रतलाम(नईदुनिया प्रतिनिधि)। नगर निगमल के नवनिर्वाचित महापौर प्रहलाद पटेल व 34 नवनिर्वाचित पार्षद रविवार को बरबड़ स्थित विधायक सभागार में दोपहर 12ः30 बजे शपथ लेंगे। इससे पहले शनिवार को कांग्रेस के 15 पार्षदों को निगम सभागृह में कलेक्टर नरेंद्र सूर्यवंशी ने शपथ दिलाई।

नगर निगम के इतिहास में पहली बार पार्षदों का शपथ समारोह दो हिस्सों में हो रहा है। इसे लेकर चर्चाओं का दौर भी चलता रहा। कांग्रेस ने इसे लेकर भाजपा पर निशाना साधा है। इधर रविवार को होने वाले आयोजन में प्रभारी मंत्री माननीय ओपीएस भदौरिया, शहर विधायक चेतन्य काश्यप, पूर्व गृह मंत्री हिम्मत कोठारी, सांसद सुधीर गुप्ता, गुमानसिंह डामोर, अनिल फिरोजिया, विधायक राजेंद्र पांडे, दिलीप मकवाना, सदस्य जिला योजना समिति राजेन्द्रसिंह लुनेरा, पूर्व महापौर सुनीता यार्दे का आतिथ्य रहेगा। आयोजन को लेकर विधायक सभागार पर दिन भर तैयारी चलती रही।

शनिवार को नगर निगम सभागृह में कांग्रेस के पार्षद भावना पैमाल, कविता महावर, आशा रावत, मनीषा व्यास, फकरूद्धीन मंसूरी, केसरबाई, मोहम्मद सलीम बागवान, यास्मीन शैरानी, मनीषा चौहान, निलोफर खान, वहीद शेरानी, मिनाक्षी सेन, कमरूद्धीन कछवाय, नासिर कुरैशी, शांतिलाल वर्मा को पार्षद की शपथ दिलाई गई। इस दौरान पूर्व विधायक पारस सकलेचा, मयंक जाट आदि मौजूद रहे। जाट ने कलेक्टर से संविधान निर्माता डा. भीमराव आंबेडकर की तस्वीर निगम सभागृह में लगवाने का अनुरोध किया।

नोटिस मिला तो सात दिन का समय मांग लिया

- मामला निजी अस्पतालों में फायर एनओसी का

- सीएमएचओ ने प्रविधानों की दी जानकारी

रतलाम(नईदुनिया प्रतिनिधि)। निजी नर्सिंग होम में फायर सेफ्टी के लिए सभी इंतजाम कर नगर निगम से एनओसी लिए जाने को लेकर अस्पताल संचालक अभी भी धीमी गति से काम कर रहे हैं। निगम से डेढ़ साल में तीन बार नोटिस मिलने के बाद तीन दिन पहले अंतिम नोटिस मिला तो संचालक हरकत में आए। इसके बाद मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाक्टर प्रभाकर ननावरे ने शनिवार को संचालकों व डाक्टरों की बैठक लेकर राज्य कार्यालय से प्राप्त निर्देशों की जानकारी दी तो सात दिन का समय और मांग लिया।

मालूम हो कि जबलपुर में निजी अस्पताल में आग लगने से 8 लोगों की मौत के बाद नगर निगम से फायर सेफ्टी एनओसी को लेकर 19 अस्पताल संचालकों को तीन दिन का समय देकर नोटिस जारी किया था। यह समय सीमा शनिवार को समाप्त हो गई। इधर संचालकों ने जरुरी इंतजाम करने की बात कहकर समय मांगा जो बढ़ा दिया गया।

भवन निर्माण के समय ही ले लेना चाहिए लाइसेंस

बैठक में अग्निशमन कंसल्टेंट रोहितांशु पांडे ने संचालकों को बताया कि संस्थान के भवन निर्माण के समय ही फायर लाइसेंस ले लेना चाहिए। फायर सेफ्टी के लिए आग के संचालकों का कम से कम उपयोग किया जाना चाहिए। संस्थान में आगम-निर्गम के उचित मार्ग एवं संकेतक, एग्जास्ट फैन, अलार्म सिस्टम आदि होना आवश्यक है। आग बुझाने के लिए कर्मचारियों की प्रशिक्षित टीम के साथ ही संस्थान में पंप, वाटर कैपेसिटी, विंडोज टू ब्रोकन आदि उपलब्ध होना चाहिए। निगम कार्यपालन यंत्री हनीफ शेख ने बताया कि अस्पताल संचालकों ने आइनलाइन आवेदन के लिए सात दिन का समय मांगा था, समय सीमा बढ़ाई गई है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close