रतलाम। ग्रामीण क्षेत्र में कच्ची सड़कों से हो रही परेशानी व भ्रष्टाचार को लेकर जिला पंचायत के पूर्व उपाध्यक्ष व कांग्रेस नेता वीरेंद्रसिंह सोलंकी ने मंगलवार को कीचड़ यात्रा निकालकर जिला पंचायत में धरना देकर निराकरण की मांग की। भीड़ लेकर ज्ञापन देने आने की बात पर जिपं सीईओ मीनाक्षी सिंह और कांग्रेस नेता सोलंकी में बहस भी हो गई। करीब आधे घंटे तक प्रदर्शन के बाद सीईओ को ज्ञापन सौंपकर सड़कों की मरम्मत और निर्माण कार्यों में हुए भ्रष्टाचार की जांच की मांग की गई।

मंगलवार दोपहर करीब 12 बजे ग्रामीणों के साथ पहुंचे कांग्रेस नेताओं ने नारेबाजी की। सीईओ के कार्यालय में नहीं होने से वे सभी चैंबर के बाहर धरने पर बैठ गए। थोड़ी देर में सीईओ कार्यालय पहुंची तो कक्ष के बाहर भीड़ देखकर नाराजगी जताते हुए कहा कि भीड़ लगाने से समस्या हल नहीं होगी। उन्होंने कोरोना गाइडलाइन का हवाला देते हुए कहा कि तीन-चार लोग बात कर सकते हैं। इस दौरान तीखी बहस भी हो गई तो सोलंकी ने कहा कि एक साल से लोग परेशान हैं, निराकरण नहीं हुआ तो मजबूरी में धरना, आंदोलन करना पड़ रहा है। अधिकारियों को जनता की समस्या समझना चाहिए।

वीडियो रिकार्डिंग करवाई

सीईओ ने भीड़ जुटाने को लेकर नियमों का हवाला दिया और कर्मचारियों से मौके पर मौजूद लोगों की गिनती करने व वीडियो बनाने के भी निर्देश दिए।

महिलाओं ने बताई समस्या

ज्ञापन देने आए ग्रामीणों व महिलाओं से सीईओ ने उनकी समस्या पूछी तो ग्रामीणों ने बताया कि ग्राम दौलतपुरा से आम्बा तक कच्ची सड़क होने से कीचड़ के कारण बच्चे स्कूल नही जा पाते हैं। गर्भवती महिलाओं को आवागमन में सर्वाधिक समस्या होती है। दौलतपुरा में पेयजल की समस्या है। सीईओ ने जल्द निराकरण का आश्वासन दिया। इस दौरान जिला पंचायत के पूर्व सदस्य नंदराम शाह, पूर्व जनपद अध्यक्ष जगदीश सोलंकी, पूर्व सरपंच जवाहरलाल, सोहनलाल पाटीदार आदि उपस्थित रहे।

दौलतपुरा से आम्बा तक नंगे पैर चलकर जताया विरोध

आम्बा। आजादी के बाद भी कई गांव अब तक बुनियादी सुविधाओं की बाट जोह रहे हैं। इनमें से आम्बा के करीब एक ग्राम दौलतपुरा है, जहां के ग्रामीणों को अभी तक पक्की सड़क नसीब नहीं हो सकी है। ग्रामवासी सहित स्कूली बच्चे गांव से आम्बा मुख्य मार्ग तक पथरीली पगडंडी पर पैदल दूरी नापने को मजबूर है। गांव की आबादी करीब 600 है। समस्या को लेकर कांग्रेस नेता और पूर्व जिला पंचायत उपाध्यक्ष वीरेंद्रसिंह सोलंकी ने ग्रामवासियों के साथ दौलतपुरा से आम्बा तक तीन किलोमीटर तक नंगे पैर कीचड़ यात्रा निकाली। कांग्रेस नेता सोलंकी ने कहा कि गत वर्ष महात्मा गांधी रोजगार गारंटी योजना के तहत करीब 15 लाख की लागत से मुरम डालकर कच्ची सड़क का निर्माण किया गया था, लेकिन यह कच्ची सड़क भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गई। गुणवत्तापूर्ण कार्य नहीं करने पर पहली बारिश में सड़क पूरी तरह से कीचड़ से पटकर गड्ढों में तब्दील हो गई। ग्राम के विक्रमसिंह राठौर, कचरूलाल निनामा, दिलीप निनामा ने बताया कि ग्राम पंचायत द्वारा कच्ची सड़क के गड्ढे को भरने के लिए पंचायत से प्रस्ताव कर लाखों रुपये का मिट्टी मुरम डाला गया। मगर सही समय में मुरम-मिट्टी नहीं डलने और समतलीकरण कार्य नहीं होने और लगातार बारिश की वजह से दलदल जैसी स्थिति निर्मित हो गई है। इससे लोगों को आम्बा तक जाने के लिए परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। कांग्रेस नेता नंदराम शाह, जगदीश सोलंकी, पप्पू बैरागी, जवाहरलाल गेहलोत, कुलदीपसिंह झाला, कैलाश शाह, दिलीपसिंह राठौर, मियाराम पाटीदार, रमेश निनामा सहित ग्राम दौलतपुरा के महिला-पुरुष सहित स्कूली बच्चे उपस्थित थे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local