रतलाम, नईदुनिया प्रतिनिधि। नीमच की कनावटी जिला जेल ब्रेक मामले में बुधवार को बड़ी कार्रवाई सामने आई। चारों कैदियों को भागने में मदद करने पर तीन जेल प्रहरियों और एक को गंभीर लापरवाही बरतने पर सेवाएं समाप्त कर दी गईं। सर्किल जेल अधीक्षक आरआर डांगी ने बर्खास्तगी के आदेश बुधवार को जारी कर दिए। जेल प्रशासन की जांच में पता चला था कि प्रहरी विजेंद्रसिंह धाकड़, ईश्वरलाल रामपुरी, पंकित शर्मा ने रुपए लेकर कैदियों की भागने में मदद की थी। तीनों के बैंक खातों में कैदियों के परिजन और अन्य लोगों ने साढ़े सात लाख रुपए जमा कराए थे।

जेल ब्रेक में प्रहरियों की भूमिका भी सामने आने पर तीनों को पुलिस ने पिछले दिनों गिरफ्तार कर लिया था। न्यायालय के आदेश पर विजेंद्र को उज्जैन, ईश्वरलाल को रतलाम और पंकित को भोपाल जेल भेजा है। प्रहरी बालमुकुंद लबाना की गंभीर लापरवाही बरतने पर सेवा समाप्त की गई है।

कैदियों के परिजन व अन्य ने खाते में डाले रुपए : सर्किल जेल अधीक्षक आरआर डांगी ने बताया, कैदियों को भागने में आरोपित प्रहरियों ने मदद की थी। प्रहरियों ने जेल ब्रेक कराया था। इसके लिए कैदियों के परिजन व अन्य लोगों ने विजेंद्र के बैंक खाते में एक लाख रुपए, ईश्वरलाल के बैंक खाते में साढ़े पांच लाख रुपए और पंकित शर्मा के खाते में एक लाख रुपए जमा करवाए गए थे।

अब तक हुई कार्रवाई

पुलिस अब तक एक कै दी, तीन प्रहरी सहित करीब आठ लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है, जबकि तीन कै दी सहित सात आरोपितों की तलाश की जा रही है। इनकी तलाश में करीब 8 टीमें लगी है। जेल ब्रेक करने वाला मास्टर माइंड विनोद डांगी को भी पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है।

Posted By: Prashant Pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस