रतलाम। नित्यानंद आश्रम के संत नर्मदानंद बापजी द्वारा निकाली जा रही द्वादश ज्योतिर्लिंग की राष्ट्र धर्म विजय यात्रा दस ज्योतिर्लिंगों का गंगौत्री के जल से अभिषेक करते हुए देवभूमि द्वारका पहुंची। बापजी द्वारा द्वारकाधीश मंदिर में धर्मध्वजा का समारोहपूर्वक आरोहण किया गया। धर्मध्वजा आरोहण कार्यक्रम में बड़ी संख्या में स्थानीय संत-महात्मा और गणमान्यजन उपस्थित थे।

धर्मध्वजा आरोहण समारोह में प्रमुख वक्ता नर्मदानंद जी ने कहा कि जो कृष्ण त्रिभुवन के स्वामी है वह भी गुरु की महिमा बढ़ाने के लिए शिक्षा ग्रहण करने गुरु के पास आते हैं। भगवान श्रीकृष्ण से लगाकर आदि गुरु शंकरचार्य तथा बाद के काल खंड में भी अनेक ऋषि-मनीषियों ने ज्ञानार्जन के लिए भारत के मध्य क्षेत्र की धरती को चुना। मध्यप्रदेश भारत का हृदय स्थान है। कहा गया है कि किसी भी ज्योतिर्लिंग में जाकर भगवान आशुतोष सदाशिव को जल चढ़ाने से शिव संकल्प पैदा होता है। यदि संकल्प पवित्र है तो संकल्प से सिद्धि मिलती ही है। अतः संकल्प सही होना चाहिए। जिस वृक्ष पर फल लगते हैं, वह वृक्ष फल स्वयं नहीं खाता। संतों की संपूर्ण तपस्या अपने लिए नहीं राष्ट्र कल्याण के लिए हैं।

नर्मदानंद बापजी ने कहा कि यह राष्ट्रधर्म विजय पद यात्रा तीन उद्देश्यों के लिए निकाली जा रही है। इसमे जल, जंगल और जीव का संरक्षण व संवर्धन निहित है। देश की सभी नदियों, तालाबों एवं पोखरों के संरक्षण हेतु यात्रा मार्ग में जन जागरण करते हुए स्थानीय जनप्रतिनिधियों, सरकार का ध्यान पुनः इनको सहेजने की ओर आकर्षित किया है। प्रत्येक दिन पदयात्रा की शुरुआत पौधारोपण से कर यात्रा में पर्यावरण बचाने के लिए एक प्रतीकात्मक संदेश राष्ट्र धर्म विजय यात्रा ने दिया है।बापजी ने कहा कि राष्ट्रधर्म विजय यात्रा के विषयों को मध्य प्रदेश सरकार ने प्रमुखता से लिया है। मध्यप्रदेश सरकार ने गौ सरंक्षण और संवर्धन के लिए गौ कैबिनेट गठित करने का निर्णय लिया है। गौ संरक्षण की दिशा में मध्यप्रदेश सरकार की यह अभिनव पहल देश के कई राज्यों के लिए रोल मॉडल का काम करेगी।

नित्यानंद आश्रम रतलाम के नर्मदानंद बापजी अपनी इस पदयात्रा में गंगौत्री का पवित्र जल लेकर अब तक केदारनाथ, बाबा विश्वनाथ, झारखंड स्थित बैजनाथ महादेव, आंध्र प्रदेश स्थित श्री शेलम ज्योतिर्लिंग व तमिलनाडु राज्य में स्थित रामेश्वरम ज्योतिर्लिंग, महाराष्ट्र राज्य में स्थित भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग, र्त्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग, घृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग, सोमनाथ ज्योतिर्लिंग, नागेश्वर ज्योतिर्लिंग सहित अब तक दस ज्योतिर्लिंग का अभिषेक कर चुके हैं। अगले पड़ाव में नर्मदानंद जी मध्यप्रदेश में प्रवेश करते हुए ग्यारहवें ज्योतिर्लिंग उज्जैन स्थित महाकालेश्वर का अभिषेक करेंगे और राष्ट्र धर्म विजय यात्रा का समापन बारहवें ज्योतिर्लिंग ओंकारेश्वर के अभिषेक के साथ करेंगे।

स्वामी नारायण मंदिर के केपी स्वामी जी, गोवर्धन भारती जी, श्यामानंद भारत सेवा संघ द्वारका, दिव्यानंद गिरी जी गोपेश्वर महादेव द्वारका, स्वर्ण मंदिर के स्वामी जी, स्थानीय विधायक पमुबा माणेक, एएसपी समीर साइडा, हरि भाई पटेल, नेशनल एनिमल वेलफेयर बोर्ड चेयरमैन दिलीप भाई शाह मंचासीन रहे। इस अवसर पर फिल्म सिटी अहमदाबाद के विजयसिंह झाला, मानव सेवा समिति रतलाम के अध्यक्ष मोहनलाल मुरलीवाला, रतलाम ग्रामीण के पूर्व विधायक मथुरालाल डामोर, भारत सरकार कृषि मंत्रालय एमआइडीच के जनरल सदस्य अशोक पाटीदार, सामाजिक कार्यकर्ता राजेश सक्सेना, युवा व्यवसायी संजय चौधरी विशेष रूप से उपस्थित रहे।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस