रतलाम। कोरोना संक्रमण के बीच सूर्य उपासना का पर्व मकर संक्रांति जिले में गुरुवार को परंपरानुसार मनाया गया। धर्मालुओं ने सुबह स्नान-ध्यान के बाद देवालयों में दर्शन-वंदन कर दानपुण्य किया। गोशाला में गायों की सेवा-पूजा की गई। घर आने वाले मेहमानों का तिल-गुड़ से बने व्यंजनों से आतिथ्य सत्कार किया गया। सुबह से शाम तक खुले मैदानों, गली-मोहल्लों और कॉलोनियों में गिल्ली-डंडे का जोर रहा। कुछ स्थानों पर पतंगबाजी भी की गई।

मकर संक्रांति को लेकर धर्मालुओं में खासा उत्साह रहा। सुबह से देवालयों और गोशालाओं में दानपुण्य करने वालों की चहल-पहल रही। बच्चों और बड़ों ने गिल्ली-डंडा खेलकर पर्व मनाया। घर आने वाले मेहमानों का तिल-गुड़ से बनाए गए विभिन्ना प्रकार के व्यंजनों से स्वागत-सत्कार किया गया। मकर संक्रांति पर्व के उपलक्ष्‌य में परंपरानुसार इस वर्ष भी सामूहिक हल्दी-कुमकुम का आयोजन होगा। क्षत्रिय मराठा समाज द्वारा 17 जनवरी को शाम 4 बजे मराठों का वास स्थित मल्हार मार्तंड न्यास सभागार में हल्दी-कुमकुम का आयोजन किया जाएगा। संस्था अध्यक्ष सुमति जाधव व सचिव सीमा कदम ने बताया कि कोरोना से बचाव के लिए महिलाओं को निशुल्क तिल-गुड़ का वितरण किया जाएगा।

धर्म ध्वजा चढ़ाई

अमृत सागर स्थित श्री चारभुजा नाथ मंदिर पर मकर संक्रांति के उपलक्ष्‌य में धर्म ध्वजा चढ़ाई गई। तत्पश्चात मंदिर परिसर व धर्मशाला परिसर में निर्माण कार्य का शुभारंभ भी किया गया। इस अवसर पर समाज के कई सदस्यों ने मंदिर व धर्मशाला निर्माण में सहयोग राशि की घोषणा की। इस अवसर पर ट्रस्ट के संरक्षक चैनसिंह चौहान, ट्रस्ट अध्यक्ष विजयसिंह हरोड़, नवयुवक मंडल अध्यक्ष भारतसिंह सिसौदिया, रामसिंह यादव, करणसिंह राणावत, जीवनसिंह चौहान, अजीतसिंह सांखला, वीरेंद्रसिंह राठौर, भगवानसिंह राठौर, प्रवीणसिंह, विशालसिंह पंवार, प्रतापसिंह राठौर, रवींद्रसिंह चावड़ा, रूपसिंह चौहान सहित समाज के गणमान्यजन उपस्थित थे।

तिल-गुड़ घ्या आणि गौड़-गौड़ बोला

महाराष्ट्र समाज की महिलाओं द्वारा मकर संक्रांति पर्व जवाहर नगर स्थित उत्तरा जोशी के निवास पर मनाया गया। इस मौके पर महिलाओं ने एक-दूसरे को हल्दी-कुमकुम लगाकर सुहाग की वस्तुएं और तिल-गुड़ से बने व्यंजनों का आदान-प्रदान किया। प्रतिमा पाटील, उत्तरा जोशी, विनीता संत, शुभदा बर्वे, आसावरी मोघे, निहारिका मोघे, माधुरी सोहनी, सुभाश्री सोहनी, मृदुला करंदीकर, ज्योति वाघ, सुलभा कुलकर्णी, भाग्यश्री बर्वे, संपदा बर्वे, नीला मेंहंदले, कल्पना घाटपांडे, पर्णिका ब्रह्मे, सुनंदा करकरे, मनाली काले, अंजू साठे, सुमित्रा नायर आदि उपस्थित थीं।

विभिन्ना संस्थाओं को भेंट की राशि

रेलवे चिकित्साकर्मी न केवल कोरोना महामारी में अग्रिम पंक्ति के रूप में कार्य किया, वहीं चिकित्साकर्मियों ने मकर सक्रांति पर्व पर शहर के विभिन्ना स्थानों पर पहुंचकर दान पुण्य कर धर्म लाभ लिया। बाबूलाल जैन ने बताया कि रेलवे चिकित्सालय के कर्मचारियों द्वारा दिए गए 26000 रुपये के अनुदान को चिकित्सालय के मुख्य कार्यालय अधीक्षक बृजपालसिंह व रेलवे पेंशनर एसोसिएशन के अध्यक्ष प्रकाश व्यास के नेतृत्व में चिकित्सा स्टाफ ने सर्वप्रथम कालिका माता ट्रस्ट को 2100 रुपये की नकद राशि प्रदान की। इसके पश्चात ईश-प्रेम बस्ती पहुंचकर राशन सामग्री प्रदान की गई। मिशन कंपाउंड में संचालित बाल आश्रम में बच्चों के लिए राशन किट प्रदान की गई। वृद्धाश्रम में आश्रम की टूटी-फूटी खिड़कियों में फ्रेम व मच्छर जाली लगाने के लिए ?7000 की नकद राशि, बरबड़ रोड स्थित गोशाला, शहर के मध्य स्थित गोपाल गोशाला को 500-500 रुपये की नकद राशि प्रदान की गईस इस अवसर पर रेलवे चिकित्सालय स्टाफ बृजपालसिंह, बाबूलाल जैन, विजय, बाबूलाल लांबा, संतोष मेट्रन, कमला नगर, मनोज आदि उपस्थित थे।

अंतिम संस्कार में आर्थिक मदद कर मनाया पर्व

नागदा जंक्शन निवासी 65 वर्षीय राम लक्ष्‌मीबाई पत्नी गोदर गिरी की जिला अस्पताल में इलाज के दौरान 13 जनवरी की रात में मृत्यु हो गई। अंतिम संस्कार कराने जितनी भी राशि पति गोदर गिरी के पास नहीं होने पर अस्पताल चौकी प्रभारी प्रधान आरक्षक अशोक शर्मा को अपनी व्यथा बताई। उन्होंने तत्काल फोन पर काकानी सोशल वेलफेयर फाउंडेशन के सचिव समाजसेवी गोविंद काकानी को बताया। मकर संक्रांति के पावन दिन की सुबह भक्तन की बावड़ी पर अंतिम संस्कार विधि विधान से नीता इसरानी द्वारा माता चंद्रकांता इसरानी की स्मृति में प्रदत्त राशि से करवाया गया। समन्वय परिवार, प्रभु प्रेमी संघ व काकानी सोशल वेलफेयर फाउंडेशन की ओर से श्रद्धांजलि अर्पित की गई।

140 पुरुषों के साथ 47 मातृशक्तियों ने किया रक्तदान

मकर संक्रांति उत्सव पर सिखवाल ब्राह्मण समाज द्वारा मानव सेवा समिति ब्लड बैंक व सिविल हॉस्पिटल ब्लड बैंक के सहयोग से द्वितीय वर्ष रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया।

सिखवाल ब्राह्मण समाज रक्तदान समिति संयोजक चंद्रप्रकाश व्यास व पृथ्वीराज व्यास ने बताया शिविर सिखवाल समाज देवस्थान न्यास ट्रस्ट के अध्यक्ष अशोक पंड्या, वरिष्ठ न्यासी महेश व्यास, सिखवाल समाज समिति के संरक्षक लेहरूलाल व्यास के आतिथ्य में लगा। इसमें 187 यूनिट रक्तदान किया गया। 140 पुरुषों के साथ 47 मातृशक्तियों (महिलाओं) ने रक्तदान किया। शांतिलाल व्यास, धीरज व्यास, नारायण पंड्या, लखन पंड्या, जितेंद्र तिवारी, गोवर्धन व्यास, मुरली व्यास, राधेश्याम व्यास, चंद्रप्रकाश पुरोहित, गोविंद काकानी, मोहन मुरलीवाला, संजय पंड्या सत्यनारायण उपाध्याय, गौरव त्रिपाठी, दिनेश जोशी, पुष्कर व्यास, शिव व्यास, देवीलाल व्यास, निरंजन पुरोहित आदि प्रमुख रूप से उपस्थित थे। चंद्रप्रकाश व्यास व धीरज व्यास ने मानव सेवा समिति और शासकीय ब्लड बैंक के सभी डॉक्टर्स, स्टाफ का आभार माना।

वृद्ध अश्वों को आहार खिलाया

जैन सोशल ग्रुप रतलाम संस्कार द्वारा मकर सक्रांति पर्व पर जीवदया और मानव सेवा के अंतर्गत शहर में घोड़ा गाड़ी (तांगे) के लगभग बंद हो जाने के कारण निशक्त और वृद्ध हो चुके अश्वों को चना दाल, गेहूं की चापड, गुड़ और सरसों के तेल युक्त आहार खिलाया गया। साथ ही ठंड से बचाव के लिए अश्वों को कंबल ओढ़ाए गए।

मानव सेवा कार्य में आवासहीन व्यक्तियों को कंबल और ऊनी टोपे वितरित किए गए। जीवदया के इस कार्यक्रम में रितेश मांडोत, अंजलि मांडोत, राजेश कोठारी, महेंद्र जैन, नीता पावेचा, संदीप पावेचा, सचिन जैन, प्रांजल जैन, मनोज जैन, पंकज तलेरा, यतींद्र लोढ़ा, रानू लोढ़ा का सक्रिय रूप से योगदान रहा। कंबल और ऊनी टोपे रितेश मांडोत के सहयोग से वितरित किए गए। स्वल्पाहार के लाभार्थी यतींद्र लोढ़ा रहे। यह जानकारी ग्रुप के संस्थापक अध्यक्ष नरेश कुमार जैन ने देते हुए जीवदया के कार्य की अनुमोदना की।

दिनभर रहा गिल्ली-डंडे का जोर

सैलाना। नगर मकर संक्रांति पर्व हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। बच्चों ने गली-मोहल्लों में गिल्ली डंडा खेला तो किसी ने पतंग उड़ाई। मकर संक्रांति पर्व पर लोगों ने अपने घरों में तिल-गुड़ से बनी मिठाइयों का लुत्फ उठाया। बच्चे दिनभर खेलने में व्यस्त रहे। सुबह नगर के विभिन्ना चौराहे पर लोगों ने गोमाता को हरे छोड़, चारा व मिठाई खिलाई। पत्रकार वीरेंद्र त्रिवेदी ने माता की इच्छा पर गोशाला पहुंचकर गायों को हरा चारा तथा लापसी खिलाई। इसी तरह गोशाला में पूरे दिन कई समाजसेवियों ने गौ माताओं को चारा खिलाकर दान पुण्य का लाभ लिया।

दानपुण्य कर कमाया लाभ

नामली। नगर सहित ग्राम गुणावद, बड़ौदा, पंचेड़, कांडरवासा में मकर संक्रांति पर्व परंपरानुसार दान-पुण्य, गौ सेवा, पूजा-अर्चना के साथ मनाया गया। नगर के पल्दुना रोड स्थित श्री गोपाल गोशाला में गौ सेवा के लिए धर्मालुओं की भीड़ उमड़ी। जीवदया परिवार द्वारा गोशाला पर तीन क्विंटल लापसी बनाकर गौ माता को खिलाई गई। साथ ही बीमार गौ माता की सेवा कर गोशाला में मौजूद गायों की विधि-विधान से पूजा-अर्चना की गई। नगर सहित पास लगने वाले गांवों के ग्रामीणों ने संक्रांति पर्व पर गोशाला पहुंच गायों को हरी घास, गुड़, खल खिलाकर धर्मलाभ लिया। कई दानदाताओं ने गोशाला की बीमार गायों के उपचार के लिए नकद राशि भी प्रदान की। पंचेड़ स्थित आश्रम पर भजन-कीर्तन सहित वीडियो सत्संग के बाद जरूरतमंदों को कपड़े, साहित्य का वितरण कर आरती के बाद भोजन प्रसादी का आयोजन हुआ। बड़ी संख्या में धर्मालु मौजूद रहे।

गौ माता की पूजा-अर्चना की

कालूखेड़ा। समीपस्थ ग्राम तालीदाना में मकर संक्रांति पर्व पर महेंद्रसिंह कालूखेड़ा गोशाला में गौ माता की पूजा-अर्चना कर तिल व लापसी खिलाई गई। ग्रामीण विनोदसिंह राठौर, रामलाल पाटीदार, गोशाला समिति अध्यक्ष गजेंद्रसिंह राठौर, मन्नाालाल शर्मा, रमेशचंद्र शास्त्री, मांगीलाल पाटीदार, भगतराम माली, रामसिंह, मोहनसिंह, निजाम खां मंसूरी, राजेंद्रसिंह चंद्रावत, समरथ चौधरी, पवन सैन आदि ने लाभ लिया।

गायों को हरी घास व लापसी खिलई

आलोट। नगर में गुरुवार को मकर संक्रांति का पर्व परंपरागत रूप से मनाया गया। इस अवसर पर लोगों ने विभिन्ना मंदिरों पर जाकर भगवान के दर्शन-पूजन-वंदन व अभिषेक आदि के विशेष लाभ लिए। इसके बाद गायों को हरी घास व लापसी आदि मिष्ठान्ना खिलाए गए। बच्चों व बड़ों ने एक-दूसरों को तिल व गुड-शकर से बनी तिल पपड़ी, लड्डू आदि खिलाकर मकर संक्रांति की शुभकामनाएं दी। धर्म शास्त्रों में मकर संक्रांति को अन्नादान और गाय को घास खिलाना सबसे बड़ा पुण्य का कार्य बताया गया है। बच्चों ने दिनभर गिल्ली-डंडा व पतंगबाजी का आनंद लिया।

पतंगबाजी में मशगूल रहे बच्चे

करिया। क्षेत्र में मकर संक्रांति का पर्व परंपरानुसार मनाया गया। पर्व के दौरान भगवान सूर्य की विशेष पूजा-अर्चना कर गौ सेवा की गई। तिल व गुड़ से बने व्यंजन का सेवन कर दान पुण्य किया गया। बच्चे दिनभर पतंग उड़ाने और गिल्ली-डंडा खेलने में मशगूल रहे।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस