पिपलौदा। नगर व आसपास की ग्राम पंचायतों में संत शिरोमणि रविदास जी की जयंती उल्लास के साथ मनाई गई। ग्राम पंचायत अयाना में संत रविदास जी की झांकी निकाली गई। इसमें समाजजन नाचते-गाते हुए शामिल हुए। प्रमुख मार्गों से होते हुए झांकी रविदास मोहल्ला पहुंची, जहां महाप्रसादी व सामूहिक भोज का आयोजन किया गया।

सभा के मुख्य अतिथि अजाक्स जिला महासचिव अंबाराम बोस थे। अध्यक्षता ग्राम पंचायत आयाना के सरपंच जवाहरलाल ने की। सर्वप्रथम रविदास जी के चित्र पर माल्यार्पण किया गया। बोस ने कहा कि संत रविदास जी ने देश में सामाजिक क्रांति का बिगुल बजाया था। उन्होंने तत्कालीन समाज में रहे फेल रहे जातिवाद, पाखंड, कुरीतियों, अंधविश्वास आदि पर कड़ा प्रहार किया। उनकी रचनाओं में हमें सामाजिक समानता का संदेश मिलता है। वे चाहते थे कि समाज में भाईचारा, प्रेम, बंधुता और आपसी सद् भाव पैदा हों, परंतु आज रविदास जी का यह सपना साकार नहीं हो पा रहा है। आज भी तथाकथित लोग अपनी उच्च और घृणित मानसिकता के कारण समाज में भेदभाव पैदा करते हैं। ऊंच-नीच को तवज्जो देते हैं। अपने आप को ऊंचा मानते हैं। अन्याय, अत्याचार को बढ़ावा देते हैं। ऐसे लोगों की वजह से हमारा देश, समाज उन्नाति की राह में आगे नहीं बढ़ पा रहा है। बद्रीलाल दडिंग, प्रकाश दडिंग, घनश्याम, कारूलाल, विनोद दडिंग, बबलू चौहान आदि उपस्थित थे। संचालन दिनेश दडिंग ने किया। आभार प्रकाश ने माना। इसी प्रकार पिपलौदा नगर में भी रविदास जयंती पर शोभायात्रा निकाली गई। रविदास मंदिर पर माल्यार्पण कर प्रसादी का वितरण किया गया। ग्राम खेड़ावदा, बड़ायला माताजी, सोहनगढ़, आंबा,मचुन आदि कई ग्राम पंचायतों में संत रविदास जी की जयंती बड़े हर्षोल्लास और धूमधाम से मनाई गई।

प्रतिमा पर किया माल्यार्पण

सैलाना। अपने श्रेष्ठ विचारों से संपूर्ण जगत में सामाजिक एकता व समरसता का संदेश देने वाले, सामाजिक परिवर्तन के महानायक, दर्शनशास्त्री कवि व परमज्ञानी संत शिरोमणि रविदास जी की जयंती पर बांसवाड़ा रोड स्थित प्रतिमा पर माल्यार्पण किया गया। इस दौरान नगर के रवि मेहता, गोपाल पाटीदार, नारायण पाटीदार, भंवरलाल सिलावट, पवन कसेरा, नितेश सोनी, हरीश कुमावत, गोवर्धनलाल परिहार, डा. मोहन परमार, राकेश वेरिया, रोहित परिहार, नितिन परिहार आदि उपस्थित थे। शाम को पिपलौदा मार्ग स्थित राम-जानकी मंदिर पर पर समाजजनों द्वारा महाआरती उतारकर प्रसादी वितरित की गई। इसी तरह अयोध्या बस्ती कालिका माता रोड से संत रविदास जी का चल समारोह निकाला गया। चल समारोह का नगर भ्रमण करने के बाद पिपलौदा रोड स्थित श्रीराम-जानकी मंदिर पर समापन हुआ।

