रतलाम (नईदुनिया प्रतिनिधि)। रावटी थाना क्षेत्र के ग्राम नाहरपुरा में वृद्ध किसान की हत्या व उनकी पत्नी से मारपीट कर जेवर व रुपये लूटकर डकैती की वारदात करने के मामले की गुत्थी सुलझा ली है। मामले में गांव के ही निवासी मुख्य आरोपित तेरू भूरिया सहित चार आरोपितों को गिरफ्तार किया गया है।

एसपी गौरव तिवारी ने पत्रकारवार्ता में बताया कि पांच व छह जून की दरमियानी रात 70 वर्षीय सरदार भूरिया निवासी ग्राम नाहरपुरा व उनकी पत्नी 65 वर्षीय झीठाबाई गांव से 800 मीटर दूर अपने निर्माणाधीन मकान के बाहर सो रहे थे। इस दौरान नकाबपोश बदमाशों ने सरदार की रस्सी से गला घोंटकर हत्या कर दी थी। इसके बाद बदमाश सरदार के हाथ में पहना चांदी का कड़ा, झीठाबाई की सोने की नथ, चांदी की छह चूड़िया व कड़े तथा घर में घुसकर पांच हजार रुपये लूटकर भाग गए थे। आरोपितों का पता लगाने के लिए एएसपी (ग्रामीण) सुनील पाटीदार के मार्गदर्शन व सैलाना एसडीओपी संदीपकुमार निगवाल के नेतृत्व में टीम गठित की थी।

रावटी टीआई लोकेंद्रसिंह ठाकुर व बाजना टीआइ रेवलसिंह बरडे ने टीम के साथ जांच की तो पता चला कि वारदात मुख्य आरोपित 22 वर्षीय तेरू भूरिया पुत्र रामचंद्र भूरिया निवासी ग्राम नाहरपुरा व उसके दोस्त 30 वर्षीय गुड्डु उर्फ गुड्डा उर्फ सोनू पुत्र लाहलिंग हारी निवासी ग्राम जानकरा हालमुकाम दीनदयाल नगर ने अन्य साथियों 50 वर्षीय हकरू हाली पुत्र वालू हारी निवासी ग्राम जानकरा थाना बाजना व बाबूलाल कटारा पुत्र जीवा उर्फ जीवणा कटारा निवासी ग्राम सज्जनपुर थाना बाजना के साथ मिलकर की है। लूटे गए जेवर आरोपित 35 वर्षीय सोनू उर्फ रवींद्र पुत्र मोहनलाल प्रजापत जाति निवासी ओसवाल नगर रतलाम हालमुकाम रावटी को बेच दिए हैं। घेराबंदी कर तेरू, गुड्डू, हकरू व रवींद्र को गिरफ्तार किया गया। सोनू के कब्जे से जेवर व अन्य आरोपितों के पास से रुपये जब्त किए गए।

तेरू व गुड्डू ने वृद्ध का गला घोंटा था

पूछताछ में आरोपितों ने बताया कि सरदार भूरिया व उनकी पत्नी सोने-चांदी के जेवर पहनते थे। उन्हें देखकर तेरू की नीयत खराब हो गई थी। तेरू को पता चला था कि चार जून को सरदार कपास बेचकर लाए पांच हजार रुपये पुराने घर से लेकर निर्माणाधीन घर ले गया है। इसके बाद तेरू रतलाम से दोस्त गड्डू उर्फ सोनू को नाहरपुरा ले गया। वहां दोनों ने साजिश रची। गुड्डू ने अपने ताऊजी के पूत्र हकरू व जीजा बाबूलाल को रात में नाहरपुरा बुलाया, फिर चारों ने हथियारों से लेस होकर सरदार के घर धावा बोला। गुड्डू ने सरदार का गला पकड़ा तथा तेरू ने उसे रस्सी से पलंग से बांध दिया। विरोध करने पर गुड्डा व तेरू ने सरदार का गला दबाकर उसकी हत्या कर दी और उसके हाथ में पहना चांदी का कड़ा निकाल लिया। हकरू ने झीठाबाई को कंधे व पैर पकड़कर दबा दिया तथा रस्सी से गला दबाने लगा तो झीठाबाई ने रस्सी पकड़ ली। तब बाबूलाल ने तलवार उनके घुटने पर वारकर चोंट पहुंचाई। झीठाबाई ने सोने की नथ उतारकर दी और कहा कि मारपीट मत करो। बाबूलाल ने उनके हाथ में पहना कड़ा व चूड़ियां ले ली। तेरू घर में घुसा तथा पलंगपेटी व ड्रम का ताला तोड़कर पांच हजार रुपये व चांदी की चेन निकाली और जंगल में भाग गए।

ईंट भट्टे के मालिक को बेचे जेवर

दूसरे दिन सुबह तेरू, गुड्डू, हकरू व बाबूलाल रावटी पहुंचे तथा तेजाजी मंदिर के ओटले पर तेरू ने ईंट भट्टे के मालिक सोनू उर्फ रवींद्र प्रजापत को बुलाकर 26 हजार रुपये में जेवर बेच दिए थे। चारों ने सात-सात हजार रुपये बांट लिए और तीन हजार रुपये शराब व खाने-पीने में खर्च कर दिए। तेरू ईट भट्टे पर ही काम करता था। बाबूलाल हाथ नहीं आया, उसकी गिरफ्तारी पर दस हजार रुपये का इनाम घोषित किया गया है। प्रकरण में धारा 120 बी व 412 का इजाफा किया गया है। तेरू, हकरू, गुड्डू व बाबूलाल को शुक्रवार को न्यायालय में पेश किया गया। न्यायालय ने रवींद्र प्रजापत को जेल भेज दिया और शेष तीनों आरोपितों को 14 जून तक पुलिस रिमांड पर रखने के आदेश दिए हैं। आरोपितों का पता लगाने व उन्हें पकड़ने वाली टीम में एसआइ रामसिंह खपेड़, प्रियंका चौहान, अल्केश सिंंघाड़, प्रधान आरक्षक पन्नाालाल भूरिया, बालूसिंह मईड़ा, देवराजसिंह, आरक्षक नरवरसिंह, कुलदीप व्यास, रितेश, शिवराम मौर्य, प्रेमसिंह तथा थाना बाजना के आरक्षक अरविंद्र सिंघाड़, महेश मईड़ा, रमेश सोलंकी व सायबर सेल के विपुल भावसार शामिल थे।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags