नामली। पल्दुना मार्ग स्थित गोपाल गोशाला का संचालन करने वाली समिति पदाधिकारियों द्वारा गोशाला का ठीक से रखरखाव नहीं किया जा रहा है। इससे गोशाला की गायें परेशान हो रहे हैं।

गोशाला समिति में अध्यक्ष, उपाध्यक्ष सहित एक दर्जन के करीब सदस्यों की नियुक्ति की गई है। उन्हीं के हाथों में इस गोशाला में गायों को देखरेख की जिम्मेदारी दे रखी है, लेकिन कुछ दिनों से समिति के जिम्मेदार गोशाला पर ध्यान नहीं दे रहे हैं। वर्तमान समय में गायों में लंपी वायरस संक्रमण तेजी से फैल रहा है। गोशाला में भी कई गायें बीमार है। जिनकी देखभाल वर्तमान में नगर के पढ़े-लिखे युवा व व्यापारी कर रहे हैं। इसके लिए जीवदया परिवार के नाम से एक ग्रुप भी बना रखा है। गायों में फैली महामारी के बावजूद गोशाला समिति के जिम्मेदार अभी तक अनभिज्ञ है। वर्तमान में गोशाला में 300 से अधिक गाय हैं। इनमें से कई गायें बीमार हैं। इसके बाद भी जिम्मेदार ध्यान नहीं दे रहे हैं। गोशाला के भ्रमण के दौरान समिति का एक भी जिम्मेदार नजर नहीं आया। जीवदया परिवार के सदस्य गायों की सेवा करते हुए देखे गए। जीवदया परिवार के सदस्यों ने बताया कि गायों की देखभाल कर रहे हैं और उपचार के लिए पशु चिकित्सक अधिकारी का सहयोग भी ले रहे हैं। जीवदया परिवार ने शासन-प्रशासन से गोशाला समिति भंग कर जीवदया परिवार को पूरी जिम्मेदारी देने की मांग की है।

गोपाल गोशाला समिति अध्यक्ष मांगीलाल चौहान ने बताया कि समय का अभाव है। यदि जीवदया परिवार के सदस्य जिम्मेदारी लेना चाहते हैं तो मैं पद त्यागने के लिए तैयार हूं और नामली की जनता है आरोप कुछ भी लगा सकती है।

0000

लक्षण दिखने पर करवाया उपचार

ढोढर। क्षेत्र की गायों में लंपी वायरस संक्रमण तेजी से फैल रहा है। उक्त बीमारी से गोपालक परेशान हो रहे हैं। समाजसेवी संस्थाओं तथा गौ सेवा संघ से जुड़े पदाधिकारी भी संकट के इस दौर में गायों का उपचार करवाकर उन्हें रोगमुक्त करने का प्रयास कर रहे हैं। गौ सेवा संघ रतलाम जिलाध्यक्ष जितेंद्रसिंह बरखेड़ी द्वारा ग्राम बरखेड़ी के कृषक दशरथ की गाय में लंपी वायरस के लक्षण दिखाई देने पर तत्काल पशु चिकित्सक डा. मचार को बुलवाकर उपचार करवाया। चिकित्सक की सलाह अनुसार दवाइयां भी उपलब्ध करवाई गई। रविसिंह चंद्रावत सहित गौ सेवा संघ के पदाधिकारी उपस्थित थे।

0000

रोकथाम के लिए कर रहे प्रयास

दलोट। पंचायत समिति क्षेत्र में तेजी से फैल रहे लंपी वायरस संक्रमण की रोकथाम के लिए अनेक प्रयास किए जा रहे हैं। संत विनोदराम रामस्नेही गोशाला में कार्यकर्ताओं द्वारा गायों में इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए गुड़, नमक, हल्दी, काली मिर्च और खल का मिश्रण बनाकर गायों को खिलाया गया। उल्लेखनीय है कि अभी तक दलोट गोशाला में किसी भी गाय में कोई लक्षण नहीं दिखे हैं। गोशाला के कार्यकर्ताओं द्वारा पिछले सप्ताह भी पशुपालन विभाग के मार्गदर्शन में गोशाला में दवाइयों का छिड़काव किया गया था।

0000

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close