-केंद्र में भाजपा की नहीं सिर्फ मोदी-शाह की है सरकार

- पूर्व सीएम सिंह ने केंद्र सरकार पर साधा निशाना

रतलाम। नईदुनिया प्रतिनिधि

केंद्र में भाजपा की नहीं बल्कि मोदी-शाह की सरकार है। नेपाल, पाकिस्तान, बांग्लादेश, श्रीलंका सहित चायना व अन्य देश आज नफरत भरी नजरों से हमारी तरफ देख रहे हैं। हमारे लिए एक नंबर पर दुश्मन भाजपा है। उसका कोई दूसरा दुश्मन शिवसेना हमारी दोस्त बनती है, तो हाथ क्यों न मिलाएं। महाराष्ट्र में नई सरकार धर्मनिरपेक्षता से काम कर रही है।

रविवार को रतलाम आए पूर्व सीएम व राज्यसभा सांसद दिग्विजयसिंह ने सर्किट हाउस पर पत्रकार वार्ता में यह बात कही। सिंह ने कहा कि 15 साल की भाजपा सरकार में भ्रष्टाचार चरम पर था। कांग्रेस की कमलनाथ सरकार में हनीट्रैप जैसे गंभीर मामले उजागर हुए हैं। सरकार ने इंदौर के उस व्यक्ति के खिलाफ काम किया है, जो पुरानी सरकार और भ्रष्ट अफसरों के साथ मिलकर ब्लैकमेलिंग, सरकारी जमीन पर कब्जे सहित धमकाने का काम करता था। सीएम नाथ ने सिंघम की तरह सख्त कदम उठाकर अब माफियाओं के खिलाफ कार्रवाई शुरू की है। सूची तैयार हो गई है। हनीट्रैप में आईएएस व आईपीएस जो भी शामिल होगा उसके खिलाफ भी कार्रवाई होगी, निर्दोष को परेशान नहीं किया जाएगा।

सावरकर के बयान में राहुुल के साथ

राहुल गांधी के सावरकर के नाम पर दिए बयान पर सिंह ने कहा कि सावरकरजी के जीवन के दो पहलू हैं। पहला ब्रिटिश हुकूमत के खिलाफ उन्होंने आवाज उठाई और उन्हें कालापानी की सजा मिली। दूसरा ब्रिटिश हुकूमत के आगे झुके और माफी मांगकर बाहर आने के बाद उन्होंने ब्रिटिश ताकतों का साथ दिया। उन्होंने राहुल गांधी के बयान को सही बताते हुए कहा कि मैं उनके साथ हूं।

कांग्रेस नेताओं से मिले, जाने हालात

सर्किट पहुंचने पर कांग्रेस नेताओं ने दिग्विजयसिंह का जोरदार स्वागत किया। इस दौरान पर्यटन मंत्री सुरेंद्र सिंह बघेल भी मौजूद रहे। सैलाना विधायक हर्ष विजय गेहलोत, पूर्व विधायक शांतिलाल अग्रवाल, नगर निगम नेता प्रतिपक्ष यास्मीन शेरानी, शहर अध्यक्ष विनोद मिश्रा मामा, कांग्रेस नेता सतीश पुरोहित, एडवोकेट प्रकाश मजावदिया, डॉ. सुभाष अग्रवाल, राकेश झालानी, मंसूर अली पटोदी, अनिल झालानी, जोएब आरिफ, अदिति दवेसर, प्रेमलता दवे, राजकुमार लाला, इंदर सोनी आदि ने सिंह व बघेल का स्वागत किया। सिंह ने प्रमुख नेताओं सहित कार्यकर्ताओं से चर्चा की और शहर व जिले के हालात भी समझे।

15आरटीएम-46 : सर्किट हाउस पर पत्रकारों के सवालों पर जवाब देते पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजयसिंह। नईदुनिया

0

दो सप्ताह बाद भी अमानक सीमेंट की जांच रिपोर्ट नहीं आई

- मामला गोशाला निर्माण में अनियमितता का

रतलाम। नईदुनिया प्रतिनिधि

आलोट जनपद की ग्राम पंचायत भूतिया में निर्माणाधीन गोशाला निर्माण में अमानक सीमेंट के उपयोग पर जांच रिपोर्ट अभी तक नहीं आई है। जिला पंचायत सीईओ संदीप केरकेट्टा ने ग्रामीण यांत्रिकी सेवा कार्यपालन यंत्री को एक सप्ताह में जांच रिपोर्ट देने के निर्देश दिए थे। दो सप्ताह बाद भी रिपोर्ट जिला पंचायत को नहीं मिल पाई है।

मालूम हो कि नईदुनिया ने 3 दिसंबर को 'गोशाला निर्माण में अनियमितता, अमानक सीमेंट का उपयोग' शीर्षक से समाचार का प्रकाशन किया था। अगले ही दिन ग्रामीण यांत्रिकी सेवा के कार्यपालन यंत्री अनूप मिश्रा, आलोट एसडीएम चंद्रसिंह सोलंकी व आलोट जनपद सीईओ गोवर्धन मालवीय ने मौका मुआयना किया तो वहां से सीमेंट के साथ ईंट की गुणवत्ता भी कमजोर मिली। उपयोग की गई सीमेंट से निर्मित दीवार का एक हिस्सा तोड़कर लैब में जांच के लिए ग्रामीण यांत्रिकी सेवा कार्यपालन यंत्री लेकर आए। दो सप्ताह बीतने के बाद भी रिपोर्ट जिला पंचायत को नहीं मिली। दिसंबर माह के अंत तक गोशाला निर्माण कार्य पूर्ण करना है।

संतोषपूर्ण जवाब नहीं आए

मामले में आलोट जनपद सीईओ द्वारा ग्राम संबंधित इंजीनियर राकेश चौहान, सरपंच सीमा पति धर्मेंद्र परमार व सचिव कैलाश शर्मा को भी नोटिस जारी कर जवाब मांगा था। इन्होंने जवाब दिए जिन्हें संतोषप्रद नहीं माना गया है। इंजीनियर ने रतलाम में होने वहीं सचिव द्वारा कुछ दिन पहले पदस्थ होने का हवाला दिया। आलोट जनपद सीईओ से भी जिपं सीईओ ने प्रारंभिक जांच रिपोर्ट मांगी थी। लेकिन कार्रवाई आगे नहीं बढ़ पाई। मामले में आलोट विधायक मनोज चावला भी फटकार लगा चुके है। कलेक्टर ने टीएल बैठक में भी इसकी जानकारी ली है।

सीमेंट के कट्टों पर नहीं था मार्का

ग्राम पंचायत भूतिया में एक हेक्टेयर क्षेत्र में 59 लाख की लागत से गोशाला निर्माण कार्य चल रहा है। जमीन से बैस तैयार होकर करीब 10 लाख रुपए का काम भी हो गया है। आलोट जनपद सीईओ ने जब निर्माण कार्य का निरीक्षण किया तो उन्हें वहां से अमानक सीमेंट के खाली कट्टे मिले। सीमेंट के कट्टों पर अन्य कंपनियों जैसा मिला-जुला नाम था वहीं आईएसआई मार्का व रेट भी नहीं लिखे थे। मामले में ग्रामीण यांत्रिकी सेवा कार्यपालन यंत्री अनूप मिश्रा को उनके मोबाइल नंबर 913189083 पर लगातार कॉल किए लेकिन उन्होंने कॉल रिसीव नहीं किया। जिपं सीईओ संदीप केरकेट्टा ने कहा कि अभी रिपोर्ट नहीं मिली है।

कर्मचारियों पर बढ़ रहा काम का बोझ

- प्रांतीय सचिव ने शासन को पत्र लिखा

रतलाम। नईदुनिया प्रतिनिधि

जिला अस्पताल में कर्मचारियों की कमी से व्यवस्था बिगड़ रही है। लगातार काम का बोझ बढ़ता जा रहा है। एक्स-रे विभाग में लगातार मरीजों की संख्या बढ़ रही है, लेकिन कर्मचारियों की संख्या नहीं बढ़ाई जा रही है। कर्मचारियों की मांग को लेकर मप्र स्वास्थ्य कर्मचारी संघ के प्रांतीय सचिव मोहम्मद जफर खान ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों व शासन को पत्र लिखा है। खान ने बताया कि जब जिला अस्पताल की ओपीडी 1500 से 2000 थी तो इससे अधिक कर्मचारी थे। अब ओपीडी 2000 से 3000 हजार प्रतिदिन की गई है और कर्मचारियों की संख्या वही है। मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है, लेकिन कर्मचारी नहीं बढ़ाए जा रहे हैं। खान ने बताया कि 40 स्टाफ नर्स, 10 रेडियोग्राफर, 6 लैब टेक्नीशियन और 5 ड्रेसर की मांग की है। स्टाफ की कमी से आए दिन मरीजों को परेशानी होती हैं। एक्स-रे विभाग में तो कर्मचारियों की कमी के साथ सुविधाओं की कमी बनी है। कैसेट अभी तक उपलब्ध नहीं कराए गए हैं, जिससे लगातार व्यवस्था बिगड़ रही है और मरीज परेशान हो रहे हैं।

0

20ः50 का फॉर्मूला निरस्त कर अनिवार्य सेवानिवृत्ति वापस लें

-मप्र शिक्षक संघ की प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक में उठा मुद्दा

रतलाम। नईदुनिया प्रतिनिधि

मप्र शिक्षक संघ प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक रविवार को काटजू नगर स्थित सरस्वती शिशु मंदिर में अभा राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ के राष्ट्रीय संगठन मंत्री महेंद्र कपूर के मुख्य आतिथ्य व राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हिम्मतसिंह जैन की उपस्थिति में हुई। प्रमुख रूप से शासन द्वारा लागू 20ः50 के तहत अनिवार्य सेवानिवृत्ति को वापस लेने संबंधी मांग को उठाया गया।

जिलाध्यक्ष सर्वेश माथुर ने बताया कि बैठक में 22 से 29 दिसंबर तक संभाग वार विशेष प्रवास के लिए संभाग प्रभारी व प्रांतीय पदाधिकारियों के नाम सर्वानुमति से तय किए गए। सदस्यता अभियान, स्वर्ण जयंती वर्ष आयोजन, नव संवत्सर, गुरु छाया, गुरु वंदन आदि कार्यक्रमों की समीक्षा व रूपरेखा तय की गई। इससे पहले दीप प्रज्वलित कपूर ने किया तथा सरस्वती वंदना संतोष खरे ने प्रस्तुत की। अखिलेश मेहता ने अतिथि परिचय दिया।

वर्ष 2018-19 के आय-व्यय की लेखा रिपोर्ट को सर्वानुमति से अनुमोदित किया गया। बैठक में लच्छीराम इंगले, हिम्म्मत सिंह जैन सहित सभी जिलाध्यक्ष, संभाग अध्यक्ष ,सचिव, संगठन मंत्री ने विचार व्यक्त किए। इस अवसर पर जितेंद्रसिंह चौहान, विजय यादव, पंकज दोहरे, ध्रुवकुमार पारखी, सुभाष कुमावत, आरएन केरावत, शांतिलाल गेहलोत, गोपाल उपाध्याय, आरएल मालवीय, रामप्रसाद गेहलोत, वीरसिंह निनामा ने संबोधित किया। आभार सर्वेश माथुर ने किया।

बैठक में उठाई प्रमुख मांगें

-प्रस्तावित ई-अटेंडेंस एवं एम-शिक्षा मित्र व्यवस्था लागू करने पर पुनर्विचार हो।

-राज्य शिक्षा केंद्र सीए, सीबीएसी, बीआरसी एवं एपीसी, डीपीसी की व्यवस्था समाप्त की जाए।

-राज्य शिक्षा आयोग में सहायक शिक्षक को पात्र माना जाए।

-परामर्शदात्री समिति की बैठक तहसील एवं ब्लॉक स्तर पर भी होना चाहिए।

-कक्षा पांचवीं और आठवीं की परीक्षा बोर्ड पैटर्न पर सभी शिक्षण संस्थाओं पर समान रूप से लागू हो।

15आरटीएम-45 :सरस्वती शिशु मंदिर में उपस्थित शिक्षक। नईदुनिया

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020