जावरा। (नईदुनिया न्यूज)

क्षेत्र में शुक्रवार को करीब चार घंटे हुई झमाझम बारिश के चलते साढ़े छः इंच बारिश दर्ज की गई। तेज बारिश से मलेनी डैम में पानी भर गया। वहीं नगर के मध्य बहने वाला पिलियाखाल भी उफान पर आया। जिससे हाथीखाना क्षेत्र, नीचली बस्तियों, कॉलोनियों, नगर के प्रमुख मार्गों पर जल भराव होने से लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ा। वहीं ग्रामीण क्षेत्रों में भी अच्छी बारिश होने के समाचार मिले। ग्राम लालाखेड़ा में तेज बारिश के कारण 24 कच्चे मकान प्रभावित होकर कई मकानों की दिवारे ढह गई। जिसमें से छः मकान जमीदोष हो गए। उनके घरों में रखी उपज, घरेलु सामान आदि पानी में गिला होने से खराब हो गया। अन्य ग्रामीण क्षेत्रों में भी कच्चे मकान की दिवारें गिरने की सूचना मिली है।

मलेनी डैम में आया पानी, नगर पालिका को मिली राहत

- प्रतिदिन परिवहन से जल एकत्रित करने में हो रहा था एक लाख छः हजार रूपए का खर्च

नगर में पेयजल संकट के निराकरण के लिए नगर पालिका प्रशासन 15 मई से परिवहन के माध्यम से पानी एकत्रित कर नलों के माध्यम से इन दिनों पेयजल वितरित कर रही थी। प्रतिदिन पांच हजार लीटर की क्षमता के 300 टेंकरों से पानी एकत्रित कर फिल्टर प्लांट पर एकत्रित किया जा रहा था। वर्तमान में परिवहन से पेयजल एकत्रित करने में नगर पालिका प्रशासन का औसतन एक लाख छः हजार रूपए का प्रतिदिन का खर्च हो रहा था। यदि बारिश अच्छी नहीं होती, तो आने वाले दिनों में नगर पालिका प्रशासन को 500 टेंकर की व्यवस्था प्रतिदिन करना पड़ती। जिस पर प्रतिदिन एक लाख 77 हजार का खर्च नगर पालिका का होता। मानसून की पहली बारिश से मलेनी डैम में चार फिट पानी भर गया। नपा प्रशासन ने टेंकर के माध्यम से पानी एकत्रित करना बंद कर दिया। नगर पालिका प्रशासन ने अच्छी बारिश होने से राहत की सास ली।

ग्राम लालाखेड़ा के घरों में तेज बारिश के चलते घुसा पानी

- गांव के करीब 24 परिवार हुए प्रभावित, छः मकान ढहे

- प्रभावित लोगों को उपलब्ध कराया राशन

दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस हाइवे निर्माण एजेंसी के कुछ अधिकारी और ठेकेदार कंपनी की लापरवाही से ग्राम लालाखेड़ा में शुक्रवार की रात में बारिश का पानी घुस गया। जिससे छः अनुसूचित जाति के गरीब लोगों के मकान गिरकर पूरी तरह नष्ट हो गए। उन्हें पंचायत भवन में रात बिताना पड़ी। साथ ही करीब 15 लोगों के घरों में पानी घुसने से उनके खाने-पीने रहने का सारा सामान नष्ट हो गया तथा कुछ किसानों की लहसुन और सोयाबीन की उपज पानी में गिली होने से उनका लाखों रुपए का नुकसान हो गया। शनिवार को सुबह कांग्रेस नेता वीरेंद्रसिंह सोलंकी मौके पर पहुंचे। जहां ग्रामीणों से चर्चा कर वस्तुस्थिति जानी। इधर तहसीलदार बीएल बामनिया, जनपद सीईओ आरबीएस डंडोतिया मौके पर पहुंचे। जहां ग्रामीणों ने बताया कि तेज बारिश के चलते कई कच्चे मकानों की दिवारें ढह गई है। वहीं घरों में रखी उपज व घरेलु सामान गिला होने से नष्ट हो गया है। प्रशासन के अधिकारियों ने प्रभावित परिवारों के लिए तत्काल राशन की व्यवस्था करवाई। कांग्रेस नेता सोलंकी ने बताया कि निसंदेह क्षेत्र का विकास होना चाहिए, लेकिन गरीबों के घर कुचलकर नहीं। कंपनी के जवाबदार ठेकेदार और अधिकारियों से इन गरीबों के नुकसान की पूरी भरपाई होने तक मैं ग्राम लालाखेड़ा में रहकर ग्रामवासियों के हित में लड़ाई लडुंगा।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags