रतलाम (नईदुनिया प्रतिनिधि)। सड़क हादसों को लेकर विश्व में देश का पहले नंबर पर होना अच्छी स्थिति नहीं है। देश में पांच लाख हादसों में 1.5 लाख मौत होती हैं। इसमें 70 प्रतिशत 18 से 24 वर्ष के होते हैं। तमिलनाडु में नए प्रयोग कर 50 प्रतिशत हादसे कम किए गए हैं। अब हम केंद्रीय स्तर पर वर्ल्ड बैंक व एडीबी के साथ मिलकर 14 हजार करोड़ रुपये की लागत से हादसों को कम करने की दिशा में काम कर रहे हैं। यह बात केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने गुरुवार को जावरा के भूतेड़ा में पत्रकारों के सवालों के जवाब में कही।

एक्सप्रेस-वे का निरीक्षण करने आए गडकरी ने कहा कि हादसे कम करने, लाइसेंस व अन्य दस्तावेजों को लेकर 17 बिंदुओं पर काम हो रहा है। कुछ मामलों में राज्यों की भी भूमिका होती है। 12 हजार करोड़ की लागत से देश में चार धाम प्रोजेक्ट पर काम हो रहा है। मानसरोवर के लिए भी मार्ग बनाया जाएगा। 72 सर्किट पर 4.5 हजार करोड़ रुपये की लागत से सड़क बनवा रहे हैं। हर धर्म के धार्मिक सेंटर को प्रमुखता से जोड़ा जा रहा है। उन्होंने कहा कि एक्सप्रेस-वे पर सेना के विमान उतारने संबंधी कोई योजना अभी नहीं है, लेकिन 20 हाईवे पर विमान उतारने संबंधी काम कर रहे हैं। एक्सप्रेस-वे से किसानों को हो रही समस्या पर केंद्रीय मंत्री ने कहा कि कुछ जगह खेतों में पानी भराने की समस्या की जानकारी मिली है। सभी के निराकरण पर काम किया जाएगा। जमीनों का मुआवजा भी बाजार भाव से दो गुना दिया गया है।

किसान जमीन बेचें नहीं

गडकरी ने कहा कि किसानों को अपनी जमीन बेचने के बाद खुद ही विकास करना चाहिए। इससे आय के साधन बढ़ेंगे। कई जगह नेता जमीन खरीद लेते हैं। इससे किसानों को लाभ नहीं मिलता।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local