रतलाम (नईदुनिया प्रतिनिधि)। जिले में अवैध शराब का कारोबार नहीं थम रहा है। नामली थाना क्षेत्र में जहरीली शराब पीने से आठ माह पहले चार लोगों की मौत हो चुकी है। इसके बाद पुलिस व आबकारी विभाग ने अभियान चलाकर कार्रवाई की, लेकिन अवैध शराब का कारोबार नहीं थमा। जिले में अनेक गांवों में कच्ची शराब बनाकर बेचने का कार्य चल रहा है।

आबकारी विभाग व पुलिस थानों पर बल की कमी के चलते भी ग्रामीण क्षेत्रों में अवैध शराब का कारोबार ज्यादा होता है। ग्रामीण इलाकों में जंगलों में भट्टियां लगाकर शराब बनाई जाती है। पुलिस व आबकारी विभाग ने कई बार दबिशें देकर शराब भट्टियों को नष्ट किया, लेकिन कार्रवाई थमते ही कच्ची शराब बनाने का कार्य तेज हो जाता है।

कच्ची शराब में मिलाते हैं यूरिया

मई 2020 में नामली थाना क्षेत्र में जहरीली कच्ची शराब पीने से चार लोगों की मौत हो गई थी। वहीं एक व्यक्ति की आंखों की रोशनी कम हो गई थी। ग्रामीण क्षेत्रों में अधिकतर लोग महुआ से कच्ची शराब बनाते हैं, लेकिन कुछ क्षेत्रों में शराब की तीव्रता बढ़ाने के लिए यूरिया, नीला थोथा व ज्यादा स्प्रिट मिलाया जाता है। कई बार शराब के साथ यूरिया, नीला थोथा भी जब्त किया जा चुका है। दो माह पहले पुलिस ने बिलपांक थाना क्षेत्र के ग्राम झर में अवैध शराब बनाने की फैक्ट्री भी पकड़ी थी। वहां शराब बनाने के उपकरण व अन्य सामग्री के साथ बड़ी मात्रा में यूरिया खाद भी जब्त किया गया था। यह इस बात का प्रमाण है कि जिले में शराब में यूरिया मिलाया जा रहा है। वर्ष 2020 में पुलिस ने 1646 प्रकरणों में 21 हजार 433 लीटर शराब जब्त की थी। इनमें सर्वाधिक 9 हजार 903 लीटर कच्ची शराब जब्त की गई। वहीं 1152 लीटर अंग्रेजी, 7 हजार 914 लीटर देशी शराब व 2464 लीटर बीयर जब्त की गई। यह आंकड़े भी दर्शाते हैं कि जिले में कच्ची शराब का कारोबार ज्यादा हो रहा है।

अवैध शराब के खिलाफ जीरो टालरेंस, कलेक्टर-एसपी ने ली बैठक

जिले में अवैध शराब पर पूरी तरह अंकुश लगाने के लिए गुरुवार को एसपी ऑफिस में पुलिस, आबकारी विभाग के अधिकारियों की संयुक्त हुई। बैठक में कलेक्टर गोपालचंद्र डाड व एसपी गौरव तिवारी ने अवैध शराब व जहरीली शराब पर पूरी तरह अंकुश लगाने के निर्देश दिए। अवैध व जहरीली शराब के खिलाफ जीरो टोलरेंस अपनाकर, कार्रवाई करना तय किया गया। सहायक आबकारी आयुक्त नीरजा श्रीवास्तव ने आबकारी विभाग मे बल की कमी की समस्या बताई। इस पर विभाग को होमागार्ड का अतिरिक्त बल प्रदाय करने का निर्णय किया गया। शराब बनाने में उपयोगी कच्चा माल जैसे स्पिरिट, महुआ, यूरिया व शराब बनाने के उपकरण आदि की बिक्री व परिवहन की भी निगरानी की जाएगी। बैठक में एएसपी (शहर) डॉ. इंद्रजीत बाकलवार, एएसपी (ग्रामीण) सुनील पाटीदार, सहायक जिला आबकारी अधिकारी आरसी बरोड़, एमएल मांडरे व अन्य आबकारी अधिकारी उपस्थित थे।

वाट्सएप व फोन पर दे सकते हैं सूचना

शराब के अवैध कारोबार पर अंकुश के लिए प्रशासन ने जनता से भी सहयोग करने की अपील की है। मोबाइल नम्बर, 7049162265, फोन नम्बर 07412-270474 या 07412-222223 पर कॉल अथवा वाट्सएप के माध्यम से सूचना दी सकती है। सूचना देने वाले का नाम गोपनीय रखा जाएगा।

फैक्ट फाइल

पुलिस ने एक साल में बनाए प्रकरण- 1646

गिरफ्तार आरोपित-1848

कुल जब्त शराब 21 हजार 433 लीटर

जब्त शराब की कीमत- 54 लाख 55 हजार 632 रुपये

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस