रतलाम। निकाह के करीब 17 माह बाद युवक द्वारा पत्नी को कथित तौर पर फोन पर तलाक देने का मामला सामने आया है। पत्नी ने पति और सास पर प्रताड़ित करने, पति द्वारा दूसरी महिला से संबंध रखने और फोन पर तीन बार तलाक कहने का आरोप लगाते हुए 16 सितंबर की रात रिपोर्ट दर्ज कराई। नया कानून बनने के बाद रतलाम में यह पहला मामला है।

पुलिस के अनुसार नसरीन बी (20) निवासी पीएंडटी कॉलोनी ने रिपोर्ट में बताया कि उसका निकाह 29 मार्च 2018 को आरोपित जुबेर पिता कय्यूम अब्बासी निवासी ग्राम भैसोदा मंडी (भानपुरा) जिला मंदसौर से रीति-रिवाज के अनुसार हुआ था। बाद में पता चला कि पति का अन्य महिला से संबंध है।

पति के मोबाइल फोन के वाट्सएप से इसकी जानकारी मिली। अज्ञात महिला के फोटो भी पति के फोन में थे। आपत्ति लेने पर पति ने विवाद कर मारपीट की। जब सास आबेदा अब्बासी को यह जानकारी दी तो उन्होंने पति को समझाने की बजाय उसे ही बुरा-भला कह मारपीट की। निकाह के दो माह बाद ही ससुराल वालों ने उसे मायके में भेज दिया।

फिर विवाद किया

नसरीन ने पुलिस को बताया कि मायके भेजने के आठ दिन बाद पति और सास आए व अच्छे व्यवहार का विश्वास दिलाकर मुझे ससुराल ले गए, लेकिन वहां जाकर फिर विवाद करने लगे। चार माह पहले मारपीट की और मायके भेज दिया गया। 17 अगस्त 2019 को रिश्ता रखने के लिए पति को फोन किया तो वह विवाद करने लगा और कहा कि वह उसे रखना नहीं चाहता। फोन पर ही पति ने तीन बार तलाक कह दिया।

दोबारा संपर्क करने पर हलाला करने को कहा गया। मना करने पर आरोपित उसे अपनाने को तैयार नहीं है। औद्योगिक क्षेत्र पुलिस ने आरोपित पति और सास के खिलाफ मुस्लिम वूमन (प्रोटेक्शन ऑफ राइट ऑन मैरिज) एक्ट 2019 व भादंवि की धारा 498 ए के तहत प्रकरण दर्ज किया है। ट्रिपल तलाक कानून के तहत जिले में यह पहला मामला है।