----शरद पूर्णिमा उत्सव लीड पैकेज-----

- शरद पूर्णिमा पर आज सर्वार्थसिद्धि, अमृत सिद्धि व रवि योग, देवालयों में होंगे धार्मिक आयोजन-

- जगह-जगह होंगे गरबारास के आयोजन

रतलाम। नईदुनिया प्रतिनिधि

सर्वार्थसिद्धि, अमृत सिद्धि व रवि योग में रविवार को शरद पूर्णिमा मनाई जाएगी। मान्यता है कि इस दिन चंद्रमा अपनी सोलह कलाओं से पूर्ण होता है। साथ ही आसमान से अमृत की वर्षा होगी। इस कारण खीर की प्रसाद विशेष रूप से अर्पित की जाएगी। देवालयों में विशेष धार्मिक आयोजन होंगे। चांदनी रात में जगह-जगह गरबारास का आयोजन कर देर रात महाआरती कर प्रसाद वितरित की जाएगी।

रविवार को आश्विन शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि को शरद पूर्णिमा का पर्व मनाया जाएगा। ज्योतिष शास्त्रीय मान्यताओं के आधार पर पूरे वर्ष में शरद पूर्णिमा ही एक ऐसी तिथि है, जब चंद्रदेव अपनी संपूर्ण कलाओं से पूर्ण होकर अमृतमय वर्षा करते हैं। इस वजह से चंद्रमा की रोशनी में खीर रखी जाती है। ज्योतिषाचार्य संजय शिवशंकर दवे ने बताया कि शरद पूर्णिमा की रात्रि चंद्रमा से उत्सर्जित होने वाली किरणों में चिकित्सकीय गुण भी विद्यमान रहते हैं। प्राचीन मान्यताओं के आधार पर आंखों की रोशनी भी बढ़ती है। इससे लोग चांदनी में सुई में धागा भी पिरोने का अभ्यास करते हैं। जिनकी जन्म-पत्रिका में चंद्र क्षीण हो उन्हें चंद्रदेव का पूजन करना चाहिए।

दमा की दवा का वितरण

शरद पूर्णिमा का चिकित्सकीय महत्व भी है। मान्यता है कि इस दिन दमा के रोगी को विशेष दवा दी जाती है। इससे बीमारी जड़ से खत्म होती है। इसी महत्व को देखते हुए शहर में जनशक्ति संस्था द्वारा वर्षों से दमा रोगियों को निशुल्क दवा का वितरण किया जा रहा है।

कोजागरी व्रत भी होगा

इस दिन महालक्ष्मी का व्रत पूजन किया जाएगा। इस पूर्णिमा को कोजागरी व्रत भी किया जाता है। व्रत के समय व्रती रात्रि जागरण कर मां लक्ष्मी की आराधना करते हैं। इसे कौमुदी व्रत भी कहा जाता है। खीर के साथ ही विभिन्ना प्रकार के फल व मिठाइयों का भोग लगाया जाता है। मां लक्ष्मी को प्रसन्ना करने घर में लक्ष्मी पदचि- बनाया जाएगा और रोशनी की जाएगी।

खरीदी के लिए शुभ

शरद पूर्णिमा पर बनने वाला संयोग खरीदी के लिए शुभ है। इस संयोग में धातुओं और वाहनों की खरीदारी करना शुभ रहेगा। साथ ही नए व्यापार की शुरुआत भी की जा सकेगी।

देशभक्ति की धुनों पर थिरके कदम

- आजाद चौक सांस्कृतिक मंच का तीन दिवसीय शरद पूर्णिमा महोत्सव

रतलाम। नईदुनिया प्रतिनिधि

आजाद चौक सांस्कृतिक मंच के तत्वावधान में तीन दिवसीय शरद पूर्णिमा गरबा महोत्सव का शुभारंभ हुआ। इसमें गरबा गीतों के साथ देशभक्ति की धुनों पर युवतियों, महिलाओं व बालिकाओं के कदम देर रात तक थिरकते रहे।

प्रारंभ में पूर्व गृहमंत्री हिम्मत कोठारी, पूर्व आरडीए अध्यक्ष विष्णु त्रिपाठी, भाजपा के जिला महामंत्री प्रदीप उपाध्याय, भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष बजरंग पुरोहित, जिला सहकारी केंद्रीय बैंक के पूर्व अध्यक्ष अशोक चौटाला, रेडक्रॉस सोसाइटी के चेयरमैन महेंद्र गादिया, समाजसेवी राजेंद्र शर्मा, गोपाल प्रसाद शर्मा टंच और कैलाश भारती ने मातारानी की आरती उतारी। आजाद चौक सांस्कृतिक मंच की ओर से संयोजिका प्रेमलता दवे, सहसंयोजक अंकित सिसौदिया, संस्था अध्यक्ष मदन सोनी, कोषाध्यक्ष यश दवे आदि ने अतिथियों को मां दुर्गा के साथ ही महात्मा गांधी की प्रतिमा भेंटकर सम्मानित किया। इसके बाद गरबा रास प्रारंभ हुआ, जो मध्य रात्रि तक चलता रहा। आयोजन को देखने के लिए दर्शकों की भीड़ लगी रही।

महात्मा गांधी को समर्पित महोत्सव

तीन दिवसीय महोत्सव की थीम इस साल महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर रखी गई है। इसके परिपालन में गरबा प्रांगण में भी महात्मा गांधी के समग्र स्वच्छता, समग्र एकता पर आधारित सजावट रही। खूबसूरत प्रांगण के बीचों बीच कार्यकर्ताओं द्वारा हाथों से बनाई गई खूबसूरत रंगोली थी, जिसके चारों ओर रस्सियों और बेरिकेड के अंदर सुंदर गरबारास होता रहा।

आज से मिलेंगे श्रेष्ठ और लकी ड्रा के उपहार

मंच संयोजिका प्रेमलता दवे ने बताया कि आयोजन में 500 से भी ज्यादा आराधिकाओं ने रजिस्ट्रेशन करवाया है। तीनों दिन संस्था द्वारा आमंत्रित निर्णायक श्रेष्ठ गरबा करने वाली बालिका के साथ श्रेष्ठ भावभंगिमा (एक्सप्रेशन), श्रेष्ठ परिधान (ड्रेसअप), श्रेष्ठ मुद्रा आदि का चयन किया जाएगा। शुक्रवार को चयनित प्रतिभागियों को शनिवार को पुरस्कृत किया गया। पहला पुरस्कार 10 ग्राम सोने का सिक्का, द्वितीय पुरस्कार पांच ग्राम सोने का सिक्का तथा तृतीय पुरस्कार तीन ग्राम सोने का सिक्का दिया गया। चतुर्थ पुरस्कार के रूप में 150 ग्राम चांदी का सिक्का, पंचम पुरस्कार 100 ग्राम चांदी का सिक्का व छठे व सातवें पुरस्कार के लिए 50 ग्राम चांदी के सिक्के दिए गए। 10 लकी ड्रा निकालकर 10 चांदी के सिक्के गरबारास प्रतियोगिता में भाग लेने वाले प्रतिभागियों को प्रोत्साहन के रूप में दिए गए।

हर बालिका को उसका पूरा हक देने की ली शपथ

गरबा रास के प्रारंभ में महिला बाल विकास विभाग की ओर से कार्यक्रम अधिकारी सुनीता यादव, परियोजना अधिकारी अर्चना माहौर, पर्यवेक्षक एहतेशाम अंसारी सहित विभाग के अधिकारी, कार्यकर्ता उपस्थित थीं। कार्यक्रम अधिकारी ने उपस्थित अतिथियों, समिति सदस्यों, आराधिकाओं, दर्शकों को बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ की शपथ दिलाई।

12आरटीएम-36 : चांदनीचौक क्षेत्र में गरबा नृत्य करती हुई युवतियां। नईदुनिया

12आरटीएम-37 : चांदनीचौक क्षेत्र में गरबा नृत्य करती हुई युवतियां। नईदुनिया

12आरटीएम-38 : गरबा नृत्य करती हुई युवतियां। नईदुनिया