सीधी नईदुनिया प्रतिनिधि। सीधी जिले के चुरहट टिकठ खुर्द गांव में बाणसागर नहर की उप्र और मप्र कैनाल दोनों नहर एक साथ टूट गई हैं। नहर टूटने से गांव की सड़क, कधो मकान और मवेशी बह हैं। गनीमत यह रही कि नहर सुबह टूटी नहीं तो नुकसान हो सकता था। कलेक्टर के निर्देश पर चुरहट तहसीलदार मौके पर पहुंचकर जायजा लेकर नुकसान देखा है। नहर के किनारे बना एक घर टूट गया है।जिसका सर्वे किया गया है। नहर के पानी को नरकुई नदी में मोड़ कर पहुंचा दिया गया है। जिससे गांव में पानी नहीं पहुंचा है।

बता दें सोमवार की सुबह करीब 6 बजे बाणसागर की उप्र और मप्र कैनाल नहर अचानक टिकठ खुर्द गांव में टूट गई। पानी का रफ्तार तेज था। घर के किनारे बना घर क्षतिग्रस्त हो गया। पानी का बहाव तेज था जिससे आसपास की सड़कें टूट गई। खेतों में पानी पहुंच गया। नहर टूटने की जानकारी लगते ही कलेक्टर मुजीबुर्रहमान तहसीलदार चुरहट अमृता सुमन को मौके पर जाने का निर्देश दिया। मौके पर पहुंचे तहसीलदार ने तत्काल कैनाल के बहाव को नरकुई नदी की ओर मोड़कर गांव में होने वाले नुकसान को रोक लिया। बताया गया है कि बहाव के कारण कुछ मवेशी बह गए हैं जिसमें गाय, बकरी शामिल है।

गुणवत्ता पर उठ रहे सवाल : बाणसागर नहर उप्र और मप्र कैनल नहर टूट गई। कैनाल टूटने से गुणवत्ता पर सवाल उठ रहे हैं। लोगों का मानना है कि यदि पूरी गुणवत्ता के साथ बनाया गया होता तो कैनाल नहीं टूटता।

इनका कहना है

उप्र और मप्र कैनल टूट गई है। मौके पर राजस्व अमला भेजा गया है। पानी को नरकुई नदी में पहुंचाया गया। नहर के किनारे बना एक घर क्षतिग्रस्त हुआ है। खेतों में पानी पहुंचा है। जहां भी नुकसान हुआ है सर्वे कराया जा रहा है।

मुजीबुर्रहमान, कलेक्टर सीधी।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close