को ऊंचा उठाने के लिए आसानी से अपना स्वरोजगार प्रारंभ कर सकते हैं। पूर्व अग्रणी जिला प्रबंधक ने बताया कि यह बहुत खुशी की बात है कि शासन वं जिला स्तर पर बैंक मित्र बनने के लिए महिलाओं को प्रोत्साहन दिया जा रहा है। महिलाएं बैंक मित्र के माध्यम से ग्राहकों को बेहतर सेवा प्रदान कर सकती हैं। अपने कार्य कौशल को बढ़ाने के लिए छोटी-छोटी टिप्स बताई। बैंक मित्र को अपने पास आए ग्राहक की बैंक से संबंधित जरूरतों को समझते हुए उसे त्वरित ग्राहक सेवा प्रदान करना होगी इससे उनका स्वयं का टर्न ओवर बढ़ सकेगा व कमीशन के माध्यम से बहुत अच्छी आय बढ़ा सकते हैं। इस क्षेत्र में जितनी अच्छी सेवा प्रदान करेंगे, उतनी ही ज्यादा आय बढ़ेगी। साथ ही विधि साक्षरता के बारे में विस्तार से समझाइश दी। इस अवसर पर टेलरिंग की चल रही ट्रेनिंग का ट्रेनर कल्पना पुरोहित व डायरेक्टर आरएन पोरवाल के साथ निरीक्षण किया गया। आभार आरसेटी में राजेश पुरोहित ने माना।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local