रतलाम। शहर सहित अंचल में गुरुवार को तेजादशमी परंपरानुसार धार्मिक उल्लास से मनाई जाएगी। तेजाजी मंदिर, स्थानक और ओटलों पर

कोविड-19 नियमों का पालन करते हुए आयोजन किए जाएंगे। तेजादशमी पर विभिन्ना श्रद्धालु जहां मन्नात पूर्ण होने पर निशान चढ़ाएंगे, वहीं वर्षभर के दौरान जहरीले जीव-जंतुओं के दंश से पीड़ितों की तांतियां उतारी व बांधी जाएगी। शहर सहित जिले के अन्य कई स्थानों पर तेजादशमी पर लगने वाले मेले कोरोना प्रोटोकाल के चलते निरस्त कर दिए गए हैं।

तेजादशमी को लेकर श्रद्धालुओं में उत्साह बना हुआ है। शहर रामगढ़ स्थित तेजाजी मंदिर पर लगने वाला मेला इस बार भी कोरोना के चलते नहीं लगा। यहां गुरुवार को कोविड गाइड-लाइन का पालन करते हुए तेजाजी की पूजा-अर्चना की जाएगी। विभिन्ना स्थानों से श्रद्धालु निशान लेकर मंदिर पहुंचेंगे। इसी प्रकार डोंगरेनगर स्थित तेजेश्वर महादेव मंदिर के समीप तेजाजी मंदिर पर अनेक धार्मिक आयोजन होंगे। यहां भी श्रद्धालु पूजा-अर्चना कर निशान चढ़ाएंगे। मंदिर पर जहरीले जीव-जंतुओं के दंश से पीड़ितों की तांतियां उतारी व बांधी जाएगी।

यज्ञ कुंड में दी आहुतियां

सिमलावदा। सत्यवीर तेजाजी की जयंती के उपलक्ष्‌य में गांव के तेजाजी मंदिर पर एक दिवसीय यज्ञ का आयोजन किया गया। यज्ञ कुंड में मंदिर समिति सदस्यों द्वारा आहुतियां दी गई। शाम को पूर्णाहुति पर आरती कर प्रसाद का वितरण किया गया। मंदिर पर आकर्षक विद्युत सज्जा की गई। तेजाजी की मूर्ति का श्रृंगार किया गया। गुरुवार तेजादशमी पर मंदिर के शिखर पर निशान चढ़ाए जाएंगे।

ढोल-ढमाकों के साथ निकलेगी झांकी

नामली। नगर सहीत ग्राम गुणावद, सिखेड़ी, बड़ौदा, कांडवासा में गुरुवार को तेजा दशमी परंपरानुसार मनाई जाएगी। तेजाजी के मंदिरों व ओटलों पर पूजा-अर्चना कर निशान चढ़ाए जाएंगे। नगर के जाट मोहल्ला स्थित तेजाजी ओटले से निशान व तेजाजी की झांकी ढोल-ढमाकों, बैंडबाजों के साथ निकाली जाएगी, जो नगर के मुख्य मार्गों से होकर ओड़ी स्थित तेजाजी मंदिर पहुंचेगी। पूजा-अर्चना के बाद निशान चढ़ाए जाएंगे। साथ ही साल भर के दौरान जहरीले जीव-जंतुओं के दंश से प्रभावित लोगों की तांतियां बांधी और उतारी जाएंगी। तेजाजी की आरती कर प्रसाद का वितरण किया जाएगा।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local