वीर योद्धाओं को किया नमन

ढोढर। समीपस्थ ग्राम माननखेड़ा में संत रविदास जयंती मनाई गई। इस अवसर पर ग्राम के हनुमान मंदिर पर संत रविदास के चित्र पर माल्यार्पण कर समाज निर्माण में उनके योगदान को याद किया गया। सामाजिक कार्यकर्ता नारायणसिंह चंद्रावत (चिकलाना) ने रविदास जी के जीवन पर प्रकाश डालते हुए स्वस्थ व सभ्य समाज के लिए उनके द्वारा दिए गए योगदान पर प्रकाश डाला। शहीद भगतसिंह के बलिदान दिवस पर आजादी के लिए अपने प्राण न्योछावर करने वाले वीर योद्धाओं को भी नमन किया गया। सरपंच यशवंतसिंह सिसौदिया, महेश सिंधी, मुकेश राठौर, राजेंद्रसिंह सिसौदिया, शिवनारायण सेन, लक्ष्‌मीनारायण माली, कन्हैयालाल बावरी, मुकेश राठौर ने संत रविदास के चित्र पर माल्यार्पण किया। आभार कचरूलाल वाघेला ने माना।

डीजे साउंड पर किया नृत्य

बाजना। संत शिरोमणि रविदास जयंती पर ग्राम के दशा माता मंदिर से चल समारोह निकाला गया। इसमें शामिल समाजजनों ने डीजे की धुन पर नृत्य किया। इसके पहले समाज के वरिष्ठजनों ने संत रविदास के चित्र पर माल्यार्पण कर पूजन किया।

गुरुद्वारा में किया कथा और कीर्तन

रतलाम। श्री गुरु सिंह सभा द्वारा न्यू रोड स्थित गुरुद्वारा पर संत शिरोमणि रविदास जी की जयंती मनाई गई। जयंती के उपलक्ष्‌य में गुरुद्वारा साहब में सर्वप्रथम सुखमनी साहब का पाठ समूह संगत द्वारा किया गया। तत्पश्चात ज्ञानी मानसिंह द्वारा कथा और कीर्तन किया गया। इसमें भगत रविदास जी के जीवन की विभिन्ना घटनाओं पर प्रकाश डालते हुए श्री गुरु ग्रंथ साहब में दर्ज भगत रविदास जी की वाणी का शबद गायन किया गया। श्री गुरु ग्रंथ साहिब में भगत रविदास जी के 40 शब्द दर्ज हैं, जो 16 रंगों में है। सिख समाज के अध्यक्ष देवेंद्रसिंह, श्री गुरु तेग बहादुर शैक्षणिक विकास समिति के अध्यक्ष गुरनामसिंह, जिला संघ चालक सुरेंद्र सुरेका, रविदास समाज के वरिष्ठ गोविंदराम दडिंग, लक्ष्‌मण सांखला, सुरेंद्रसिंह भामरा, कमलेश भंडारी, नरेंद्र श्रेष्ठ, पुष्पेंद्र जोशी, महेंद्रसिंह बग्गा, महेंद्रपालसिंह अजमानी, आशुसिंह, महेंद्रसिंह, भूपेंद्रसिंह सहित बड़ी संख्या में समाजबंधु उपस्थित रहे।

आज निकलेगा चल समारोह

संत रविदास जन्मोत्सव समिति द्वारा 28 फरवरी को संत शिरोमणि रविदास जी की जयंती धूमधाम से मनाई जाएगी। सुबह 11 बजे आंबेडकर सर्कल छत्रीपुल से गाजे-बाजे के साथ चल समारोह निकाला जाएगा, जो दो बत्ती, न्यू रोड, शहीद चौक, लौहार रोड, चांदनी चौक, चौमुखीपुल, गणेश देवरी, नाहरपुरा, नगर निगम होते हुए कालिका माता मंदिर परिसर मेला ग्राउंड पहुंचकर सभा के रूप में परिवर्तित होगा। सभा के बाद महाप्रसादी का आयोजन किया जाएगा।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags