रतलाम। अखंड सौभाग्य की कामना को लेकर रविवार को सौभाग्यवती महिलाओं द्वारा करवाचौथ का व्रत किया जाएगा। व्रत को लेकर शनिवार को शहर के बाजार में मेले जैसा माहौल रहा। बाजार में दुल्हन की तरह सजी आभूषण, परिधान, मेहंदी, सौंदर्य प्रसाधन आदि की दुकानों पर महिलाओं की खासी रौनक रही। व्यापारियों द्वारा करवाचौथ की खरीदी के लिए महिलाओं को लुभाने हेतु आकर्षक आफर दिए गए।

हिंदू पंचांग के अनुसार अश्विन मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि 24 अक्टूबर को करवा चौथ व्रत रखा जाएगा। इस दिन सुहागिन महिलाएं सूर्योदय से पूर्व सरगी खाकर पूरे दिन निर्जल और निराहार रहकर पति की लंबी आयु की कामना करती हैं। अखंड सौभाग्य की कामना को लेकर किए जाने वाले करवाचौथ व्रत को लेकर शनिवार को दिनभर तैयारियां चलती रही। करवाचौथ के दिन सौभाग्यवती महिलाएं दिनभर निर्जल-निराहार रहकर शाम को चंद्रमा को छलनी से निहारने के बाद पति के हाथों से अन्ना-जल ग्रहण करती हैं। इसके बाद घर के बड़े-बुजुर्गों का आशीर्वाद लिया जाता है। शहर में कई स्थानों पर करवाचौथ की सामूहिक पूजा के आयोजन भी होंगे। करवाचौथ पर सजने-संवरने को लेकर भी महिलाओं द्वारा खास तैयारियां की जा रही है। सोलह श्रृंगार कर सौभाग्यवती महिलाएं छलनी से चंद्रमा को निहारकर व्रत खोलेंगी।

उत्साह के साथ की खरीदी

शहर के प्रमुख माणकचौक, नौलाईपुरा, चौमुखीपुल, चंद्रमानीचौक, न्यू रोड, दो बत्ती, सज्जन मिल रोड श्रीराम मंदिर, घास बाजार आदि क्षेत्रों में सजी करवे, पूजन सामग्री की दुकानों पर दिनभर मेले जैसा माहौल बना रहा। महिलाओं ने आकर्षक डिजाइन वाले करवे के साथ पूजन सामग्री खरीदी। इसी प्रकार सूट, साड़ी, श्रृंगार सामग्री आदि की दुकानों पर भी रौनक रही। करवाचौथ के लिए पारंपरिक लाल रंग के वस्त्र की ज्यादा मांग रही। सराफा बाजार में भी करवाचौथ की खरीदी को लेकर अच्छा माहौल रहा। अच्छी ग्राहकी से व्यापारियों के चेहरे खिल गए। उल्लेखनीय है कि उच्च गुणवत्ता व शुद्धता के मामले में रतलाम के सराफा बाजार की साख दूर-दूर तक फैली हुई है। यही कारण है कि यहां जिले के अलावा अन्य प्रांतों के लोग भी सोने-चांदी के आभूषण की खरीदी करने आते हैं। विशेष अवसरों पर तो सराफा बाजार में मेले जैसा माहौल रहता है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local