रतलाम। जिले में बीते पांच दिनों से रुक-रुककर रिमझिम-झमाझम बारिश का सिलसिला चल रहा है। शुक्रवार के बाद शनिवार दोपहर में भी शहर सहित अनेक स्थानों पर तेज बारिश हुई। इससे जहां सड़कें तरबतर हो गईं, वहीं मौसम में ठंडक घुल गई। इससे आमजन को काफी राहत मिली। झमाझम बारिश से किसानों के चेहरे खिल गए हैं। जिले के कई क्षेत्रों में युद्ध स्तर पर खरीफ की बोवनी प्रारंभ हो गई है। इस वर्ष कृषि विभाग ने जिले में सवा तीन लाख हेक्टेयर में खरीफ की बोवनी का लक्ष्‌य रखा गया है। सर्वाधिक 2.61 लाख हेक्टेयर में सोयाबीन की बोवनी का लक्ष्‌य है।

मानसून की दस्तक ने जिलेवासियों को प्रफुल्लित कर दिया है। शनिवार सुबह आठ बजे समाप्त हुए बीते चौबीस घंटों के दौरान जिले में 53.8 मिमी औसत बारिश हुई। जावरा तहसील में सर्वाधिक 164 मिमी पानी बरसा, वहीं सबसे कम बाजना तहसील में आठ मिमी बारिश हुई। आलोट तहसील में 12 मिमी, ताल में 78.6 मिमी, पिपलौदा में 40 मिमी, रतलाम में 60 मिमी, रावटी में 12.1 मिमी, सैलाना तहसील में 56 मिमी पानी बरसा। शनिवार दोपहर में शहर सहित आसपास के इलाकों करीब आधे घंटे तक जोरदार बारिश से सड़कों पर पानी की रेलमपेल मच गई। बच्चों और युवाओं ने भीगकर बारिश का आनंद लिया।

खाद-बीज-दवा दुकानों पर भीड़

अच्छी बारिश के बाद जिले के कई स्थानों पर खरीफ की बोवनी शुरू हो गई है। कई किसान बोवनी के लिए बाजार पहुंचकर खाद, बीज, दवा सहित कृषि उपकरणों की खरीदी करने में जुटे हैं। शहर के विभिन्ना स्थानों पर खाद-बीज-दवा और कृषि उपकरणों की दुकानों पर किसानों का मेला लग रहा है। इसके अलावा बारिश से बचाव के लिए ग्रामीणजन बरसाती, कवेलू, चद्दर आदि की खरीदी भी कर रहे हैं।

जिले की तहसीलों में बारिश पर नजर

तहसील अब तक गत वर्ष की बारिश मिमी

आलोट 17.0 77.0

जावरा 230.0 206.0

ताल 82.6 109.2

पिपलौदा 85.0 75.0

बाजना 17.0 121.0

रतलाम 108.6 147.0

रावटी 100.2 186.4

सैलाना 82.0 132.0

औसत 90.2 131.7

दिन के तापमान में छह डिग्री की गिरावट

जिले में मानसून की दस्तक के बाद से तापमान में गिरावट जारी है। शनिवार को दिन व रात के तापमान में गिरावट दर्ज की गई। इससे जिलेवासियों ने राहत महसूस की। अधिकतम तापमान 30.2 व न्यूनतम 24.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। शुक्रवार की तुलना में शनिवार को न्यूनतम तापमान में 0.6 डिग्री सेल्सियस और अधिकतम तापमान में 6.0 डिग्री सेल्सियस की गिरावट आई। सुबह की आर्द्रता 86 व शाम की 82 प्रतिशत रही, जो शुक्रवार को क्रमशः 78 व 60 प्रतिशत थी।

एक नजर तापमान की चाल पर

तारीख अधिकतम न्यूनतम

19 जून 30.2 24.0

18 जून 36.2 24.6

17 जून 38.2 25.2

16 जून 38.6 25.2

15 जून 36.6 23.5

14 जून 38.2 26.6

13 जून 39.2 27.0

छुट-पुट किसानों ने शुरू की बोवनी

प्रीतमनगर। ग्राम में शनिवार को कुछ किसानों ने खरीफ की बोवनी शुरू कर दी। किसान संदीप प्रजापत ने बताया कि शुक्रवार को पर्याप्त बारिश नहीं हुई है। इससे क्षेत्र में व्यापक रूप से बोवनी शुरू नहीं हुई। जिन क्षेत्रों में जमीन में अच्छी नमी हैं, वहां किसान बोवनी कर रहे हैं। वैसे भी सोयाबीन बीज इस वर्ष काफी महंगा हैं। दस हजार रुपये में एक क्विंटल मिल रहा है। इस कारण किसान काफी सोच समझकर बोवनी करने का विचार कर रहे हैं। कम नमी की जगह बोवनी करना जोखिम भरा हो सकता है। एक-दो दिन अच्छी बारिश होने पर व्यापक रूप से बोवनी हो सकेगी।

बाजार में उमड़ी भीड़

सरवन। ग्राम सहित आदिवासी अंचल में शुक्रवार देर रात तक झमाझम बारिश हुई। पहली बारिश में ही खेत तर हो गए। खेतों में से पानी भी बह निकला। खेतों से लगे नालों में भी बहाव शुरू हो गया। किसान सहित खाद-बीज-दवा व्यापारियों के चेहरे खिलखिला उठे। शनिवार को कई किसानों ने खेतों में पहुंचकर बोवनी भी शुरू कर दी।

बोवनी से पहले बीजों की ग्रेडिंग

करिया। जोरदार बारिश के चलते आमजन को जहां उमस व गर्मी से निजात मिल गई, वहीं खेत तैयार कर खरीफ की बोवनी के इंतजार में बैठे किसानों के चेहरों पर मुस्कान लौट आई। क्षेत्र में शुक्रवार शाम आधे घंटे की तेज बारिश के बाद देर रात तक रिमझिम-तेज बारिश ने किसानों की चिंता दूर कर दी। पर्याप्त नमी के चलते शनिवार को बोवनी कार्य दोपहर बाद शुरू हो पाया। इस दौरान तेज हवा और बारिश के चलते फाल्ट होने से बिजली गुल रही। विद्युत वितरण कंपनी के कर्मचारियों ने दो घंटे की मशक्कत कर बिजली आपूर्ति बहाल की।

पूजा-अर्चना की शुरू की बोवनी

नामली। नगर सहित ग्रामीण क्षेत्र में अच्छी बारिश के बाद कई किसानों ने शनिवार दोपहर बाद खरीफ की बोवनी शुरू कर दी। कई किसानों को अभी भी बोवनी के लिए अच्छी बारिश का इंतजार है। नगर में सप्ताह भर पहले रात में हुई जोरदार बारिश से नगर की सड़कों पर पानी की रेलमपेल मच गई थी, वहीं कई खेतों में जलजमाव की स्थिति निर्मित हो गई थी। क्षेत्र में शुक्रवार शाम रुक-रुककर जोरदार बारिश होने से तावरण में ठंडक घुल गई थी। खेतों में अच्छी नमी होने के चलते कई किसानों ने पूजा-अर्चना कर शनिवार दोपहर बाद बैलों व ट्रैक्टर के माध्यम से खरीफ की बोवनी प्रारंभ की। कई किसानों को अभी भी जोरदार बारिश की दरकार है।

खेतों में जमा हुआ पानी

आम्बा। क्षेत्र में दोपहर में अचानक से बादलों की आवाजाही होने से मौसम में परिवर्तन हुआ और दोपहर दो बजे बाद तेज बारिश शुरू हो गई। करीब 45 मिनट तक तेज बारिश से ग्राम की सड़कों से पानी बह निकला। मौसम में ठंडक घुलने से आमजन को गर्मी से राहत मिली।

गुरुवार शाम क्षेत्र में पहली बारिश हुई थी। इसके बाद शुक्रवार व शनिवार को फिर से बारिश होने से आमजन के साथ-साथ किसानों के चेहरों पर मुस्कान दिखाई दी।किसानों का कहना है कि खरीफ की बोवनी की तैयारी पहले ही पूर्ण कर ली थी। लगातार तीन दिनों से बारिश होने से खेतों में जलजमाव होने लगा है। रविवार को मौसम साफ होते ही खेतों में बोवनी का कार्य प्रारंभ किया जाएगा।

बोवनी के लिए खेतों में पहुंचे किसान

सैलाना। क्षेत्र में शुक्रवार रात झमाझम बारिश हुई। इससे किसानों के चेहरे खिले-खिले नजर आए। शनिवार दोपहर बाद किसान खेतों में खरीफ की बोवनी के लिए पहुंचे। हालांकि अभी कुछ किसान ही खेत में बोवनी करने में लगे हैं। इसका एक कारण यह भी बताया जा रहा है कि सोयाबीन बीज के भाव में जबरदस्त तेजी होने से कम खेती वाले किसान और अच्छी बारिश होने का इंतजार कर रहे हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags